खूबसूरत बाल: थोड़ी सी देखभाल

खूबसूरत बाल: थोड़ी सी देखभाल

प्रकृति ने नारी को बालों का अनमोल वरदान दिया है जो उसकी सुंदरता को और अधिक बढ़ा देता है और बालों की खूबसूरती का राज है-बालों की समुचित देखभाल। बालों को विभिन्न शैलियों में सजा-संवारकर अपने व्यक्तित्व में निखार लाया जा सकता है। बालों को कैसा रूप दें, यह आपके चेहरे व कद पर भी निर्भर करता है।
आज 60 से 70 प्रतिशत लोग रूसी, बाल झडऩे, गिरने, गंजेपन, रूखेपन आदि के शिकार हैं। पतले, झड़ते, रूखे बाल अपना आकर्षण खोने लगते हैं। आधुनिकता की होड़ में कुछ युवतियां अपने इन समस्याग्रस्त बालों से छुटकारा पाने के लिए अपने बाल कटवा लेती हैं तो कुछ युवतियां अपने खूबसूरत, लंबे बालों को भी बेरहमी से कटवाने से नहीं चूकती। भारतीय संस्कृति को पिछड़ापन कहना फैशन सा बन गया है।
सामान्यत: बाल दो प्रकार के होते हैं ...........
1. तैलीय बाल 2. सामान्य बाल
तैलीय बाल -
इस प्रकार के बालों में रूसी होने की संभावना अधिक रहती है। अधिक रूसी कील मुहांसों को जन्म देती है व आंखों में संक्रमण होने का भी भय रहता है। उचित साफ सफाई के न होने से, रूसी होने से बाल खुश्क (शुष्क) व रूखे होने लगते हैं। ये आकर्षण हीन व बेजान से दिखने लगते हैं। साथ ही इनमें धूल, गर्मी आदि का भी शीघ्र ही असर होने लगता है। इन्हें सप्ताह में दो बार अवश्य धोना चाहिए।
सामान्य बाल -
इस प्रकार के बाल न रूखे या (शुष्क) एवं बिखरे दिखाई देते हैं, न ही अत्यधिक तैलीय। ये बाल अपने आप में श्रेष्ठ रहते हैं। इस प्रकार के बालों में बालों की विभिन्न शैलियां बनाई जा सकती हैं और इन्हें कोई भी रूप दिये जाने पर ये आकर्षक लगते हैं। इन्हें सप्ताह में एक बार धोना ही पर्याप्त होता है।
बालों की साज-संवार -
रूसी बालों की शत्रु है जो विभिन्न प्रकार के रोगों को जन्म देती है। बालों का झडऩा, टूटना, रूखापन इसी का परिणाम है। इसके लिए बालों को औषधियुक्त शैम्पू से सप्ताह में एक या दो बार अवश्य धोएं। इसके अलावा यह घरेलू इलाज भी अपना सकते हैं-नारियल के तेल में, नींबू का रस मिला लें। नहाने के 1/2 घंटा पूर्व इसे बालों की जड़ों में अच्छी तरह लगा लें। फिर सिर धो लें। ऐसा नियमित रूप से करें।
सामान्य बालों के लिए रीठा, शिकाकाई एक उपयुक्त औषधि है --
रीठा, शिकाकाई की फली को पानी में उबाल लें। इस छानकर ठंडा कर लें और इनसे बाल धोएं। इसके अलावा मुलतानी मिट्टी से बालों को धोया जा सकता है। यह बालों के स्वास्थ्य के लिए लाभप्रद है।
यदि बाल दो मुंहे हो जाएं तो उसके लिए निम्न उपाय करें - एक चम्मच केस्टर ऑयल में एक चम्मच ऑलिव ऑयल मिलाकर गर्म करें। दस मिनट तक सिर की मालिश करें। मालिश हल्के हाथों से धीरे-धीरे करें। हल्की चुटकियों के रूप में मसाज दें व थपथपाएं। इससे रक्त का संचार ठीक रहता है। इसे एक सप्ताह में एक बार या दस दिन में एक बार अवश्य करें।
बाल दो मुंह होने से बालों की वृद्धि रूक जाती है, अत: महीने में एक बार, बालों को अवश्य छांटते रहें। इससे बालों की वृद्धि फिर से होने लगेगी। बालों में तेल लगाने में कंजूसी न करें। फैशन में अंधे होकर बालों के स्वास्थ्य पर ध्यान देना न भूलें लेकिन ध्यान रखें-पतले बालों में अधिक तेल न लगाएं।
गीले बालों में भूलकर भी कंघी न करें। इससे बालों की जड़ें कमजोर हो जाती हैं, बाल भी झडऩे लगते हैं। बालों को अच्छी तरह सूख जाने दें। फिर धीरे-धीरे कंघी चलाते हुए बालों को सुलझाएं। बालों को अधिक धूप में ना सुखाएं, अधिक गर्मी बालों को हानि पहुंचा सकती है।
बालों को ठंडे पानी से धोएं। मौसम के अनुसार यदाकदा बालों को गुनगुने पानी से भी धोया जा सकता है।
बालों को धोने के बाद कंडीशनिंग अवश्य करें। कंडीशनर इस प्रकार बनाएं-
एक गिलास पानी में एक नींबू निचोड़ लें। कंडीशनर तैयार है।
यदि आपके बाल असमय ही सफेद हो रहे हो तो बालों को 'हेयर डाईÓ (खिजाब) से न रंगे। ये आपके स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव भी डाल सकते हैं। बालों को मेंहदी से रंगे।
बालों के झडऩे, गिरने, असमय सफेद, होने, रूखापन आदि का कारण उचित आहार का न मिलना व भोज्य पदार्थों में पोषक तत्वों की कमी है। इसके लिए प्रोटीन, कार्बोज युक्त भोज्य पदार्थों, विटाामिन (ए, बी कांपलेक्स, सी) आदि का सेवन करें। गाजर, पालक टमाटर, सलाद, शकरकंद, पत्तागोभी, मटर आदि में भी विटामिन प्रचुरता में पाया जाता है।
इसके अलावा धूल, गर्मी, प्रदूषण, मानसिक तनाव, बीमारी, रक्त संचार में कमी, हार्मोन्स का असंतुलन, स्तनपान आदि से भी बाल झडऩे लगते हैं। जहां तक हो सके, इन कारणों से अपने आपको बचाए रखें। आपकी समस्या स्वत: सुलझ जायेगी।
उपर्युक्त के प्रयोग से आपकी समस्या का काफी हद तक समाधान हो सकता है। इसके अलावा भी निम्न उपचार किये जा सकते है -
उपचार -
अण्डे के प्रयोग से ही बाल लंबे, काले, घने, चमकदार व मुलायम बने रहते हैं। इसके लिए दो अंडे फेंटकर उसमें नींबू का रस मिला लें। इसके पश्चात् बालों की जड़ों में लगाकर सूखने दें। पौने घंटे बाद सिर धो लें। ऐसा सप्ताह में एक बार करें।
मेंहदी के तेल के प्रयोग से भी आपके बाल स्वस्थ व सुंदर होंगे। प्रतिदिन रात को सोने के पहले इसकी सिर में मालिश करें।
हीना ट्रीटमेंट -
एक कप मेंहदी पाउडर में दो चम्मच कॉफी, कुछ बूंदे नींबू का रस व थोड़ी दही मिलाएं व घोल तैयार करें। लगाने के पहले एक अण्डा फेंटकर मिलाएं।
आपके बालों को जरूरत है, थोड़ी सी देखभाल की। फिर देखिये आपके बालों की खूबसूरती पर लोग कैसे फिदा हो जायेंगे।
- सविता पांडे

Share it
Top