मनोभावों को भी दर्शाते हैं आकर्षक होंठ

मनोभावों को भी दर्शाते हैं आकर्षक होंठ

शरीर के महत्त्वपूर्ण एवं कोमल अंग होंठों पर अनेक शोध हो चुके हैं। शोध के अनुसार होंठ व्यक्ति के मनोभावों के सूचक हैं। प्रसन्नता होने पर होंठ फैल जाते हैं, गुस्सा होने पर होंठ फडफ़ड़ाने लगते हैं। जब मन के अन्दर ईष्र्या का भाव उठता है तो होंठ भिंच जाते हैं और जब आश्चर्य की भावना मन में आती है तो होंठ खुले के खुले रह जाते हैं। जब कोई स्त्री पति या प्रेमी से लजा जाती है, तो होंठ रसीले हो जाते हैं। मन में सैक्सगत भाव के आते ही होंठ थरथराने लगते हैं। मनोवैज्ञानिकों के अनुसार जिस महिला का ऊपरी होंठ धनुषाकार और निचला कुछ मोटा हो, वह स्वाभिमानी होती है। इसके विपरीत ऊपरी होंठ धनुषाकार और निचला ठुड्डी की तरफ झुका हो तो इसका अर्थ होता है कि महिला दयालु स्वभाव की है।

जिस महिला के होंठ मोटे और खुरदरे होते हैं, वह स्वभाव से चंचल होती है। मोटे होंठ जो प्राय: खुले रहते हैं, क्रूरता के द्योतक होते हैं। लटके हुए होंठ आत्मप्रशंसक तथा पतले होंठ चालाक स्वभाव को बनाने वाले हुआ करते हैं। जिस महिला के होंठ मुस्कुराते समय ऊपर उठते हों, वह खुशमिजाज स्वभाव की होती है। इसी प्रकार जो महिला अपने होंठों को टेढ़ा करके बात करती है, वह फूहड़ समझी जाती है।

आज की महिलाएं प्राय: अपने होंठों को सैक्सी बनाकर रखना चाहती हैं लेकिन यदि उन होंठों में पतलापन आने लगे या अन्य कोई विकृति उत्पन्न हो जाए तो वे अपना आकर्षण खो देते हैं, इसलिए होंठों को हरदम यौवन प्रदान करने के लिए उनकी अनदेखी करते रहना उचित नहीं होता।

होंठों के श्रृंगार की अगर आपको विशेष जानकारी हो तो भी आप अपने होंठों के सौन्दर्य में वृद्धि कर सकती हैं। लिपस्टिक का प्रयोग करने से पहले मास्चराइजिंग क्रीम का प्रयोग अवश्य करें। दिन के समय हल्के रंगों की लिपस्टिक व रात के समय गहरे रंगों की लिपस्टिक का ही प्रयोग करें। अगर दांत कुछ पीले हों तो गहरे लाल रंग की लिपस्टिक लगाने से दांत अपेक्षाकृत स्वच्छ और चमकदार दिखाई देते हैं।

युवावस्था में आप कोई भी लिपस्टिक लगा सकती हैं लेकिन प्रौढ़ावस्था में रेड लिपस्टिक ही अधिक फबती है। इसी प्रकार गोरे रंग की महिलाओं पर हल्के गुलाबी रंग का शेड ही अच्छा लगता है। गुलाबी रंग का शेड किसी को भी अपनी ओर आकर्षित करने में सक्षम होता है।

लिपस्टिक को सही तरीके से लगाना आवश्यक है, तभी होंठ आकर्षक लगते हैं। लिपस्टिक लगाने से पूर्व अपने होंठों को किसी मुलायम कपड़े या रूई के फाहे से अच्छी तरह पोंछ लें ताकि उन पर लगी चिकनाई पूरी तरह हट जाए। लिपस्टिक के ऊपर लिपग्लास का प्रयोग अवश्य करें। इससे लिपस्टिक अधिक समय तक टिकी रहती है तथा होंठों की चमक कायम रहती है। लिपग्लास अगर न हो तो वैसलीन का प्रयोग भी किया जा सकता है।

होंठों से लिपस्टिक हटाने के लिए उन्हें रगड़ें नहीं क्योंकि रगडऩे से वे खराब हो सकते हैं। रात को सोने से पूर्व लिपस्टिक अवश्य छुड़ा लें। रूई में थोड़ा-सा क्लींजर लगाकर होंठों पर लगी लिपस्टिक हटा लें ताकि उन्हें भी स्वच्छ वायु मिल सके।

सर्दी के मौसम में होंठ शुष्क हो जाते हैं और फटने लगते हैं। यहां तक कि उनसे खून भी रिसने लगता है। ऐसी स्थिति में ताजे गुलाब की पंखुडिय़ों को पीसकर उसमें आधा छोटा

चम्मच दूध मिलाकर रात को सोने से पहले होंठों पर अच्छी तरह लगा लें। इससे होंठ मुलायम व गुलाबी बने रहेंगे।

होंठों का उचित श्रृंगार तभी संभव है जब वे शुष्क या फटे हुए न हों। होंठ कटे फटे होने पर लिपस्टिक नहीं ठहरती। अगर होंठ शुष्क या फटे हुए हों और उनसे कभी-कभी खून भी निकलता हो तो उन पर थोड़ा-सा देशी घी लगाएं। उन्हें बार-बार खुरचें नहीं। देशी घी के अलावा आप ग्लिसरीन भी लगा सकती हैं। वैसलीन भी लगायी जा सकती है। शहद में गुलाबजल की कुछ बूंदें मिलाकर लगाने से भी फायदा होता है। आकर्षक व स्वस्थ होंठ न सिर्फ दूसरे को ही अपनी ओर आकर्षित करते हैं बल्कि पूर्ण यौन संतुष्टि भी प्रदान करते हैं।

- पूनम दिनकर

Share it
Top