सेक्स और सौंदर्य बढ़ाएं सनबाथ

सेक्स और सौंदर्य बढ़ाएं सनबाथ

कहा जाता है कि जिस इंसान को सेहत की कद्र नहीं होती, वह कभी सुंदर नहीं बन सकता। वैसे भी मानव जीवन परमात्मा की अनमोल कृति है जिसे हमें हर हाल में संजोकर रखना चाहिये।
यदि आप थोड़ा-सा प्रयास करते हैं तो निस्संदेह आप अपने शरीर को आकर्षक और सुडौल बना सकते हैं। प्राचीनकाल में व्यक्ति जहां इस कार्य हेतु योग कला एवं जड़ी बूटियों का प्रयोग करता था, वहीं आजकल व्यक्ति अपने खानपान पर विशेष ध्यान रखते हुए व्यायाम के बल पर अपने मन मुताबिक शरीर को सुदृढ़ बनाकर सौंदर्य की दबी चाहत को जागृत कर रहा है।
यही वजह है कि इन दिनों व्यायाम की अहमियत लोगों में काफी हद तक बढ़ गई है लेकिन इन सब बातों के बावजूद भी कई ऐसी चीजें हैं जो व्यक्ति के शरीर की सुंदरता को बढ़ाकर चार चांद लगा देती हैं जिनमें से एक है सनबाथ यानी धूप स्नान।
हाल ही में हुई एक स्टडी से साबित हुआ है कि व्यक्ति के शरीर को सुंदरता प्रदान करने में सनबाथ अपनी अहम भूमिका तो निभाता ही है, शारीरिक मजबूती के लिए भी यह हर तरह से काफी महत्त्वपूर्ण है। इस बारे में शोधकर्ताओं की राय है कि सनबाथ करने से व्यक्ति की सेहत क्षीण नहीं होती। और तो और, सूर्य की किरणों की गर्मी से निकलने वाला विटामिन डी व्यक्ति के चेहरे की चमक को लंबे समय तक बरकरार रखता है।
ताजा अध्ययन पर गौर फरमाएं तो हम पाते हैं कि सूर्य की किरणों रूपी वरदान अर्थात विटामिन डी व्यक्ति के शरीर हेतु काफी बेशकीमती हैं। शायद यही कारण है कि प्राकृतिक चिकित्सकों ने भी धूप स्नान को व्यक्ति के लिए बेहद जरूरी बताया है।
उनके मतानुसार शरद ऋतु के दिनों में सनबाथ करने से व्यक्ति को मजबूती तो मिलती ही है, साथ ही उसका सौंदर्य भी दिनोंदिन दमकने लगता है। इसीलिए आज की तारीख में हर उम्र के व्यक्ति को सनबाथ जैसी मुफ्त चिकित्सा पद्धति को लेने की सलाह दी जाती है क्योंकि इससे व्यक्ति का शरीर निरोगी रहता है और आलस्य भी कोसों दूर भाग जाता है। इसके अलावा यदि व्यक्ति धूप में सरसों के तेल की मालिश करके किरणों की गर्मी से शरीर की सही ढंग से सिंकाई करता है तो दिमागी तथा शारीरिक दोनों तरह से स्वयं को स्वस्थ महसूस करता है। यकीनन, इस तरह हड्डिया तो मजबूत बनती ही हैं साथ ही रोग प्रतिरोधक क्षमता पर भी खासा प्रभाव पड़ता है।
स्वास्थ्य हितैषियों की मानें तो उनके अनुसार, धूप स्नान करने वाले पुरुषों की सेक्स क्षमता में अद्भुत बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है। उनका यह भी कहना है कि सनबाथ करने वाले पुरुषों की यौन क्षमता पर विशेष प्रभाव पड़ता है जबकि सूर्य की किरणों से प्राप्त विटामिन डी की मात्रा पुरुषों के अंदर पहुंचकर सेक्स हारमोन्स का स्तर ब्लड में गति उत्पन्न कर सेक्स ड्राइव में बढ़ोत्तरी कर देता है।
इस प्रकार विटामिन डी व्यक्ति के लिए एक अनमोल पोषक तत्व के रूप बेहद अनिवार्य है जोकि सिर्फ धूप से मिलता है या फिर खाद्य पदार्थों में मीट व फिश में पाया जाता है। शरीर में विटामिन डी की मात्रा ब्लड में अधिक होने के कारण पुरुषों का सेक्स हार्मोन धीरे-धीरे काफी बढ़ जाता है। इसलिए पुरुषों को अपने मन में यह धारणा रखनी चाहिये कि उनके शरीर में विटामिन डी की सही मात्रा पहुंच भी रही है, या नहीं।
यह स्तर खासकर अक्टूबर के महीने में जब सर्दी का प्रारंभ होता है, जब से लेकर मार्च के मध्य तक ऊपर नीचे होता है। जैसा कि देखा गया है कि अक्टूबर से लेकर मार्च के महीने तक सूर्य की किरणों की प्रखरता में कमी आ जाती है।
धूप स्नान करने से दिन भर व्यक्ति का शरीर तरोताजा तो रहता ही है बल्कि स्फूर्ति बनाये रखने में भी खूब मदद करता है। बेशक, धूप स्नान लोगों के लिए बेहद जरूरी तत्व हो परंतु यह एक सच्चाई है कि इसके ग्रहण करने मात्र से व्यक्ति की स्नायुओं और शिराओं में एक ताजगी आने के अतिरिक्त क्रियाशीलता में भी आशातीत वृद्धि होती है। फलस्वरूप त्वचा में एक नई चमक आने के साथ-साथ बालों को भी मजबूती मिलती है। इस प्रकार हम कह सकते हैं कि धूप स्नान आज की तारीख में प्रत्येक व्यक्ति के लिए हर एक दृष्टि से स्वास्थ्य एवं सुंदरता हेतु वाकई स्वागत योग्य है।
- अनूप मिश्रा

Share it
Top