हनीमून का मजा प्यार व सावधानी से लीजिए

हनीमून का मजा प्यार व सावधानी से लीजिए

विवाह के बाद हनीमून पर निकल पडऩे की प्रथा नई नहीं है। वास्तव में हनीमून का उद्देश्य भी उतना ही सार्थक है जितना कि शादी का। संयुक्त परिवार में नवयुगल दंपति को एक-दूसरे के विचार जानने व समझने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता था, इसलिये ही नव युगल दंपति को अन्यत्र स्थान पर हनीमून के लिये महज इसीलिए भेजा जाता था जिससे दोनों एक दूसरे की भावनाओं को समझ सकें।

वास्तव में शादी के बाद हनीमून पर जाना और कम खर्च में प्यार के साथ लौटना अपने आप में कला है। हनीमून पर जाने से पूर्व स्थान का चयन कर लेना चाहिए और उस क्षेत्र व नई जगह के बारे में पर्याप्त जानकारी व महत्त्वपूर्ण फोन नम्बर ले लेने चाहिए।

अगर आप होटल में ठहर रहे हैं तो कमरे की बुकिंग पहले ही एडवांस भेज कर करवानी चाहिए। इससे अनावश्यक परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा। सामान की पैकिंग सही प्रकार करनी चाहिए। इसमें सभी आवश्यक वस्त्र, सामान, प्राथमिक दवाइयां, फोन बुक, टार्च आदि होने चाहिए।

ठंड वाले स्थान पर जाने के लिए पहनने व सोने के गर्म कपड़े ले जाने चाहिए। हनीमून पर कभी भी किसी अन्य परिचित के बच्चे या युवा लड़के-लड़कियों को साथ नहीं ले जाना चाहिए क्योंकि आप उनकी सुरक्षा और उन्हें संतुष्ट करने में लगे रहेंगे तथा हनीमून का जो मूल उद्देश्य है, उससे भटक जायेंगे।

हनीमून पर एक महत्त्वपूर्ण बात याद रखने योग्य यह है कि अपरिचित स्थान पर चोर उच्चकों से सावधान रहना चाहिए अन्यथा वे मौका लगते ही अपनी कारगुजारियों से बाज नहीं आयेंगे और फिर आप हाथ मलते रह जायेंगे। ऐसी अनेक घटनाएं हैं जब ऐसे असामाजिक तत्व रंग में भंग डालते हैं। कीमती सामान व ज्वैलरी कभी भी साथ न ले जायें। श्रृंगार के लिए हल्की आर्टीफिशियल ज्वैलरी का सहारा लिया जा सकता है। किसी भी व्यक्ति के बहकावे व लालच में नहीं आना चाहिए।

अक्सर ये घटनाएं देखते में आती हैं कि हनीमून पर जा रहे नव दंपति को बेहोश कर लूट लिया। एक-दूसरे को पूरा प्यार, समर्पण और समय दीजिए तथा निरन्तर घर के सपर्क में रहिये। फोन पर, घर से संपर्क प्रतिदिन अवश्य बनाना चाहिए। अधिक खर्च व खरीदारी ऐसे अवसरों पर नुक्सानदायक हो सकती है। सामान के खराब निकलने पर घर लौटकर आप किससे जवाबदेही मांगेंगे। तबियत खराब होने या मौसम के कारण तकलीफ हो रही हो तो तुरन्त चिकित्सक की सलाह लें। हमेशा अच्छे विश्वसनीय होटल व संस्थान में ही ठहरना चाहिए।

अपने एक दो परिचितों के घर के पते व फोन नम्बर अवश्य रखें। जरूरत पडऩे पर ये आपके काम आ सकते हैं। क्षेत्र में जानकारी व घूमने के लिये गाइड का व पुलिस का सहारा लिया जाना चाहिए। अनजान व्यक्ति को लिफ्ट देकर रास्ता पूछना इस सुनहरे अवसर पर महंगा पड़ सकता है।

हनीमून से वापस लौटते समय परिवारजनों के लिये हल्के-फुल्के उपहार लाने चाहिए। कम खर्च में समझदारी व जानकारी से हनीमून मनायें तो ये क्षण उम्र भर के लिये यादगार बन सकते हैं।

हनीमून में प्यार का मजा सावधानी से ही लिया जाना चाहिए। यह वह समय होता है जब दो व्यक्ति एक होकर अपने सुनहरे रास्ते की तलाश करते हैं। इस समय के क्षण-क्षण को खुशी से जियें व तनाव रहित रहें।

-संजीव चौधरी गोल्डी

Share it
Top