बालों को बनायें सुंदर

बालों को बनायें सुंदर

वर्तमान समय में बालों की समस्या ने गंभीर रूप धारण कर लिया है। अनुचित आहार-विहार के कारण असमय यानी कम उम्र में ही युवक-युवतियों में बाल सफेद होना, बाल झडऩा, लंबे व घने न होना आदि समस्यायें पैदा होती रही हैं और आज भी हो रही हैं।
अक्सर कम उम्र में ही बच्चों के बाल सफेद हो जाते हैं। इस समस्या को छुपाने के लिए अधिकतर युवक-यवुतियां तरह-तरह के शैम्पू व तेल प्रयोग करते हैं। यहां तक कि महंगी-महंगी दवाइयां भी लेते हैं और शादी व पार्टी में जाने से पहले बालों की समस्या को छुपाने के लिए काली मेंहदी व लाल मेंहदी का भी लोग ज्यादातर इस्तेमाल करते हैं। जब तक मेंहदी का असर रहता है तब तक बाल काले रहते हैं, बाद में फिर सफेद हो जाते हैं।
ये सब चीजें प्रयोग करने से हमारा समय ही नहीं, पैसा भी बेवजह खर्च होता है।
इस समस्या के समाधान के लिए पिसी हुई सूखी मेंहदी एक कप, काफी पाउडर एक चम्मच, दही का बड़ा चम्मच, नींबू का रस एक चम्मच, कत्था पिसा हुआ एक चम्मच, ब्राह्मी बूटी चूर्ण एक चम्मच, आवंला चूर्ण और सूखे पुदीने का चूर्ण एक चम्मच लें।
इन सबको पर्याप्त पानी में डाल कर 2-3 घंटे तक रखें। पानी इतनी मात्रा में लें कि गाढ़ा लेप जैसा घोल बन सके। स्नान से दो घंटे पहले इस लेप को बालों और बालों की जड़ों में खूब अच्छी तरह मसल कर लगा लें और सूखने दें। जब लेप व बाल सूख जाएं तब स्नान करते समय बालों को धो डालें। बालों में कोई भी साबुन न लगाएं। बालों को धोने के लिए खेत-बाग-बगीचे की काली मिट्टी या मुलतानी मिट्टी को पानी में गलाकर मसल कर कपड़े से छान लें। छने हुए पानी से बालों को धो लें।
कुछ दिनों तक लगातार रोज यह प्रयोग करते रहना चाहिए। 1-2 दिन छोड़ कर या सप्ताह में दो बार यह प्रयोग करते रहें। लगातार प्रयोग करने से बालों का झडऩा, सफेद होना और लंबे न होने की समस्या के अलावा बालों की रूसी भी खत्म हो जाती है। यह नुस्खा निरापद है इसलिए इस नुस्खे को किसी भी आयु वाला किसी भी ऋतु में प्रयोग कर सकता है। यह नुस्खा सरल और सस्ता होते हुए भी बहुत गुणकारी सिद्ध हुआ है।
- रंजना रानी/अविनाश कुमार

Share it
Top