मानसून में करें बालों की सुरक्षा

मानसून में करें बालों की सुरक्षा

वैसे बारिश का आना सुहाना लगता है क्योंकि तपती गर्मी के बाद बारिश से मौसम की गर्मी में अंतर आता है पर अधिक नमी के कारण बालों में चिपचिपापन बढ़ जाता है और बाल ज्यादा उलझने लगते हैं। उलझने से बाल टूटने भी ज्यादा लगते हैं जो परेशानी का कारण बन जाते हैं। ठीक ढंग से उनकी देखभाल न की जाए तो सिर की त्वचा में खुजली होने लगती है जो इरिटेट करती है। आइए ध्यान दें मानसून में बालों की समस्याओं पर:-

क्या समस्याएं बालों की सामने आती हैं -

- बाल उलझते ज्यादा हैं।

- बालों में चिपचिपापन बढ़ जाता है और बाल तैलीय दिखते हैं।श्

- सिर की त्वचा में खुश्की होना, जिससे खुजली की समस्या बढ़ जाती है।

- बालों का टूटना।

- बालों का बेजान और अस्वस्थ दिखना।

उपचार:-

- बालों को सप्ताह में दो से तीन बार धोएं ताकि चिपचिपापन कम लगे।

- खुश्क त्वचा होने पर गुनगुने नारियल तेल से मालिश करें।

- मानसून में बाल धोने हेतु माइल्ड शैंपू और कंडीशनर का प्रयोग करें।

- अगर बालों में रूसी है तो नीम के तेल से मालिश करें।

- अपनी डाइट पर विशेष ध्यान दें, पौष्टिक आहार का सेवन करें।

- बालों में हेयर ब्रश का प्रयोग करें ताकि बाल टूटे नहीं। गहले बालों पर कंघी या ब्रश न करें।

- बालों को भीगने से बचाएं। अगर कभी बाल भींग जाएं तो उन्हें सुखाएं जरूर। घर आकर माइल्ड शैंपू से बाल धो लें।

- मानसून में हेयर कलर लगाने से बचें।

- बालों को नियमित ट्रिम करवाती रहें ताकि दो मुंहें बालों का सामना न करना पड़े।

- कैमिकल्स युक्त शैंपू के स्थान पर हर्बल शैंपू कंडीशनर का प्रयोग करें।

- हेयर स्पा बालों को स्वस्थ रखता है। कुछ समय के अंतराल के बाद स्पा करती या करवाती रहें।

- हेयर जेल, स्प्रे, ड्रायर का प्रयोग कम से कम करें क्योंकि बालों को और चिपचिपा बनाते हैं स्टाइलिंग प्रॉडक्टस।

- बालों को तौलिए से सुखाएं। ब्लो ड्रायर का प्रयोग कम से कम करें।

- सुनीता गाबा

Share it
Top