जब खरीदने जाएं घर की लाइट्स

जब खरीदने जाएं घर की लाइट्स

यदि आप नया घर बनवा रहे हैं या फिर घर की रेनोवेशन करवा रहे हैं तो घर के अन्य इंटीरियर के साथ साथ लाइट्स पर भी उतना ही ध्यान दें जितना अन्य सजावटी चीजों पर देने जा रहे हैं। आधुनिक घर के लिए लाइट्स का भी अहम रोल होता है। लाइट्स के बाजार में हर अवसर, हर कमरे जैसे ड्राइंग रूम, बेडरूम, रसोई, बाथरूम आदि की अनेकों वैरायटी उपलब्ध हैं।

विभिन्न आकार, डिजाइन और विभिन्न रंगों की लाइटस को कमरे के आकार और दीवारों से मेल खाते रंगों में खरीदा जा सकता है। लाइटस खरीदने से पहले कुछ बातों को ध्यान में रखते हुए लाइट्स की खरीदारी करें।

कमरे में लाइट्स का रंग कमरे की दीवारों से मेल खाता खरीदें। हल्के रंग की दीवारों के साथ यदि हल्के रंग की लाइट्स होंगी तो कमरा बड़ा दिखाई देगा। यदि कमरे की दीवारों का रंग कुछ गहरा है और लाइट्स भी गहरे रंग की होंगी तो कमरा छोटा दिखाई देगा। इस बात पर विशेष गौर फरमाएं।

दो बच्चों के लिए एक ही बैडरूम और स्टडी रूम है तो दोनों बच्चों की स्टडी टेबल पर टेबल लैंप अवश्य खरीद कर रखें ताकि जिस बच्चे ने अधिक समय पढऩा हो तो दूसरे की नींद में व्यवधान न पड़े। टेबल की रोशनी भी ऐसी हो जो आंखों को चुभे नहीं। वैसे आजकल बाजार में ऐसी लाइट्स भी उपलब्ध हैं जिन्हें कम या अधिक किया जा सकता है।

घर में बच्चों और अन्य लोगों की पसंद का भी ध्यान रखते हुए लाइट्स खरीदें पर कमरे के रंग का भी ध्यान रखें। लाइ्टस ऐसी खरीदें जो बिजली की बचत भी करें। खाली सजावटी ही न हो।

ड्राइंगरूम यदि अधिक बड़ा है तो मध्य का झूमर और साइडस की लाइटस उससे मैच खाती हों। यदि ड्राइंग रूम अधिक बड़ा नहीं है तो कार्नर पर हैगिंग झूमर लगवायें। घर के हर कमरे की लाइट्स के साथ बालकनी, मेन गेट, वॉशबेसिन, सीढिय़ों, शोकेस और गैलरी पर लाइट लगवाना न भूलें।

मेन गेट पर रोशनी अच्छी होनी चाहिए ताकि रात्रि या अंधेरे में घर पर प्रवेश होने वाले व्यक्ति को आसानी से देखा जा सके और आने वाला भी निश्चिन्त होकर अंदर प्रवेश कर सके। लॉबी की व्यवस्था घर में हो तो उसमें भी लाइट अवश्य लगवायें। आजकल घरों में स्पेशल लाइट्स का इंतजाम भी किया जाता है जैसे म्यूजिकल लाइट, हैंगिंग और कार्नर लाइट आदि। आवश्यकता और पसंद अनुसार इन पर ध्यान दें।

किचन की लाइट खरीदते समय इस बात पर विशेष ध्यान दें कि उसकी रोशनी पर्याप्त होनी चाहिए। डिजाइन ऐसा हो कि उसमें रोशनी का प्रभाव अधिक लगे।

हर कमरे में कम से कम दो लाइट अवश्य लगवायें, एक डिम और दूसरी तेज ताकि आवश्यकता अनुसार उनका प्रयोग किया जा सके। बच्चों के और बुुजुर्गों के कमरे में नाइट लाइट का प्रावधान रखें ताकि यदि वे चाहें तो सारी रात लाइट जला कर रख सकें।

लाइट्स खरीदने से पहले इन बातों को ध्यान में रखते हुए आप अपने अशियाने को रोशन रख सकते हैं।

- सुनीता गाबा

Share it
Top