जिंदादिली से जिएं लव लाइफ

जिंदादिली से जिएं लव लाइफ

जीवन में प्यार एक ऐसा साधन है जो जीवन में उमंग व खुशियां भर देता है पर कितना भी अपने पार्टनर के साथ प्यार हो, कभी न कभी, कहीं न कही, कुछ न कुछ मन मुटाव हो जाता है। अगर उस मनमुटाव का समाधान न किया जाए तो समस्या विकराल रूप ले लेती है। शायद कोई भी पार्टनर इसे विकराल रूप नहीं देना चाहेगा। बेहतर होगा समय रहते समस्या का समाधान निकाल लिया जाए।

यह भी सच है कि जिंदगी जीने का मजा ही तब आता है जब आप उसे जिंदादिली से जिएं। तभी शादीशुदा जिंदगी खुशहाल और सफलतापूर्वक चल सकती है। आप भी मन पक्का कर अपनी जिंदगी में लव दीप जलाएं और अपने संबंधों को परफेक्ट बनाएं।

एक साथ छुट्टी तो बनती है

विवाह के शुरूआती दिनों में हनीमून पर कपल्स इसलिए जाते हैं ताकि वे एक दूसरे के करीब आ सकें और साथी की भावनाओं को समझ सकें। अक्सर लोग हनीमून के बाद साथ-साथ घर से बाहर छुट्टी मनाना भूल जाते हैं। यह उनकी भूल है। साल में कम से कम एक बार आस पास किसी हिल स्टेशन या पर्यटन स्थल पर छोटा ब्रेक लेना तो बनता ही है।

वैसे आप बीच वाले स्थान पर भी जा सकते हैं। घूमने जाने के लिए ट्रैवल एजेंट से पैकेज ले लेें तो आप मस्ती के साथ अपनी छुट्टियों का भरपूर आनंद ले सकते हैं। वहां जाकर न आपको होटल ढूंढने का झंझट, न साईट सीइंग पर कैसे पहुंचा जाए, इन सब समस्याओं से आप बचे रह सकते हैं। छुट्टी पर जाने से पूर्व दोनों मिलकर प्लान बनाएं तो अधिक अच्छा लगेगा।

नाराजगी लेकर न सोएं

अगर किसी भी तरह से कोई आपसी मन मुटाव हो तो रात्रि में सोने से पूर्व उस पर विचार कर समाधान कर लें ताकि अगले दिन की शुरूआत ताजगी से भरी रहे और रात आप शांति से सो सकें। रात के पल ऐसे होते हैं जब आप आपसी दूरियां दूर कर सकते हैं। अगर किसी इशू पर बहस हो रही हो तो साफ्टली बोलें। बहुत अधिक आर्ग्यू न करें क्योंकि अधिक आर्ग्यू करने से आवाज में कठोरता आ जाती है और बात बढऩे का खतरा बढ़ जाता है। रूठ कर मत सोएं। अपनी सभी समस्याओं को सुलझा कर ही सोएं।

पत्नी को भी चाहिए ब्रेक

पत्नी होने का अर्थ यह नहीं कि घर के सभी कामों और खाना बनाने की ड्यूटी बस उसी की है। उसे भी बीच बीच में आराम की आवश्यकता होती है। कभी कभी उसे लंच या डिनर पर बाहर ले जाएं ताकि उसके रूटीन में बदलाव बना रहे। अगर संभव हो तो छुट्टी वाले दिन मिल कर या स्वयं उसके लिए कुछ बनाएं पर उसकी पसंद का ध्यान अवश्य रखें। एक्सपर्ट्स के अनुसार पति पत्नी को एक दूसरे की भावनाओं की कद्र करनी चाहिए और उनके कामों की अहमियत भी समझनी चाहिए। तभी रिश्तों में परफेक्शन आ सकती है।

खरीदारी को इशू न बनायें

गृहस्थी है तो शापिंग तो करनी ही है पर हर शॉपिंग के लिए पार्टनर से उम्मीद न रखें क्योंकि हर प्रकार की खरीदारी आपके पार्टनर के बस में नहीं। घर के बड़े इलेक्ट्रॉनिक सामान, जैसे फर्नीचर, पर्दो आदि की शॉपिंग में पार्टनर को जरूर साथ ले जाएं। अपने कपड़ों, बच्चों के कपड़ों या घरेलू छोटे मोटे सामान की खरीदारी की उम्मीद उनसे न रखें। इस तरह की शॉपिंग आप अपनी फ्रैंड या किसी संबंधी के साथ कर सकती है। कभी कभी पति से पूछ लें कि वे जाने में इंटरेस्टेड हों तो उनकी कंपनी का पूरा लाभ उठाएं और खाना बनाने का दिमाग में तनाव न रखते हुए शॉपिंग का पूरा लुत्फ उठाएं और बाजार से खाना खाएं या मंगाएं।

अपने फाइनेंस स्वयं मैनेज करें

अधिकतर वर्किंग कपल्स में और कभी कभी नॉन वर्किंग कपल्स में यही झगड़ा रहता है कि तुम बहुत फिजूलखर्च हो। अगर अकाउंट कॉमन है तो यह ऐतराज रहता है कि आपने मेरा पैसा इतना क्यों और कहां बिना पूछे प्रयोग किया है। यह विवाद का विषय बन जाता है और मनमुटाव का कारण भी।

अगर आप कामकाजी हैं तो अलग अकाउंट रखें। जितना घर के कॉमन खर्चों के लिए चाहिए, उतना निकाल कर बाकी पैसों को स्वयं मैनेज करें कि कहां इनवेस्ट करना है। अपनी मनपसंद जूलरी पर भी कभी कभी खर्च कर सकते हैं और कुछ पैसा आपातकाल की समस्याओं हेतु रख सकते हैं। अगर नॉनवर्किंग हैं तो पार्टनर को चाहिए कि घर के खर्चों के अतिरिक्त कुछ पैसा अपने पार्टनर को दें जिससे वे अपनी इच्छा और आवश्यकतानुसार प्रयोग कर सके। उसे महसूस हो कि यह मेरे व्यक्तिगत पैसे हैं। इनका प्रयोग मैं अपनी मर्जी से कर सकती हूं और फाइनेंस के इशू पर झगड़ा भी नहीं होगा।

कुछ समय अपने लिए भी रखें

अपने लिए समय रखने का यह अर्थ नहीं कि आप अपने पार्टनर को इग्नोर करें पर स्पेस तो दोनों को चाहिए। ऐसे में कभी-कभी अपने फ्रेंड सर्कल में रहकर समय बिताएं, लंच पर जाएं या मॉल आदि घूमने जाकर मूवी आदि देखें ताकि पार्टनर को भी ब्रेक मिल सके और आप स्वयं भी उन पलों को एंजाय कर सकें। ऐसा करने से संबंध हैल्दी रहते हैं। कभी कभी आपने अपने पैरेंट्स या बहन-भाई के पास एक दो दिन के लिए भी जा सकते हैं। रिश्तों में गर्माहट भी बनी रहेगी और नई एनर्जी से आप अपने पार्टनर और परिवार को खुश रख सकेंगी।

-नीतू गुप्ता

Share it
Top