भड़काऊ पहनावा कहीं जी का जंजाल न बन जाये

भड़काऊ पहनावा कहीं जी का जंजाल न बन जाये

फैशन मॉडल अंजु (बदला हुआ नाम) के फैशन शो में उसकी अदाएं देखने के बाद चार युवकों ने उसका अपहरण कर उसके साथ बलात्कार कर उसकी हत्या कर दी। बनी संवरी संध्या को उसके देवर ने ही अपनी हवस का शिकार बना डाला।

जहां तक सैक्स अपराधों की बात है, एक बात साफ है कि सैक्स अपराधों के लिए भड़काऊ पहनावा फैशन और अदाएं काफी हद तक जिम्मेदार हैं। सैक्स अपराधों में तेजी से हो रही वृद्धि का कारण हमारा अपनी संस्कृति की लकीर से हटना है। आज भड़काऊ वस्त्रों की होड़ लगी हुई है। भड़काऊ वस्त्रों के नाम पर जो कपड़े पहने जाते हैं, उनसे अंगों को विशेषकर संवेदनशील अंगों को, दिखाने की प्रतिस्पर्धा रहती है। शीत ऋतु की किसी भी छोटी या बड़ी बड़ी पार्टी में आपको कम से कम वस्त्रों में युवतियां दिखाई दे जायेंगी।

अंग दिखाने का तो अब बहाना चाहिए। स्कूल कॉलेज में आने वाली लड़कियां और युवतियां अधिक से अधिक अंग प्रदर्शन करने की कोशिश करती हैं। स्कूल कॉलेज की ऐसी लड़कियां जो भड़काऊ वस्त्रों व अंग प्रदर्शन से परहेज करती हैं उन्हें पिछड़ी हुई दकियानूसी लड़कियों में गिना जाता है।

आज फैशन मॉडल और सिने अभिनेत्रियां बड़े गर्व के साथ भड़काऊ वस्त्रों और अंग प्रदर्शन की हिमायत करती नजर आती हैं। इसमें दोष उनका नहीं। भड़काऊ वस्त्र पहनना उनकी व्यवसायिक मजबूरी हो सकती है पर आजकल की कॉलेज गर्ल एवं आम महिलाओं को ऐसे पहनावे से परहेज रखना होगा नहीं तो आप भी कभी न कभी किसी का शिकार बन सकती हैं। फैसला आप को स्वयं करना है कि आप कैसे स्वयं को सुरक्षित रखेंगी।

- कर्मवीर अनुरागी

Share it
Top