शरीर में दवा का काम भी करती है चाय

शरीर में दवा का काम भी करती है चाय

पानी के बाद यदि कोई पेय सर्वाधिक पिया जाता है तो वह है चाय। चाय शरीर के लिये लाभदायक मानी जाती है। चाय के बारे में जानकारों का मानना है कि यह सौंदर्य भी बढ़ाती है। चाय के उत्पादन में भारत का अग्रणी स्थान है।
वैसे तो हम सभी जानते हैं कि चाय हमेशा से ही स्फूर्ति प्रदान करने वाला और आराम पहुंचाने वाला एक कुदरती एवं स्वास्थ्यवद्र्धक पेय रहा है। आज के समय में संतुलित आहार एवं नियमित व्यायाम की तरह चाय स्वस्थ एवं आधुनिक जीवन शैली का एक अभिन्न अंग है।
आसाम टी टे्रडर्स द्वारा जारी एक रिपोर्ट के अनुसार चाय में पाये जाने वाले फेनालिक एण्टी-आक्सीडेण्ट्स विभिन्न प्रकार के कैंसरों (फेफड़े, पेट, ग्रासनली, छोटी आंत, पाचक ग्रंथि, यकृत, स्तन व मलाशय कैंसर की संभावनाओं को काफी हद तक कम करते हैं। रोजाना के चाय के प्याले में मौजूद कैल्शियम मांसपेशियों को मजबूत बनाने में मदद करता है, साथ ही चाय में पाये जाने वाले एण्टी - आक्सीडेण्टस, गैस्ट्रिक अल्सर, ब्लड शुगर, ब्लड प्रेशर, ट्यूमरों तथा आंत संबंधी पुरानी बीमारियों से भी सुरक्षित रखता है। चाय को दांतों के लिये भी बेहद फायदेमंद बताया गया है। यह दांतों की सडऩ रोकती है।
चाय में मौजूद थीयाफ्लेविंस दांतों पर पड़ी पपड़ी पडऩे से रोकने में महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं। चाय में पाये जाने वाले ज्वैलोनायड्स एलडीएल कोलेस्ट्राल के आक्सीडेशन को रोकते हैं जो दिल की बीमारियों को काफी हद तक कम करता
है।
चाय मुख्य रुप से कैमोलिया सिनेंसिस पौधों से तैयार की जाती है लेकिन विभिन्न तरीकों की प्रक्रिया (प्रोसेसिंग) की वजह से चाय का रंग अलग-अलग होता है, जैसे काला और हरा। रिसर्च से यह भी पता चला है कि चाय की ये दोनों किस्में सेहत के लिए फायदेमंद हैं।
दुनिया भर में तीन हजार तरह की चाय पी जाती है। इनमें ब्लैक टी, ग्रीन टी, ऊलांग टी, फ्लेवर्ड टी, टिसेन आदि प्रमुख हैं।
-विकास शर्मा

Share it
Top