Read latest updates about "लाइफ स्टाइल" - Page 1

  • विश्लेषण: देश ने बढ़ाई विदेश में अपनी साख

    वर्ष 2014 के आम चुनाव प्रचार में नरेन्द्र मोदी ने कभी-कभार पाकिस्तान का जिक्र जरूर किया लेकिन देश की विदेश नीति को लेकर उन्होंने कोई खास टीका-टिप्पणी नहीं की। सत्ता संभालने के साथ ही मोदी के तेवर दूसरे थे। अपने शपथ ग्रहण समारोह में दक्षिण एशिया के सभी देशों के प्रमुखों को आमंत्रित कर उन्होंने इस...

  • नया नाता जोडऩे से पहले पुराने संबंधों को कहिए अलविदा

    संबंध जितनी जल्दी जुड़ते हैं, शायद उतनी जल्दी टूट भी जाते हैं। इतने लंबे संबंध क्षण भर में समाप्त हो जाते हैं और आप पुन: अकेले हो जाते हैं। विवाह जैसे पवित्र रिश्ते का अंत तलाक में हो जाता है। विवाह या कोई रिलेशनशिप, जब टूटती है तो व्यक्ति अकेलेपन व डर का शिकार हो जाता है। उसका विश्वास खत्म हो जाता...

  • स्वस्थ शरीर का आधार - सम्पूर्ण आहार

    शरीर को चुस्त दुरूस्त रखने के लिए उचित भोजन का महत्त्वपूर्ण हाथ है। इंसान आहार लेना तब से शुरू कर देता है जब वह मां के गर्भ में होता है। आहार (भोजन) वह खाद्य पदार्थ है जो हम खाते हैं। भोजन के अलावा हमें जल, वायु, अग्नि आदि की भी आवश्यकता होती है। इस प्रकार उचित आहार के लिए प्रोटीन, वसा,...

  • चाकलेट का सच: चाकलेट विदेशी मिठाई

    चाकलेट विदेशी मिठाई है। यह अब विदेशों के समान ही भारत में सर्वत्र मिल जाती है। इन दिनों वैज्ञानिक ब्लैक अर्थात् डार्क चाकलेट का बड़ा गुणगान कर रहे हैं। इसे हार्ट के लिए मुफीद तथा एंटीकोलेस्ट्राल, एंटी आक्सीडेंट्स का अच्छा स्रोत बता रहे हैं। इसे तनाव व अवसाद दूर करने वाला, रक्तचाप नियमित करने वाला,...

  • ताकि पलक झपकते ही आ जाए आपको गहरी नींद

    कहते हैं कि एक व्यक्ति को गहरी नींद की ठीक उतनी ही जरूरत होती है जितनी उसे खाने और पीने की होती है। कई बार दिन भर के कामकाज के बाद जब हम रात को बिस्तर पर आराम से सोने की कोशिश करते हैं तो नींद आने का नाम नहीं लेती। ऐसे में ठीक से नींद न आना वाकई एक समस्या पैदा कर सकती है। यदि दिनभर थकने के बाद भी...

  • फारूख अब्दुल्ला द्वारा भारत माता की जय

    फारुख अब्दुल्ला द्वारा भारत माता की जय बोलने पर उन के साथ हुई अभद्रता और धक्का-मुक्की पर पढ़े-लिखे लेकिन बंद दिमाग वाले मुस्लिम समाज और वामपंथी समाज की गहरी खामोशी पर मुझे कुछ नहीं कहना। इसलिए भी कि हमारे देश में वामपंथी समाज और मुस्लिम समाज दोनों ही एक बंद समाज हैं। इन से भला क्या कहना , क्या...

  • जानलेवा बीमारियों से बच्चों को बचाती हैं वैक्सीन

    चिकित्सा वैज्ञानिकों के अथक प्रयास से संक्रामक रोगों से लोगों के बचाव के लिए तरह-तरह की नई वैक्सीनें आविष्कृत हो गई हैं। ये वैक्सीन सरकारी अस्पतालों और प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर पर्याप्त मात्र में उपलब्ध हैं। मार्केट में भी इन्हें आसानी से प्राप्त किया जा सकता है लेकिन इन्हें सिर्फ कुछ ही लोग...

  • विश्लेषण: नवजोत सिद्धू की सोच अच्छी पर पाक से रिश्ते सुधरने में ढेरों अड़चनें

    क्रिकेटर से सियासतदान बने नवजोत सिंह सिद्धू पंजाब के कैबिनेट मंत्री हैं। उनके क्रिकेटर सखा इमरान खान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बन गए हैं। दोनों क्रिकेट मैचों में कमेंटरी भी साथ साथ करते रहे हैं पर अब दोनों सियासतदान हैं। यह भी सच है कि सियासत का मैदान क्रिकेट के मैदान से बहुत अलहदा होता है। नवजोत...

  • राष्ट्ररंग: जनता को अकर्मण्य न बनाये सरकार

    'अजगर करे न चाकरी, पंछी करे न काम, दास मलूका कह गये सबके दाता राम' संत मलूक दास जी के इस दोहे के अनुपालन के उद्देश्य के लिये, इन दिनों देश में तरह तरह की योजनाएं चल रही हैं। अकर्मण्य और नाकारा लोगों के हितार्थ सरकारें नित नई घोषणाएं कर रही हैं। कहीं कर्ज माफी हो रही है, तो कहीं लोक अदालतें लगाकर...

  • विज्ञापनों की भरमाती दुनियां

    किसी समय विज्ञापन का सीधा सपाट अर्थ होता था अपने उत्पाद की विशेषताएं बताकर उन्हें लोगों के सामने रखना। इसके बाद समय बदला और दौर शुरू हुआ अपने उत्पाद को अन्य उत्पादों से बेहतर बताने का सिलसिला। सबसे दु:खद बात यह रही कि इसके लिए व्यावसायिक प्रतिबद्धता और व्यापार के साधारण नियमों को भी ताक पर रख दिया...

  • अनेक प्रकार के होते हैं शरीर में दर्द

    दर्द स्वयं में कोई रोग नहीं है बल्कि यह रोगों का एक लक्षण ही होता है। चिकित्सक भी दर्द को 'बीमारियों का आईना' कहते हैं। दर्द के अनेक रूप होते हैं। रोग के आधार पर दर्द के अनेक रूप होते हैं। दर्द शरीर के एक भाग से शुरू होकर दूर के किसी भी भाग में अपना असर दिखा सकता है। इसे 'वांडरिंग पेन' कहा जाता...

  • सेहत को बरबाद कर रहा हाई ब्लड प्रेशर

    हाई ब्लड प्रेशर अब एक आम बीमारी बन गई है। यह कभी भी एकसमान नहीं रहता। यह कम ज्यादा होते रहता है। यह सभी वर्ग, धर्म, व्यवसाय के लोगों को होता है। कम आयु के लोग भी अब इसकी चपेट में आ रहे हैं। इसके कई कारण हैं किन्तु समुचित उपचार के अभाव में यह खामोश हत्यारा शरीर के कई अंगों को प्रभावित कर उन्हें...

Share it
Share it
Share it
Top