सुंदरता नहीं, बोल्डनेस जरूरी है आपके लिए

सुंदरता नहीं, बोल्डनेस जरूरी है आपके लिए

क्या दुनियां की सभी सफल महिलाएं अत्यधिक सुंदर हैं? नहीं। ऐसा कुछ भी नहीं है। किसी भी कार्यक्षेत्र में सफलता पाने हेतु यह जरूरी नहीं है कि आप अनुपम सौंदर्य की मलिका हों। हां, इसके लिए आपका बोल्ड होना बहुत जरूरी है।

क्या है बोल्डनेस

आपने देखा होगा, कई लड़कियां दब्बू किस्म की होती हैं। जब किसी अनजान या ऊंचे पद पर कार्यरत व्यक्ति से उनका सामना होता है तो वे उनसे ठीक तरह से बात नहीं कर पातीं। उनके चेहरे का रंग उड़ सा जाता है, नजऱें नीचे की ओर रहती हैं व जुबान हकलाने लगती है। यहां तक कि उनकी टांगें भी कांप रही होती हैं।

इसके विपरीत कुछ युवतियां ऐसी होती हैं, जो किसी भी व्यक्ति के समक्ष निडरता के साथ अपनी बात को रखती हैं और कभी-कभी तो अपनी तर्कपूर्ण बातों से बड़े से बड़े व्यक्ति को हिलाकर रख देती हैं।

यही है बोल्डनेस।

किसी भी मुश्किल का डटकर सामना करना, निर्भय होकर किसी से भी बातचीत करना, स्वतंत्रतापूर्वक किसी भी काम को सम्पन्न करने की क्षमता रखना ही बोल्डनेस है।

कैसे आती है बोल्डनेस

बोल्ड होने का यह मतलब कतई नहीं कि आप भड़कीले व ऊल जलूल वस्त्र पहनें, अत्यधिक मेकअप करें, बालों को बेढंगे स्टाइल दें। इस तरह से तो आपकी मूर्खता ही सिद्ध होगी। बोल्डनेस तो आपके व्यवहार में झलकनी चाहिए।

काम्या कपूर कहती हैं, 'आमतौर पर कई लड़कियां बोल्डनेस की परिभाषा को नहीं समझ पाती। उनके ख्याल में लड़कों के साथ घूमने फिरने, मौज-मस्ती करने, फिल्म देखने, महंगे होटलों में जाने व अंगदिखाऊ वस्त्र पहनने से ही बोल्ड बना जा सकता है परंतु ये बोल्ड दिखने के बहुत ही घटिया तरीके हैं।

उनके विचारों को सहमति प्रदान करते हुए राहुल खन्ना कहते हैं, लड़कियां जो रास्ता अपनाती हैं, वह बहुत ही गलत है। बोल्डनेस तो निडरता व आत्मविश्वास जैसे गुणों से आती है।

आप दुनियां की सफल महिलाओं की ओर नजर दौड़ाकर देखें, क्या उन्हें बोल्ड दिखने के लिए भड़कीले फैशन की आवश्यकता पड़ी थी। किसी भी ख्यातिप्राप्त महिला के रहन सहन पर नजर डालें तो वह सादगी की प्रतिमूर्ति नजर आएगी।

इसलिए युवतियों के लिए यह समझ लेना आवश्यक है कि बोल्ड दिखने हेतु उन्हें अपने आंतरिक गुणों को विकसित करना होगा। यदि आपके अंदर आत्मविश्वास है और आप किसी से भी निडरतापूर्वक अपनी बात कहने की क्षमता रखती हैं तो बोल्डनेस स्वत: ही आपके चेहरे से झलकने लगेगी।

मन व शरीर के स्वास्थ्य पर ध्यान दें।

बोल्ड देखने के लिए सबसे आवश्यक है आपका मानसिक व शारीरिक तौर पर स्वस्थ होना। अपनी सोच को सदैव सकारात्मक बनाएं रखें। कभी किसी के बारे में गलत ख्याल अपने दिमाग में न लाएं। छोटी-मोटी बातों को हंसकर टालना सीखें।

छोटों से प्यार व बड़ों का सम्मान करें। बेवजह किसी की आलोचना या बुराई न करें। स्पष्टवादी व व्यवहारिक बनें। कर्म में विश्वास रखें। कोई काम बिगड़ जाने पर महीनों व वर्षों उसके लिए अफसोस न करती रहें व न ही इसके लिए किस्मत को दोष दें।

शारीरिक स्वास्थ्य को बनाए रखने हेतु खानपान के प्रति सतर्क रहें। सम्भवतया अपनी शारीरिक क्षमता के अनुरुप व्यायाम करें। ऐसा करने से आपके चेहरे पर चमक आएगी जो बोल्डनेस की पहचान है।

सामान्य ज्ञान बढ़ाएं

आपके आसपास क्या हो रहा है, इसकी जानकारी आपको अवश्य होनी चाहिए। अपने देश के विभिन्न शहरों, वहां के लोगों के रहन-सहन व खानपान आदि के बारे में जानकारी प्राप्त करें। इसके साथ ही विश्व के छोटे-बड़े देशों के बारे में जानकारी हासिल करें।

जब आपका सामान्य ज्ञान बढ़ेगा तो आप किसी भी मुद्दे पर किसी से भी बातचीत कर सकती हैं। इससे आपका आत्मविश्वास तो बढ़ेगा ही, साथ ही लोगों पर भी आपका अच्छा प्रभाव पड़ेगा।

यह न सोचें, कोई क्या कहेगा

किसी भी सही कार्य को करते वक्त अन्य लोगों की टिप्पणी व आलोचना आदि की परवाह न करें। मन से यह भय निकाल दें कि कोई क्या कहेगा। यह जीवन आपका है और इसे भरपूर जीने का आपको हक़ है। दूसरों को कोई अधिकार नहीं कि वे आपके जीवन में दखलअंदाजी करें। सुनैना यादव कहती हैं, 'वैसे आज के ज़माने में तो बहुत कम लोग ऐसे हैं जो दूसरों की परवाह करते हैं परंतु जो युवतियां ऐसा करती हैं, उन्हें कहना चाहूंगी कि जब आप सही हैं तो कोई भी आपको आगे बढऩे से नहीं रोक सकता बशर्ते कि आपका इरादा मजबूत हो। यदि आप बेवजह ही दूसरों से डरती, झिझकती रहेंगी तो भविष्य में आपकी आलोचना करने वाले लोग ही आपको अपने आगे खड़े मिलेंगे।

यह तो तय है कि आप में कितनी भी योग्यता क्यों न हो, यदि आप में किसी की कमेंट्स या आलोचना सुनने की सामर्थ्य नहीं है तो आपकी योग्यता धरी की धरी रह जाएगी। वैसे भी किसी बड़े काम को करने हेतु आलोचनाओं का सामना करना ही पड़ता है।

अत: डरना, झिझकना छोड़ कर बोल्ड बनें। जो आपको सुविधाजनक लगे और जो सही हो, वही करें। भयमुक्त होकर काम करेंगी, तभी आपके चेहरे से बोल्डनेस झलकेगी।

व्यवहारकुशल बनें

दूसरों के प्रति अपने व्यवहार को सही रखें। यदि सामने वाला व्यक्ति आपके बारे में गलत सोचता है तो भी उसकी परवाह न करें। बस, आप अपने व्यवहार की ओर ही अपना संपूर्ण ध्यान लगाए रखें। दूसरों में कमियां निकालना छोड़, अपनी कमियों की ओर ध्यान दें तो ज्यादा बेहतर है।

बोल्डनेस कुशल व्यवहार से ही आती है। घर व बाहर अपने व्यवहार को संयमित रखेंगी तो दूसरों पर इसका अच्छा प्रभाव पड़ेगा।

यह सदैव याद रखें कि सुंदरता तो कुदरत की देन है परंतु बोल्ड बनने के लिए तो आपको स्वयं ही प्रयास करना होगा। यदि आप में बोल्डनेस है तो फिर आप सादा वस्त्र पहनें या फैशनेबल, बाल खुले छोड़ें या बांधकर रखें, सुंदर हों या असुंदर, इन बातों से कोई फर्क नहीं पड़ता। आपको मंजिल अवश्य मिलेगी।

- भाषणा बांसल

Share it
Top