Read latest updates about "लाइफ स्टाइल" - Page 3

  • फादर्स डे 16 जून पर विशेष: फादर्स डे मनाने की कहानी

    -डॉक्टर अरविन्द जैन हम हर साल जून माह के तीसरे सप्ताह में फादर्स डे मनाते हैं और पिता के प्रति प्रेम व्यक्त करते हैं। लेकिन क्या कभी आपने सोचा है, कि यह परिकल्पना आई हां से और इसकी शुरुआत कैसे हुई? जानिए फादर्स डे के पीछे छुपी इस कहानी को - माना जाता है कि फादर्स डे सर्वप्रथम 19 जून 1910 को...

  • आर्थिक गतिशीलता से लक्ष्य संभव

    नरेन्द्र मोदी द्वारा दोबारा प्रधानमंत्री का पदभार ग्रहण करने के बाद आर्थिक मोर्चे पर भारतीय अर्थव्यवस्था में गतिशीलता की संभावनाएं बढ़ी हैं। अर्थ विशेषज्ञों का मानना है कि अब भारत में नयी सरकार मैन्यूफेक्चरिंग सेक्टर, बैंकिंग सेक्टर, कार्पोरेट सेक्टर, निर्यात, ई-कॉमर्स, ग्रामीण विकास, भूमि एवं श्रम...

  • विकास के नजरिये से देखें वित्तीय घाटा

    निवर्तमान एनडीए सरकार के वित्तमंत्री अरुण जेटली द्वारा वित्तीय घाटे पर नियंत्रण करने की नीति को लागू किया गया था। उनके कार्यकाल के दौरान वित्तीय घाटे में कमी भी आई है लेकिन इस सार्थक कदम के बावजूद देश की आर्थिक विकास दर 7 फीसदी के करीब सपाट रही है। नये वित्त मंत्री के सामने चुनौती है कि जेटली की इस...

  • रामायण के पात्र: धर्मावतार व अप्रतिम योद्धा महाराजा दशरथ

    रामायण के महानायक श्रीराम के जन्मदाता व अयोध्या के चक्र वर्ती सम्राट महाराजा दशरथ का नाम अपने आप में प्रात: स्मरणीय व पुण्यदायी माना जाता है। कहा जाता है कि जिसके ऊपर राम कुपित हों, उसे बस दशरथ नाम का जाप करना मात्र ही पर्याप्त है और वह समस्त पापों से छुटकारा पा कर मोक्ष को प्राप्त होता है। दशरथ...

  • 16 जून:आज ही के दिन बॉलीवुड अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती का जन्म हुआ था

    नयी दिल्ली । भारतीय और विश्व इतिहास में 16 जून की प्रमुख घटनाएं इस प्रकार हैं:-1606- सिखों के पांचवें गुरु अर्जुन देव का निधन। 1779- स्पेन ने ब्रिटेन के खिलाफ युद्ध की घोेषणा की। 1858- प्रथम भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के दौरान मोरार की लड़ाई लड़ी गयी। 1881- आॅस्ट्रिया और हंगरी ने सर्बिया के साथ...

  • महिलाओं की बढ़ती हिस्सेदारी लाएगी बदलाव

    सुखद है वर्ष 2०14 तक यह भागीदारी बढ़कर 66 प्रतिशत हो गई है। भारत की आबादी का 48.5 फीसदी हिस्सा महिलाएं हैं। यही वजह है कि देश के राजनैतिक परिदृश्य में उनकी हिस्सेदारी काफी अहम है। अभी तक माना जाता रहा है कि घर की महिलाएं प्राय: अपने घर के प्रमुख या पुरूष के निर्देश पर वोट डालती रही हैं लेकिन जब...

  • 15 जून:भारतीय और विश्व इतिहास में 15 जून की प्रमुख घटनाएं

    नयी दिल्ली। भारतीय और विश्व इतिहास में 15 जून की प्रमुख घटनाएं इस प्रकार हैं:-1389 कोसोवो के युद्ध में औटोमन (तुर्की) साम्राज्य ने सर्बिया को हराया। 1762 आस्ट्रिया में कागजी मुद्रा का चलन शुरू हुआ। 1785 गुब्बारे से उड़ान भरने के दौरान विश्व की पहली हवाई दुर्घटना में दो फ्रांसीसी नागरिकों की मौत। ...

  • बाल जगत/जानकारी: कैसे बने कार्टून कैरेक्टर

    जब भी तुम किसी कार्टून को टीवी पर देखते हो तो तुम्हारे ही क्या, साथ बैठे बड़ों के चेहरे पर भी मुस्कान आ जाती है। उसके करतब शुरू होने से पहले ही सब हंसने लगते हैं। तुम्हारे हाथ में एक बार रिमोट लग जाए तो सीधे कार्टून चैनल ही लगाने के लिए मचल जाते हो पर क्या तुम्हें पता है कि हमारे ये पसंदीदा कार्टून...

  • बोफोर्स घोटाला-कांग्रेस की दुखती रग

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने चुनावी अभियान के दौरान स्वर्गीय राजीव गांधी व बोफोर्स घोटाले का जिक्र क्या किया कि साठ के दशक में हिट हुए गीत 'हाल-ए-दिल हमने सुनाया तो बुरा मान गए' की तर्ज पर आज कांग्रेस पार्टी तिलमिलाती दिखाई दे रही है। मोदी ने उत्तर प्रदेश की एक चुनावी सभा में राहुल गांधी...

  • मिडिल एज में महिलाओं को होता डिप्रेशन..45 से 69 साल की महिलाओं पर किया है अध्ययन

    नई दिल्ली । एक नए अध्ययन में अलग-अलग उम्र में डिप्रेशन और फिजिकल ऐक्टिविटी के संबंध का पता लगाया गया है। कई महिलाओं में मिडिल एज डिप्रेशन देखा गया है। इस स्टडी में 45 से 69 साल की 1100 से ज्यादा महिलाओं को शामिल किया गया। इनमें से 15 पर्सेंट महिलाओं ने कहा कि उन्होंने डिप्रेशन का सामना किया है।...

  • मोदी के रवैए में सुधार

    - डॉ. वेदप्रताप वैदिकचार दिन पहले मैंने लिखा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपना आत्म-सम्मान क्यों घटा रहे हैं ? उन्हें शांघाई सहयोग संगठन की बैठक में भाग लेना है और उन्हें किरगिजिस्तान की राजधानी बिश्केक जाना है तो क्या यह जरुरी है कि वे पाकिस्तान की हवाई-सीमा में से उड़कर जाएं, जैसे कि...

  • स्मृतिशेष : पत्रकारिता का 'सूर्य' अस्त

    सियाराम पांडेय 'शांत' वरिष्ठ पत्रकार राजनाथ सिंह सूर्य नहीं रहे। 82 साल की उम्र में उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया। जाते-जाते अपने साथी पत्रकारों और पत्रकारिता की नई खेप को एक संदेश भी देते गए- 'कर चले हम फिदा जाने तन साथियों, अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों।' उन्होंने लंबी जिंदगी पाई। अच्छा होता...

Share it
Top