सावधानी जरूरी है कपड़े धोते समय

सावधानी जरूरी है कपड़े धोते समय

फैशन के दौर में बाजार में कई प्रकार के फेब्रिक्स उपलब्ध हैं जैसे कॉटन,शिफान,जार्जेट, सिल्क, पालिस्टर, लिनेन आदि। इन सभी तरह के फेब्रिक्स की देखभाल भी अलग से करनी पड़ती है ताकि कपड़े अपनी पहचान न खो बैंठे।

अधिकतर लोग सभी तरह के कपड़ों को एक साथ भिगोकर धोते हैं। यह गलत है, विशेषकर जब हम वाशिंग मशीन में धोते हैं या हाथ से धोते हैं। सबका टेक्सचर अलग होने से उन्हें विभिन्न समय तक भिगोना होता है। कुछ फेब्रिक को थोड़ा सा भिगोकर साथ ही उसे धोकर सुखाना होता है। कुछ को थोड़े ज्यादा समय तक भिगोना होता है। आइए जानें विभिन्न फेब्रिक्स की देखभाल कैसे करें:-

सूती फेब्रिक:-

- सूती कपड़े अन्य कपड़ों से धोने आसान होते हैं। इन्हें आप गुनगुने पानी में थोड़ी देर भिगोकर धो सकते हैं और मशीन से भी भी धो सकते हैं।

- इन कपड़ों को हम मशीन से सुखा भी सकते हैं।

- सूती वस्त्रों का रंग जल्दी खराब होता है और दूसरे कपड़ों पर आसानी से आ जाता है। भिगोने से पहले जांच लें कौन से कपड़ों का रंग निकलता है। उन्हें अलग से धोएं।

- सफेद और लाइट कलर के कपड़ों को इकटठा धो,सुखा सकते हैं। धोते समय अच्छे वाशिंग पाउडर का प्रयोग करें। सफेद कपड़ों पर हल्का सा नील लगाएं ताकि पीलापन न आने पाए।

लिनेन फेब्रिक:-

-लिनेन फेब्रिक को कभी भी गर्म पानी से न धोएं। हमेशा ताजे या हल्के से गुनगुने पानी से धोएं। गर्म पानी इस फेब्रिक को खराब कर सकता है।

- इस फेब्रिक को धोने के लिए हार्ष डिटर्जेंट का प्रयोग न करें। माइल्ड डिटर्जेंट का प्रयोग करें।

- रंगीन लिनेन के कपड़ों को सफेद लिनेन के कपड़ों से अलग धोएं। अगर आप वाशिंग मशीन से धो रही हैं तो उसे डेलीकेट मोड पर रख कर ही धोएं।

- मशीन से लिनेन कपड़ों को न सुखाएं। इनका फेब्रिक खिंच सकता है।

- इस फेब्रिक पर ब्लीच का प्रयोग न करें।

पालिस्टर:-

- इस फेब्रिक को धोना आसान होता है। इसे गुनगुने पानी से धोएं। इसे मशीन में भी धो सकते हैं।

- इस फेब्रिक को मशीन में सुखाया जा सकता है।

- इसे प्रेस करना भी आसान होता है पर ज्यादा गर्म प्रेस का प्रयोग न करें।

- इस फेब्रिक का रंग नहीं छूटता। इन्हें इक_ा कर धोया जा सकता है। फिर भी अधिक डार्क कलर को पहले पानी से निकाल का पक्का कर लें ताकि अन्य कपड़े खराब न हों।

गर्म फेब्रिक:-

- गर्म फेब्रिक जो महंगा हो, उसे प्रारंभ में ड्राईक्लीन करवाना बेहतर है। पुराने या थोड़े सस्ते फेब्रिक को आप लिक्विड डिटर्जेंट में धोएं क्योंकि गर्म कपड़े काफी नाजुक होते हैं।

- गर्म कपड़ों को कभी मशीन में न सुखाएं, न ही मशीन में धोएं। अलग बाल्टी में भिगोकर साथ-साथ हल्के हाथों से मलकर धोएं।

- पशमीना फेब्रिक को भी गर्म कपड़ों की तरह धोएं या शुरू में ड्राईक्लीन कराएं।

- सुखाते समय इन्हें समतल जगह पर पुराना कपड़ा या तौलिया बिछाकर सुखाएं। पहले नलके पर रखकर थोड़ा पानी निकल जाने दें और फिर हल्के हाथों से दबाकर उसका पानी निकालें।

सिल्क फेब्रिक:-

- सिल्क फेब्रिक बहुत ही नाजुक फेब्रिक होता है। उसे नजाकत से धोना चाहिए।

तभी आपको उसका साथ लंबे समय तक मिल पाएगा।

- इस फेब्रिक को ताजे पानी से धोएं। प्रारंभ में एक-दो बार ड्राईक्लीन करवा लें तो ज्यादा सुरक्षित रहेंगे। गर्म पानी का प्रयोग बिलकुल भी न करें। इनके रंग जल्दी फीके पड़ जाते हैं। अगर टैग पर 'ड्राईक्लीन ओनली' है तो उन्हें घर पर धोकर उसकी शोभा न घटाएं।

- सिल्क के कपड़ों पर स्टीम प्रेस कराएं। अगर घर पर करना भी है तो लो हीट पर करें।

- सिल्क के कपड़ों को न जोर से निचोडं, न ही मशीन में ड्राई करें। हल्के हाथों से दबाकर पानी निकालें और समतल भाग पर सुखाएं।

- सिल्क पर अगर कभी दाग भी लग जाए तो उस डे्रस को पूरा धोएं या ड्राइक्लीन कराएं, दाग वाले स्थान को धोने से रंग में अंतर आ जाएगा।

- इन्हें धूप में भी न सुखाएं।

- अगर पसीने या डियो का दाग है तो स्प्रे बॉटल में सफेद विनेगर पानी में मिलाएं या नींबू का रस पानी में मिलाकर उस स्थान पर स्प्रे कर हल्का सा रगड़ दें।

- सिल्क के रंग जल्दी फेड होते हैं। इसकी जांच धोने से पहले कर लें। रूई के फाहे पर हल्का सा लिक्विड डिटर्जेंट लगाएं और कपड़े के उलटी तरफ हल्का सा रगड़कर देख लें।

इस प्रकार अपने फेब्रिक को जानें और उसकी केयर करें।

- सुनीता गाबा

Share it
Top