एच डी एल की सही मात्रा स्वस्थ हृदय के लिए बहुत जरूरी

एच डी एल की सही मात्रा स्वस्थ हृदय के लिए बहुत जरूरी

यह तो हम सबको पता ही है कि अगर हमारे शरीर में एच डी एल की मात्रा सही हो तो हृदय रोग होने की संभावना कम होती है। एच डी एल रक्त को जमने नहीं देता। एच डी एल का संबंध रक्त में शामिल ट्रिग्लिसिराइड से भी होता है। जैसे-जैसे रक्त में ट्रिग्लिसिराइड की मात्रा कम होती है, एच डी एल की मात्रा बढ़ती है। एच डी एल की 35 मिलीग्राम/ डेसिलिटर मात्रा एक स्वस्थ हृदय के लिए जरूरी है परन्तु हाल ही में अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन और अमेरिकन कॉलेज आफ कार्डियालोजी द्वारा किए गए शोध के अनुसार 45 मि. ग्रा. की मात्रा स्वास्थ्य के लिए अच्छी है। जो व्यक्ति हृदय रोगी हैं, उनके लिए यह मात्रा और भी अधिक हो सकती है। व्यायाम, सोया, प्रोटीन और विटामिन बी नाइसीन रक्त में एच डी एल की मात्रा को बढ़ाते हैं। भारत में हृदय रोगी अधिक हैं। हृदय रोग न केवल बड़ी आयु बल्कि कम उम्र में ही होने लगे हैं। हृदय रोगों का कारण केवल कोलेस्ट्रोल का बढ़ जाना ही नहीं बल्कि ट्रिग्लिसिराइडस का बढऩा और एच डी एल का कम होना भी है।

Share it
Share it
Share it
Top