बरकरार रखें ज्वैलरी की चमक को

बरकरार रखें ज्वैलरी की चमक को

जूलरी (आभूषण) महिलाओं की सबसे बड़ी कमजोरी होती है चाहे वो सोने, चांदी, हीरे, मोती, कीमती पत्थर, और आर्टिफिशयल क्यों न हो। आधुनिक युग में मैचिंग के चक्कर में जूलरी की मांग और अधिक बढ़ गई है। जूलरी को संभालकर रखना भी जरूरी होता है। यदि थोड़ी सी भी लापरवाही बरती तो आप मनपसंद जूलरी से हाथ धो बैठती हैं क्योंकि उसकी चमक या उसके मोती, स्टोंस निकल जाएं तो वो जूलरी बेकार लगती है। आइए देखें किन चीज़ों से इन्हें बचा कर रखा जाए ताकि इनकी चमक फीकी न पड़े और अधिक से अधिक हमारी हमसफर बनी रहे।
-पर्ल और स्टोंस वाली जूलरी को अलग डिब्बों में रूई की पैडिंग बनाकर रखें ताकि दूसरी जूलरी के साथ मिलकर स्टोंस निकल न जायें और पर्ल की चमक भी खराब न हो जाए। पर्लस को कभी भी प्लास्टिक बैग में न रखें। इसके केमिकल्स पर्लस को नुकसान पहुंचा सकते हैं।
-गोल्ड जूलरी जो आप रोजमर्रा में प्रयोग लाते हैं, उन्हें भी माह में एक बार साफ्ट ब्रश से साफ कर लें ताकि उस पर जमी मैल परत का रूप न ले ले। साबुन से न धोएं क्योंकि साबुन के केमिकल्स नुकसान पहुंचा सकते हैं। गोल्ड जूलरी को हल्दी मिले पानी में डालकर नर्म ब्रश से साफ कर सकते हैं।
-जूलरी साफ करते समय किसी पारदर्शी बाउल में डालकर ही धोएं। सिंक में जूलरी रखकर न धोएं।
-टूटी या स्क्रेचेज पड़ी जूलरी को ठीक ठाक जूलरी से अलग रखें ताकि टूटी हुई दूसरी जूलरी पर निशान न डाल दे। टूटी जूलरी को शीघ्र ही जूलर से ठीक करवा लें।
-समारोह आदि में जाते समय जूलरी पूरी तरह तैयार होने के बाद पहनें। पहले पहनने से यदि आप परफ्यूम, स्प्रे, पाउडर, फाउंडेशन या माश्चराइजऱ का प्रयोग करती हैं तो जूलरी की चमक कैमिकल्स की खुशबू के साथ खराब हो जाएगी और जूलरी कपड़ों, कंघी में अटककर टूट भी सकती है।
-स्विमिंग के दौरान या कहीं पब्लिक प्लेस पर जब स्नान करते हैं तो जूलरी घर से उतार कर जायें क्योंकि क्लोरीन युक्त पानी जूलरी की चमक खराब कर सकता है तथा स्टोन्स की सेटिंग को भी नुकसान पहुंच सकता है?
-नाजुक जूलरी को अलग बाक्स में पहले लाल कागज और फिर रूई में लपेट कर अलग-अलग रखें।
-मेकअप प्रोडक्ट्स के साथ जूलरी को न रखें क्योंकि उनके केमिकल्स से जूलरी की चमक फीकी पड़ सकती है।
-चांदी की जूलरी को उबले आलू के पानी में भिगोकर साफ्ट बु्रश से साफ कर सकते हैं।
-डायमंड जूलरी डेली रूटीन में न पहनें क्योंकि घर के कामकाज करते समय वो खराब हो सकती है और बु्रश से साफ करते समय डायमंडस की सेटिंग हिल सकती है।
-जूलरी हमेशा मान्यता प्राप्त जूलर से खरीदें ताकि खराब होने पर आप कोर्ट तक जा सकते हैं।
-जूलरी खरीदते समय उसके टे्रडमार्क और क्वालिटी मार्क देखना न भूलें। गोल्ड जूलरी के लिए हालमार्क की जूलरी लें। जूलरी की रसीद अवश्य लें उसके लिए वैट चाहे देना पड़े। रसीद संभाल कर रखें। आर्टीफिशल जूलरी भी अच्छी क्वालिटी की लें।
- नीतू गुप्ता

Share it
Top