जब एडिय़ां फट जायें

जब एडिय़ां फट जायें

फटी एडिय़ों की कल्पना करने से एक अजीब सी सिहरन होने लगती हैं। भद्दी और कटी फटी लकीरें पैरों की दुर्दशा का बयान करती हैं पर यह कोई ऐसी समस्या नहीं जिस से निजात न पाया जा सके। बस आवश्यकता है कुछ ध्यान देने की।
सामान्यत: एडिय़ों का फटना खुश्की या डेड स्किन के समय पर न निकालने के कारण यदि आप अपने पैरों पर ध्यान देंगी तो आप इस पर आसानी से काबू पा सकती हैं।
एडिय़ों और पैरों के तले की स्किन मोटी होती है। कई बार शरीर के अंदर बनने वाले प्राकृतिक तेल पैरों की उस सतह तक नहीं पहुंच पाते जिसके कारण वहां की त्वचा और अधिक खुरदरी और सख्त होती चली जाती है।
कई बार पौष्टिक भोजन के अभाव में भी एडिय़ां खुरदरी हो जाती हैं। एडिय़ां जब अधिक फटने लगती हैं तो उनमें तकलीफ बढ़ जाती है। बहुत बार उनसे खून निकलने लगता है। ऐसे में यदि पहले ही उचित देखभाल की जाए तो इस नौबत तक एडिय़ां पहुंच ही न पायें।
अगर एडिय़ां फट जाएं तो घर पर उनकी देखभाल ऐसे करें:-
फटी एडिय़ों पर मैथिलेटिड स्पिरिट में रूई को भिगोकर उसे एडिय़ों पर रखें। 2-3 मिनट तक रखने के बाद हटा लें। पुन: 10 मिनट बाद स्पिरिट से भीगी रूई रखें। 3 से 4 बार करें। धीरे-धीरे एडिय़ों का फटना कम होने लगेगा।
- डेढ़ चम्मच वैसलीन में एक छोटा चम्मच बोरिक पाउडर डालकर अच्छे से मिला लें। इस मिश्रण को कटे भाग पर अच्छी तरह लगाएं। नियमित कुछ दिन लगाने से फटी एडिय़ां भरने लगेंगी।
- प्यूमिक स्टोन से एडिय़ों और तलुवों की डेड स्किन नियमित हटाते
रहने से एडिय़ों का फटना कम हो जाता है।
- सप्ताह में एक बार गर्म पानी में कुछ बूंदें शैम्पू और डिटॉल की डालें और 1 चम्मच मीठा सोडा डालें। उस पानी में 10 मिनट तक पैरों को भिगोए रखें। इससे मृत त्वचा नर्म हो जाएगी। उसे प्यूमिक स्टोन से रगड़ कर साफ कर लें। फिर तौलिए से पोंछ कर उस पर नारियल या जैतून के तेल से हल्की मालिश कर लें। धीरे-धीरे पांवों और एडिय़ों का कटापन और खुरदरापन दूर हो जाएगा।
- भोजन पौष्टिक लें। थोड़ी बहुत चिकनाई भोजन में लें ताकि शरीर में प्राकृतिक तेल बनते रहें।
- रोज रात्रि में सोने से पूर्व पैरों को अच्छी तरह रगड़ कर सफाई कर लें। उस पर नारियल का तेल लगा लेने से भी इस समस्या पर काबू पाया जा सकता है।
- दो सप्ताह में एक बार पेडी क्योर करवा कर भी इस समस्या से निजात पाई जा सकती है।
- सर्दियों में प्रतिदिन पैरों व एडिय़ों पर कोल्डक्रीम लगा कर जुराबें पहनें ताकि शुष्क हवाएं पैरों और एडिय़ों को नुकसान न पहुंचा सकें।
- जूते चप्पल भी ठीक साइज़ के पहनें। कई बार छोटे आकार की चप्पल पहनने से भी एडिय़ों का भाग जमीन पर लगता है तो एडिय़ां फटनी शुरू हो जाती हैं। नंगे पाव न चलें।
- इन छोटी-छोटी पर फायदेमंद बातों पर ध्यान देने से आप अपनी एडिय़ों को फटने से बचा सकती हैं।
- नीतू गुप्ता

Share it
Top