पोशाक पहनें ऐसी जिससे असुविधा न हो

पोशाक पहनें ऐसी जिससे असुविधा न हो

पोशाक वही पहनें जिसको पहनने से किसी प्रकार की असुविधा या परेशानी न हो। किसी की देखा-देखी कोई भी पोशाक न पहनें। आपका पहनावा ऐसा होना चाहिए जिससे आपकी मान-मर्यादा तथा गरिमा बनी रहे। अगर आप स्कूल या ऑफिस में काम करती हैं तो अपनी पोशाकों पर खास ध्यान दें। कभी भी तंग कपड़े पहन कर स्कूल तथा ऑफिस में न जाएं।

अगर आप जींस पहनती हैं तो उसके ऊपर ढीला कुर्ती-कुर्ता पहन कर जाएं। जींस पर टाप या कसा ब्लाऊज पहन कर न जाएं। फैशन रोज बदलता रहता है, लेकिन साड़ी और सलवार कमीज का चलन तो हमेशा ही बना रहता है। आप स्कूल तथा ऑफिस में इसे पहन कर जाएं तो ज्यादा अच्छा रहेगा।

अगर आप दूसरी पोशाक पहनना ही चाहती हैं तो पार्टी में या क्लब में जाते समय पहन सकती हैं। तंग पोशाक की जगह ढीली-ढीली पोशाकें पहनें तो बेहतर हैं। तंग कपड़े पहनने में शरीर को नुक्सान पहुंचता है तथा उठने-बैठने और चलने फिरने में परेशानी होती है। तंग कपड़े पहनने से सांस की बीमारी होने तथा त्वचा रोग होने की संभावना अधिक होती है-जैसे खुजली, त्वचा का रंग लाल हो जाना, खून का जम जाना आदि। कपड़े अपने शरीर की बनावट के अनुसार ही बनवा कर पहनें। हर किसी के शरीर की बनावट एक जैसी नहीं होती, इसलिए देखा-देखी न करें। कोई जरूरी नहीं कि जो पोशाक किसी और पर अच्छी लग रही हो तो वह आप पर भी अच्छी ही लगे। पोशाक अपनी सुविधानुसार ही पहनें। अगर आपकी त्वचा का रंग सांवला है तो आप गहरे रंग की पोशाक कभी न पहनें।

अगर आप स्कर्ट और बिना बांह का टाप या ब्लाउज पहन रही हैं तो अपने बाजुओं एवं बगलों को साफ रखें। पोशाक आप कोई भी पहन लें लेकिन अगर आपकी सेहत अच्छी नहीं है तो पोशाक आपके शरीर पर बेकार लगेगी, अत: अपनी शारीरिक बनावट एवं सेहत को देखकर ही अपने लिए पोशाक का चयन करें।

- मीना जैन छाबड़ा

Share it
Top