जान की दुश्मन पॉलिथिन

जान की दुश्मन पॉलिथिन

रोजमर्रा की दिनचर्या में चाहे अनचाहे बड़ी मात्र में पॉलिथिन घर के कूड़े के साथ सडकों पर या फिर कूड़ा घर पहुंचती हैं। चूंकि ज्यादातर केले के छिलकों या फिर सब्जी के पत्तों व डन्ठल को पॉलिथिन में भर कर कूड़े पर डाला जाता है, इस कारण इन छिलकों व पत्तों को खाने के लालच में मवेशी पॉलिथिन भी खा जाते हैं जो पेट में जाकर पच नहीं पाती और जहरीले रसायन से बनी होने के कारण मवेशियों के लिए मौत का कारण बन जाती हैं।

पॉलिथिन से मनुष्य व मवेशी दोनों को बचाने व पर्यावरण संरक्षण के लिए पर्यावरण संरक्षण अधिनियम 1986 में पुन:चक्रित प्लास्टिक नियम 1999 यथा संशोधित 2003 के तहत पुन चक्रित प्लास्टिक से बने आकार में 8गुणा12 इंच के कैरी बैग और उनके नियम 8 में विनिर्दिष्ट न्यूनतम मोटाई के अनुरूप नहीं होने पर बनने व बाजार में बिकने वाली पॉलिथिन प्रतिबंधित होगी। रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

इस अधिनियम का उल्लंघन करने पर यानी प्रतिबन्धित पॉलिथिन की बिक्री व उपयोग करता पाया जाने पर उत्तराखण्ड में एक माह का कारावास या 5000 रूपये जुर्माना अथवा दोनों रोपित करने का प्रावधान है लेकिन ऐसे मामले में दूसरी बार दोष सिद्ध होने पर सजा बढ़ जाएगी और छ: माह का कारावास व दस हजार रूपये अधिरोपित किया जाएगा। इस दण्ड व्यवस्था के बावजूद आज भी खुले बाजार में प्रतिबन्धित पॉलिथिन का उपयोग धडल्ले से किया जा रहा है।

औद्योगिक इकाइयों में भारी मात्र में पॉलिथिन बनाये जाने और फिर उसे बाजार में उतारने से जहां पर्यावरण पर खतरे के बादल मंडराने लगे हैं, वहीं मनुष्य और मवेशी दोनों के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड रहा है। पॉलिथिन का प्रयोग रोकने के लिए न सिर्फ राज्य स्तर पर बल्कि राष्ट्रीय स्तर पर भी जन जागरूकता अभियान चलाने की आवश्यकता है वरना जहर रूपी पॉलिथिन में खरीदकर लाई गई खाद्य सामग्री भी नुक्सानदेह होकर हमारे स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव डाल कर हमें तबाह व बर्बाद कर सकती है वहीं हमारे मवेशी भी बेमौत मरने से नहीं रूक पाएंगे। तो संकल्प लीजिए आज के बाद आप कभी पॉलिथिन को हाथ नहीं लगाएंगे और न ही दूसरों को पॉलिथिन का उपयोग करने देंगे। तभी हमारा पर्यावरण ,हमारे मवेशी और हम सुरक्षित रह सकते हैं।

- श्रीगोपाल नारसन

रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

Share it
Top