मीडिया रिसर्च में करियर

मीडिया रिसर्च में करियर

मीडिया और विज्ञापन के विस्तारित होते क्षेत्र में मीडिया रिसर्च में भी रोजगार के नित नए अवसर पैदा हो रहे हैं। बड़े मीडिया घराने, विज्ञापन एजेंसीज, मार्केट और मार्केटिंग एजेंसीज और यहां तक कि राजनेता भी कम्यूनिकेशन स्ट्रेटेजी बनाने के साथ रिसर्च करवा रहे हैं। विज्ञापन के क्षेत्र में संदेश, डिजाइनिंग और ग्राहकों, दर्शकों पर उसके प्रभाव को ले कर व्यावसायिक और मनोवैज्ञानिक दृष्टिकोण से रिसर्च होता रहा है। मीडिया रिसर्च के विद्यार्थी मीडिया, मार्केट और मार्केटिंग रिसर्च में भी जा सकते हैं।
रिसर्चर की आवश्यकता : कई कंपनियां प्रचार के लिए सोशल मीडिया काम में लेती हैं। उनके लिए सोशल मीडिया पर कंटेंट निर्माण के साथ रिसर्च भी किया जा रहा है। अब ऐसे रिसर्चर चाहिए, जो बहुआयामी हों। माखन लाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल ने हाल ही में एमएससी(मीडिया रिसर्च) का कोर्स शुरू किया।
क्या सीखते हैं विद्यार्थी : मीडिया की आधारभूत पढ़ाई के साथ विद्यार्थी को रिसर्च, उसके प्रकार, उपयोग के बारे में गहन प्रशिक्षण दिया जाता है। मीडिया के क्षेत्र में पूर्व में हुए और वर्तमान में चल रहे रिसर्च से वाकिफ कराया जाता है। चार सेमेस्टर के पाठ्यक्रम में छात्र- छात्राएं रिसर्च पर प्रायोगिक कार्य भी करते हैं ताकि उन्हें व्यावहारिक ज्ञान प्राप्त हो सके।
कहां है रोजगार के अवसर : मीडिया रिसर्च प्रोफेशनल्स को समाचार पत्र, टेलीविजन चैनल्स, न्यूज चैनल्स, एफएम, विज्ञापन एजेंसी, कन्ज्यूमर और प्रोडक्ट रिसर्च करने वाले कंपनियों में रिसर्च असिस्टेंट और रिसर्च असोसिएट के रूप में अच्छा जॉब मिल सकता है।
उपयोगी कोर्स : दो वर्षीय एमएससी(मीडिया रिसर्च) माखन लाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता और संचार विश्वविद्यालय के भोपाल एवं नोएडा परिसर से कर सकते हैं। इसके लिए 15-15 सीटें हैं।
- नरेंद्र देवांगन

Share it
Share it
Share it
Top