रहना है स्लिम ट्रिम तो..

रहना है स्लिम ट्रिम तो..

सभी महिलाओं और किशोरियों को स्लिम ट्रिम बने रहना अच्छा लगता है पर जब दोस्तों संबंधियों या किटी पार्टी में होती हैं तो तब भूल जाती हैं कि संतुलित आहार लेना है। ज्यादा ंमस्ती उनका वजन बढ़ाने में मदद करेगी। वजन बढ़ते ही उनके तनाव का स्तर भी बढ़ जाता हे। इसलिए स्लिम बने रहने के लिए हर जगह संयम बरतना जरूरी है तभी आप सुडौल और छरहरे बने रह सकते हैं।

न कहना सीखें:-

अपने पर संयम रखने के लिए बहुत सी खाने की चीजों को न कहना सीखें जैसे दो खानों के बीच स्नैक्स में ओवर ईटिंग करना, तले हुए स्नैक्स खाना। हर जगह जहां भी जाए, खाना जरूरी है इस बात को समझें। अगर मजबूरी वश खाना भी पड़े तो थोड़ा सा हल्का लें जिसमें कैलोरी ज्यादा न हों। घर में भी बच्चे खाना बचा दें तो अपने पेट को डस्टबिन न बनाएं। किसी की ज्यादा जबर्दस्ती करने पर हल्का सा लें और तारीफ करें। विशेषकर शाम के बाद अपने खाने पर संयम रखें।

जब तक भूख न लगे न खाएं:-

हमारी गंदी आदत है कि बिना भूख लगे भी हम काफी कुछ मंच कर लेते हैं जो हमारी कैलोरी को बढ़ाते हैं। नतीजतन मोटापा आता है। जब भी घर से थोड़े लंबे समय के लिए बाहर शापिंग करने जाना हो तो घर से कुछ खाकर जाएं ताकि तीन चार घंटे तक भूख न लगे। हर समय मंचिंग सेहत और शरीर दोनों को नुकसान पहुंचाती है। ऐसा न करें कि मुझे 4 घंटे तक कुछ नहीं लेना चााहिए चाहे भूख लग रही हो, चक्कर आ रहे हों। ऐसे में कोई डाईफ्रूट, रोस्टेड नमकीन या भुने चने थोड़े से खा लें जो ऊर्जा भी देंगे और कम कैलोरी भी।

पार्टी में स्वयं को सीमित रखें:-

बहुत सी किशोरियां और महिलाएं पार्टी में खुलकर खाती हैं। उन्हें लगता है यह मौज मस्ती का समय है। अब न खाया तो दोस्तों के साथ कब खाएंगे। अगर आप ज्यादा पार्टियों में जाते हैं तो घर से मन पक्का करके जाएं कि मुझे कम खाना है जैसे कोल्ड डिं्रक के स्थान पर पानी, जलजीरा, छाछ लें। केक, पेस्ट्री के स्थान पर अगर अन्य कुछ मीठा है तो थोड़ा सा लें। इसी प्रकार स्नैक्स भी वही लें जिनसे पेट तो भरे पर कैलोरी कम हो। अगर कोई ऑप्शन नहीं है तो प्लेट में थोड़ा सा रखकर धीरे-धीरे खाएं। अगर पार्टी में फ्रूट चाट है तो उसका सेवन अवश्य करें।

अपना रूटीन न बिगाड़े:-पतला रहने के लिए जो रूटीन आपने तय किया है उसे ईमानदारी से निभाएं चाहे कहीं जाना हो या छुट्टी हो। अगर कहीं जाना है तो थोड़ा जल्दी उठकर सैर या व्यायाम करें। छुट्टी है तो प्रयास कर जब सभी सो रहे हों। तभी अपना रूटीन पूरा कर लें। छुट्टियों में बच्चों को भी जगाएं और प्रयास कर साथ ले जाएं। अगर किसी मजबूरी वश रूटीन नहीं पूरा कर पाएं तो तनाव न लें क्योंकि तनाव लेने से भूख बढ़े और ज्यादा खाकर वजन न बढ़ाएं।

बच्चों के साथ बाहर घूमने जा रहे हैं तो लाइट स्नैक्स साथ ले जाएं जिससे आप भूख लगने पर उन्हें खा सकें। बच्चों को उनके हिसाब से एन्जॉय करने दें।

- नीतू गुप्ता

Share it
Top