लड़के फैशन रूप संवारने के लिए करें

लड़के फैशन रूप संवारने के लिए करें

आज फैशन की अन्धाधुंध दौड़ में अगर लड़कियां प्रथम स्थान पर हैं, तो लड़के भी पीछे नहीं रहे। लड़कों को हमेशा से यह शिकायत रहती है कि लड़कियां उनके जैसे कपड़े पैन्ट, शर्ट जीन्स पहनती हैं पर वे लोग लड़कियों के कपड़े नहीं पहन सकते। कपड़ों के क्षेत्र में न सही पर आभूषण (ज्वैलरी) के क्षेत्र में लड़कों ने कदम आगे बढ़ा लिये हैं। कानों में बाली का फैशन तो प्राय: देखने को मिलता है। गले में मोतियों की माला, हाथों में चूडिय़ों की जगह ब्रेसलेट तक बात पहुंच ही चुकी है। और तो और, लंबे बाल रखने का फैशन भी अपना लिया गया है। शायद इससे लड़कों की यह शिकायत तो दूर हो गई कि उन्होंने लड़कियों से फैशन में कोई मात नहीं ली। लेडीज ब्यूटी पार्लर के साथ-साथ जेन्टस ब्यूटी पार्लरों की संख्या में भी बढ़ोत्तरी हो रही है। फेशियल, ब्लीचिंग, हेयर सेटिंग, वैक्सिंग न केवल स्त्रियां बल्कि पुरूषों की भी आवश्यकता बन गये हैं। पहले विवाह वाले दिन लड़की ब्यूटी पार्लर में तैयार होती थी, अब लड़का भी ब्यूटी पार्लर से तैयार होता है। जहां तक तैयार होने की बात है वह तो समझ में आती है परन्तु ज्वैलरी पहनना और इतने लम्बे-लम्बे बाल रखना क्या वाकई उनकी खूबसूरती में चार चांद लगाता है। चलिए पता करते हैं इस बारे में लोग क्या सोचते हैं। अमिता से जब इस विषय पर बातचीत की गई तो उसका कहना था कि फिल्मों तक ये सब बातें ठीक लगती हैं क्योंकि कलाकार या मॉडल को अपनी एक अलग पहचान बनानी होती है, परन्तु जब वह किसी आम लड़के को कान में बाली या लंबे बाल रखे देखती है तो उसे वह डिसेन्ट नहीं लगता। एक अच्छा भला लड़का भी बदमाश प्रतीत होता है। रीटा, कामिनी, नीता सभी के ख्याल से लड़के लम्बे बाल रख कर सुंदर नहीं बल्कि भद्दे प्रतीत होते हैं। उन सब का यह भी कहना है कि कि फिल्मी कलाकार भी पर्दे तक ही ठीक लगते हैं। अगर वह आम जिंदगी में सब के सामने आएं तो वे भी अच्छे नहीं लगेंगे। पर्दे पर अधिकतर विलेन को ही लंबे बाल व ज्वैलरी में दिखाया जाता है। वही देखने का नजरिया हम लोग अपना लेते हैं और ज्वैलरी पहनने व लंबे बाल रखे हुए लड़के हमें बदमाश ही प्रतीत होते हैं।

वैसे भी यह जरूरी तो नहीं कि हर फैशन सबको सूट करेगा, इसलिए फिल्मी कलाकारों की नकल ठीक नहीं क्योंकि पर्दा, पर्दा ही होता है और आम जिंदगी उससे बिलकुल अलग। किसी की नकल की हुई चीज तो ठीक हो भी नहीं सकती इसलिए जो इमेज एक लड़के की है, वो वैसी ही रहनी चाहिए और जो इमेज एक लड़की की है उसे भी वैसा ही रहना चाहिए। फैशन रूप संवारने के लिए करें न कि रूप बिगाडऩे के लिए।

- सोनी मल्होत्रा

Share it
Share it
Share it
Top