Read latest updates about "लेडीज स्पेशल" - Page 3

  • दांपत्य जीवन में संकट के मोड़

    कहा जाता है कि पुरूष बेवफा होते हैं और विवाह के पश्चात् भी वह अपनी इस आदत से बाज नहीं आते पर ऐसा केवल पुरूष ही नहीं करते। आज स्त्रियां भी एक्स्ट्रा मेरिटल अफेयर बनाने से पीछे नहीं हटती। हां, पुरूषों की संख्या जरूर महिलाओं से ज्यादा है, इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता पर पुरूष आखिर अपने वैवाहिक...

  • निखारें अपनी आंखों का सौंदर्य

    कहते हैं आंखें हैं तो संसार है। जरा कल्पना करें कि यदि आंखें न होती, तब हमारी जिंदगी और दुनियां क्या होती? कुदरत की खूबसूरती, अध्ययन और समस्त कार्यों को अंजाम देना असंभव होता। आंखें अगर आकर्षक और प्रभावी हों तो पूरे व्यक्तित्व की खूबसूरती बढ़ जाती है। आंखों के जरिए आप वे सभी बातें प्रभावी ढंग से...

  • चालीस के बाद भी दिखिए स्वस्थ और सुन्दर

    चालीस की उम्र को पार करते ही महिला हो या पुरूष, अपने में बहुत से परिवर्तन पाते हैं। महिलाओं में ये परिवर्तन जल्द देखने को मिलते हैं। इन परिवर्तनों में मुख्य होते हैं अनिद्रा की समस्या, कमर का नाप बढ़ जाना, हेयर टेक्सचर में बदलाव, वजन का बढ़ जाना, एनर्जी कम होना, आस्टिओपोरोसिस व आस्टिओआर्थराइटिस की...

  • व्यक्तित्व की शान हैं पुष्ट वक्षस्थल

    स्तन स्त्रियों के आभूषण होते हैं। उन्नत स्तनों वाली महिलाएं न सिर्फ पुरूषों को विशेष रूप से अपनी ओर आकर्षित करती हैं बल्कि रति क्रिया की धुरी भी स्तन ही माने जाते हैं। गोल, कठोर एवं पूर्ण विकसित स्तन, आदर्श स्तन कहलाते हैं। उचित देखभाल के अभाव में स्तन अविकसित रह जाते हैं या बहुत मोटे हो जाते हैं।...

  • आदतों के गुलाम न बनें

    जिन कामों या बातों को व्यक्ति दुहराता रहता है, वे स्वभाव में शामिल हो जाती हैं और आदतों के रूप में प्रकट होती हैं। कई लोग आलसी प्रवृत्ति के होते हैं। वैसे जन्म से दुर्गुण लेकर कोई पैदा नहीं होता। अपनी गतिविधियों में इस प्रवृत्ति को शामिल कर लेने और उसे बार-बार दुहराते रहने से अभ्यास बन जाता है। यह...

  • उम्र से पहले आई झुर्रियों को दूर रखें

    उम्र के साथ त्वचा पर झुर्रियों का आना तो स्वाभाविक प्रक्रिया है पर उम्र से पहले आई झुर्रियां किसी को भी अच्छी नहीं लगती। उम्र से पहले झुर्रियां अक्सर उन लोगों में दिखाई देती हैं जो तनावग्रस्त रहते हैं, पानी कम पीते हैं, पौष्टिक आहार का सेवन नहीं करते, ज्यादा बीमार रहने वालों की भी त्वचा में...

  • बच्चों की दूसरे बच्चों से तुलना मत करें

    अक्सर माता पिता द्ब्र दूसरों के बच्चों की प्रतिभा से प्रभावित हो कर कभी-कभी अपने बच्चों की तुलना दूसरे बच्चों से कर बैठते हैं। उनको इसका मान नहीं होता कि उनके इस रवैय्ये का प्रभाव आपके बेटी बेटे के नाजुक मानस पटल पर कितना हानिकारक प्रभाव पड़ता है। वह हीनभावना का शिकार हो जाता है जिससे वह सारी...

  • प्यार को खेल न समझें

    प्यार या प्रेम क्या है? यह क्यों उठता है? इन विषयों पर सदियों से अनुसंधान होता चला आ रहा है, सदियों से लिखा जा रहा है परन्तु अभी तक शब्दों के रूप में इसकी अभिव्यक्ति नहीं हो पायी है क्योंकि प्रेम अनुभव करने की वस्तु है न कि अभिव्यक्ति की। प्यार एक भावना है जिसका नामकरण प्यार करने वालों की क्रिया...

  • ध्यान दें अपने स्टाइल पर

    आज के युग में हर व्यक्ति अपने आप को आकर्षक बनाए रखना चाहता है। आकर्षक बनाए रखने के लिए कुछ स्टाइल तो अपनाने पड़ते हैं जिससे आप दूसरों से कुछ अलग दिखाई दें। - जब आप कुछ सोच रहे हैं तो सिर को न खुजायें, न ही नाखून चबायें। जोर जोर से अपने पैरों को न हिलाएं। ऐसा करना आपकी छटपटाहट को दर्शाता है। -...

  • सुंदरता का प्रतीक हैं स्वस्थ नाखून

    स्वस्थ नाखून सुन्दर हाथों का आइना हैं। नाखून भी शरीर का महत्त्वपूर्ण अंग हैं जिन्हें आवश्यकता होती है देख रेख की। लम्बे, सीधे नाखून हाथों की शोभा बढ़ाते हैं और अच्छे स्वास्थ्य को भी दर्शाते हैं। आप भी चाहते हैं कि आपके नाखून सुन्दर और स्वस्थ रहें तो ध्यान दें कुछ बातों पर। - नाखूनों को गुनगुने दूध...

  • क्यों डरती हैं महिलाएं रात में

    नारी का अंधेरे के प्रति खौफ वर्तमान युग की ही देन है, हम ऐसा नहीं कह सकते। वास्तव में देखा जाए तो शताब्दियों से ही औरतें अंधेरे के प्रति भय को अपने अंदर पालती आयी हैं। हां, इतना अवश्य होता है कि युग परिवर्तन के साथ-साथ उसके संदर्भों में फर्क जरूर आता है। नारी की प्रकृति ही ऐसी होती है कि वह रात के...

  • क्या आपके अच्छेपन का इस्तेमाल हो रहा है

    मानव स्वभाव है जो करता है उसका इस्तेमाल सब कोई करता है। जिसका इस्तेमाल होता है उसे कुछ समय बाद बोध होता है कि मेरे भलामनसाहत का प्रयोग कुछ ज्यादा ही हो रहा है। ऐसे में वह स्वयं को ठगा हुआ महसूस करता है। झुंझलाहट होने लगती है और अंदर ही अंदर कुढ़ता रहता है और सोचता है मैं क्यों इस्तेमाल होता हूं। यह...

Share it
Top