सेक्स व सफल दांपत्य जीवन

सेक्स व सफल दांपत्य जीवन

सेक्स का सीधा संबंध शारीरिक व मानसिक सुख से है। सेक्स सिर्फ बच्चे पैदा करने का आधार नहीं है। बल्कि सफल प्रेम व्यवहार का प्रतीक भी है।
सेक्स का सुखद दांपत्य जीवन से बहुत करीब का संबंध है। सेक्स का हमारे स्वास्थ्य के साथ भी गहरा संबंध होता है। वैज्ञानिक बताते हैं जो दंपति सेक्स संबंधों को महत्त्व देते हैं वे दिमाग में हर वक्त कामुक विचार बुरा असर नहीं रखते बल्कि लक्ष्य प्राप्त करने में ज्यादा सफल होते हैं।
सेक्स संबंधों की आवश्यकता तो शारीरिक परिवर्तनों के दौर से ही महसूस होने लगती है पर इस उम्र में ऐसे संबंधों को महत्त्व देना अपने लक्ष्य के प्रति लापरवाह होना ही है। शरीर में होने वाले हार्मोनल परिवर्तन युवाओं को बहकाने का प्रयास करते हैं पर संयम या कुछ यौगिक क्रियाओं को अपना कर उन्हें नियंत्रित किया जा सकता हैं।
वैज्ञानिकों का मानना है विवाह के बाद यौन संबंध ज्यादा मजा व खुशियां प्रदान करता है। इसका कारण यह है कि इस दौर तक हम आते-आते लगभग लक्ष्य व जीवन के उद्देश्यों के करीब पहुंच चुके होते हैं।
वैज्ञानिकों का मानना है सुखद वैवाहिक व यौन संबंध जीवन का रहस्य भारतीय संस्कृति में देखने को मिलता है जिसमें शादी उपरांत यौन संबंध बनाने की मान्यता है।
यौन संबंध बनाने में हड़बड़ी नहीं दिखानी चाहिए बल्कि विवाह होने तक इतंजार करना चाहिए। ऐसे में वैवाहिक जीवन अधिक सफल होते हैं। यौन संबंधों में सुखद आनंद मिलता है। आपसी तालमेल के कारण खुलापन अधिक होता है। ऐसे संबंधों को सामाजिक मान्यता भी प्राप्त होती है शादी के पूर्व बनाए गए संबंध लोगों के जीवन में उथल-पुथल के भाव अधिक दिखते हैं, ऐसा सर्वेक्षण बताते हैं।
- सुनील कुमार 'सजल'

Share it
Top