गर्मियों में सुकून देती हैं स्कर्ट

गर्मियों में सुकून देती हैं स्कर्ट

पिछले कुछ वर्षों में फैशन में जो बदलाव आए हैं, उनके अनुसार गर्मियों में जीना बहुत आसान हुआ है। भारी भरकम और पूरे शरीर को ढकने वाले परिधान गरमी में नुकसान ही पहुंचाते हैं।
पाश्चात्य संस्कृति से जो कुछ हम सीख रहे हैं, वह भी बुरा नहीं, जैसे स्कर्ट को ही ले लीजिए। लम्बे-लम्बे सलवार कुर्तों और भारी साड़ी की जगह अगर गरमियों में स्कर्ट पहनी जाती है तो गर्मी से कुछ हद तक निजात मिल पाती है।
स्कर्ट अब पाश्चात्य पोशाक नहीं रही। हमारे भारतीय डिजाइनरों ने इसे आम भारतीय की जरूरत के अुनसार कई शैलियों में बांट दिया है, जिस कारण यह हमारे देश में स्वीकारी गयी और आज गर्मियों की सबसे बेहतर पोशाक बन चुकी है।
स्कर्ट को हम कई रूपों में देख सकते हैं, जैसे-शॉर्ट स्कर्ट, मिनी स्कर्ट और लांग स्कर्ट। डिजाइनरों ने स्कर्ट के ये रूप हर तरह की महिलाओं और बच्चियों को ध्यान में रखकर तैयार किए हैं। निम्न वर्ग और मध्यम वर्ग में लांग एवम् शार्ट स्कर्ट का प्रचलन है तो उच्च वर्ग में हर प्रकार की स्कर्ट का प्रचलन है।
स्कर्ट को सिर्फ लम्बाई के अनुसार ही नहीं बांटा गया है बल्कि इसे डिजाइन एवम् घेर के आधार पर भी विभिन्न रूपों में विभाजित किया गया है। एक ओर जहां अम्ब्रेला टाइप स्कर्ट को सराहा जा रहा है, वहीं टाइट स्कर्ट खूब प्रचलित है। टाइट स्कर्ट में मिनी स्कर्ट का तो जवाब ही नहीं। इसमें घेर की कोई गुंजाइश नहीं होती।
अन्य पोशाकों की तरह ही स्कर्ट को भी आजकल विविध फैब्रिक में खरीदा और देखा जा सकता है। सिल्क, सॉटन, कॉटन या फिर ऊन, किसी भी फैब्रिक में स्कर्ट मिल जायेगी। आजकल सिंथेटिक फैब्रिक का भी खूब प्रचलन है। यूं तो गर्मियों में स्कर्ट का सबसे शीतल फैब्रिक कॉटन रहेगा, फिर भी अन्य सिंथेटिक फैब्रिक पहने जा सकते हैं। डिजाइनरों की नजर में हर फैब्रिक स्कर्ट में आराम देता है।
रंगों के अनुसार, स्कर्ट किसी भी रंग में पा सकते हैं। मैचिंग, कन्ट्रास्ट चाहे जो भी संयोग हो, स्कर्ट को लुभावना बना देता है। स्कर्ट सिर्फ एक रंग में नहीं रही है। आजकल तो एम्ब्रायडरी की हुई स्कर्ट भी नजर आ रही हैं। फूल-पत्तीदार या बिलकुल नेचुरल शेड लिए हुए स्कर्ट भी बाजार में उपलब्ध हैं। हल्के रंग में पहनें या गहरे रंग में पहनेें, स्कर्ट दोनों तरह से गरमियों के लिए आरामदेह है।
क्या बच्चियां, क्या लड़कियां, यहां तक कि महिलाएं भी अब स्कर्ट के जादू से बच नहीं पाई। उच्च वर्ग
की महिलाओं को स्कर्ट में देखा जा सकता है। यह परिधान ही ऐसा है, जो हर किसी का मन मोह ले, खासकर आरामदेह होने के कारण।
स्कर्ट किसी एक इमेज में बंधी नहीं रह पाई। डिजाइनरों ने इन्हें अनेक रूप दिये, जिस कारण यह हर उम्र की महिलाओं द्वारा अपनायी गई। दिन प्रतिदिन इनकी डिमांड बढ़ी। आजकल शोरूम इनसे भरे पड़े हैं।
- शिखा चौधरी

Share it
Top