व्यक्तित्व को आकर्षक बनाने के चन्द सूत्र

व्यक्तित्व को आकर्षक बनाने के चन्द सूत्र

व्यक्ति के व्यक्तित्व की पहचान उसके बात करने के ढंग से होती है। आप किसी से अच्छे ढंग से बात करते हैं तो आप उसे अपनी ओर आकर्षित कर सकते हैं चाहे आपका रंग-रूप कैसा भी क्यों न हो। आपके बात करने का ढंग ऐसा होना चाहिए कि आपसे जो व्यक्ति बात कर रहा है, वह आपकी बातें सुनने के लिए मजबूर हो जाए।

सबसे आवश्यक बात यह है कि आप जिस विषय पर बोलें, उस विषय पर आपका पूर्ण अधिकार होना चाहिए। जिस विषय पर आपका ज्ञान न हो, उस विषय पर मिथ्या बोलने के बजाय चुप रहना ही अच्छा होता है। आप भी निम्नांकित बातों का ध्यान रखकर अपने व्यक्तित्व को प्रभावशाली बना सकती हैं।

- बात करते समय हमेशा सोच-समझ कर ही बात कीजिए। सामने वाले व्यक्ति की बातों को भी ध्यानपूर्वक सुनने का प्रयास कीजिए।

- कभी भी झूठ बोलकर दूसरे पर अपना प्रभाव डालने की कोशिश न करें। अगर किसी चीज के बारे में पता नहीं हो तो उस पर बोलने की अपेक्षा ध्यान देकर सुनना अच्छा होता है।

- दूसरों की बातों को पूरी तरह सुनने के बाद ही उसका जवाब देना चाहिए तथा अपनी आवाज को अधिक कर्कश न बनाकर उसे नरम बनाकर ही रखें।

- जिस विषय पर आप बोलें, उस पर आपका पूरा अधिकार होना चाहिए। अपनी गलती को सही करने की कोशिश न करें।

- बोलते समय अपने स्तर का ध्यान अवश्य रखिए। बड़ों से बात करते समय उनके लिए सम्मानजनक शब्दों का प्रयोग अवश्य करना चाहिए। सुनने वाले के रूचि के अनुसार ही बोलें।

- अपने से छोटों से बात करते समय उनसे सीमित बातें ही करें। अगर आप उनसे ज्यादा बात करेंगी तो हो सकता है कि वे आपकी बातों पर ध्यान न दें और आपका मजाक उड़ाना शुरू कर दें।

- बोलते समय अधिक हिले-डुले नहीं और न ही हाथों को हिलाएं। बोलते समय मुंह से थूक न निकले, इसका ध्यान अवश्य ही रखना चाहिए।

- किसी भी महफिल में किसी पर कोई इस तरह का कमेन्ट न करें जिससे उस व्यक्ति का अपमान हो। दूसरे व्यक्ति के वस्त्रों, रंग-रूप या हाव-भाव पर टिप्पणी न करें।

- किसी की बुराई करने से परहेज करें। अगर कोई किसी की बुराई कर रहा हो तो क्षमा मांगते हुए या तो वहां से हट जायें या फिर चुपचाप सुनती रहें।

- अगर दूसरे व्यक्ति से बातें करते समय कोई गलत बात मुंह से निकल जाती है तो उस बात को लेकर उसकी हंसी न उड़ायें और न ही उसे बीच में ही टोकें। आपके ऐसा करने से सामने वाला व्यक्ति आपको सम्मान से देखेगा।

- बच्चों के सामने बड़ों के लिए अपशब्द न कहें। बच्चों में सभी से सम्मानपूर्वक बोलने तथा प्रणाम करने की आदत को डालिए।

- अगर दो व्यक्ति आपस में बात कर रहे हों तो बिना मांगे अपनी सलाह न दें और अपने घर की बुराइयों का जिक्र भी हितैषी जानकर दूसरों से भी न करें।

- पहली बार किसी से बात कर रही हों तो संयम से बात करें तथा शालीनता का ध्यान अवश्य रखें। हर बात पर ठहाका लगाकर न हंसें और सार्वजनिक स्थान का भी ध्यान रखें।

- किसी के बारे में कोई गलत बात न करें। अगर यह बात उसके कानों तक पहुंच गयी तो उसकी नजरों में आपके लिए सामान कम हो जाएगा। अगर आपमें ऐसी कोई आदत है, जिसके बारे में घर के सदस्य भी आपको कई बार टोक चुके हों तो ऐसी आदत को छोडऩे की कोशिश करें।

- बढ़ती आबादी के कारण मकान भी प्राय: पास-पास और ऊपर नीचे होते हैं। ऐसे में जहां तक सम्भव हो, धीरे-धीरे ही बोलें जिससे पास के घरों तक आपकी आवाज न पहुंचे और उन्हें आपसे कोई असुविधा न हो। अपने घर के टी.वी. या अन्य वाद्ययंत्रों की आवाज को भी धीमा ही रखना चाहिए।

- पूनम दिनकर

Share it
Top