नई नवेली दुल्हन को खुश रखने के टिप्स

नई नवेली दुल्हन को खुश रखने के टिप्स

वर्तमान युग में जीवन बहुत ही आपाधापी भरा हो गया है। ऐसे समय में हर किसी के पास समय की कमी है। पैसा ज्यादा कमाने की होड़ ने इंसान की सोच को बहुत प्रभावित कर दिया है। कमर तोड़ मंहगाई और रोजमर्रा के उपयोग में आने वाले सामानों के बढ़ते दामों ने लोगों का जीना दूभर कर रखा है।

ऐसे में मध्यम वर्गीय परिवारवालों के पास एक दूसरे को खुश रखने के लिए पर्याप्त समय भी नहीं बचा है। यह गम्भीर विषय है क्योंकि अगर आप अपनी नई नवेली दुल्हन को खुश रख पाएंगे तो आपके घर की शांति कभी भंग नहीं होगी और आपका भी हर काम में मन लगेगा। इसी परिपेक्ष्य में हम आपको बताने जा रहे हैं कुछ टिप्स... जिन्हें आजमाकर आप अपनी दुल्हन को तो प्रसन्न रखने में कामयाब होंगे ही, साथ ही बनाये रख सकेंगे अपने घर और परिवार की खुशहाली।

नई नवेली दुल्हन जब मायके से ससुराल आती है तो उसे वहां के तौर-तरीके सीखने में थोड़ा समय तो लगेगा ही। ऐसे में अगर उससे कुछ गलतियां हो जाएं तो उसे डांटने के बजाएं प्यार से समझाएं।

स्त्री बहुत ही संवेदनशील और भावुक होती है अत: आपको चाहिए कि आप उसे प्यार से समझाएं तथा उसे इतना प्यार दें कि वह आपके घर में स्वयं को सुरक्षित महसूस करे।

यह भी बिल्कुल सही है कि कोई भी व्यक्ति हर दृष्टि से सही नहीं होता। आप में भी कुछ कमियां हो सकती हैं और आपकी पत्नी में भी। ऐसे में दोनों आपस में मिलकर समस्या का निदान करें ताकि आपकी पत्नी हीन भावना से ग्रस्त न हो।

अगर आपको यह महसूस होता है कि आपकी पत्नी में कुछ कर दिखाने की क्षमता है तो उसे प्रोत्साहन दें और आगे बढऩे में उसकी मदद करें।

- पत्नी द्वारा किए गए अच्छे कार्यों की खुलकर तारीफ करें और किसी बात पर आपको आपत्ति हो तो एकांत में उसे ले जाकर समझाएं तथा अपने सुझाव से अवगत करायें।

- अधिकतर परिवारों में होता यही है कि सिर्फ पत्नी ही काम में लगी रहती है। ऐसे में वह थककर चूर हो जाती है और उसे सजने व संवरने के लिए भी समय नहीं मिलता। ऐसे समय में आप उसके कामों में थोड़ा हाथ बंटाएं। उसे बहुत अच्छा लगेगा और आपके घर का माहौल भी अच्छा रहेगा।

- अगर किसी जगह आप गलत है तो खुद ही अपना पक्ष रखते हुए अपनी पत्नी से माफी मांग लें। इससे उसकी नजर में आपकी इज्जत और बढ़ जाएगी।

- दिन भर घर का कामकाज करते रहने से औरत भी ऊब जाती है जिससे वह घर में बोरियत का अनुभव करने लगती है। इस माहौल को बदलने के लिए कभी कभार या छुट्टी वाले दिन उसे घुमाने या फिल्म दिखाने या शापिंग कराने या लंच, डिनर पर अवश्य ले जाएं। इस बदलते माहौल से वह खुश हो जाएगी।

- कुछ खास मौकों पर उसे जेवर या मनपसंद साड़ी वगैरह अवश्य दिलाएं। पति द्वारा दिया गया उपहार पाकर औरत बहुत खुश होती है अत: उसे उपहार देते रहें। साथ ही हर महीने के खर्च के अलावा उसे अलग से कुछ रूपए अवश्य दें ताकि वह अपने पसंद से सौंदर्य प्रसाधन या अन्य सामान खरीद सके।

- पत्नी की किसी कमी को बाहर के लोगों के सामने कभी भी न कहें। इससे उसका मन तो दुखेगा ही, साथ ही वह हीन भावना का शिकार भी होगी। ऐसे में वह अपने आपको अपमानित भी महसूस कर सकती है जिससे आपके घर का वातावरण खराब होगा। इस बात से हमेशा बचने की कोशिश करें ताकि पति पत्नी में कड़वाहट के बीज न पनप सके।

- अगर घर से पत्नी से झगड़ा कर निकले हैं तो ऑफिस या दुकान पर उसका गुस्सा न दिखाएं। इससे आपका गलत प्रभाव पड़ेगा। साथ ही आफिस का गुस्सा घर जाकर पत्नी पर कभी न उतारें।

अगर ऐसे समय घर लौटते वक्त कोई उपहार ले जाते हैं तो फिर देखिए आपकी पत्नी का व्यवहार। दूसरे दिन से आपसे लडऩे झगडऩे के बजाए आपका कितना ध्यान रखती है। अगर आप ऊपर लिखी गई पूर्ण रूप से अनुभवी बातों को आजमाकर देखें तो आपका जीवन दांपत्य सुखों से भरपूर होगा और खुशहाल जिन्दगी जिएंगे।

अपनी पत्नी के साथ खुशहाल रहें, इसके लिए 'चाणक्य' नीति भी यही कहती है।

'आचार्य चाणक्य के मतानुसार औरत के चेहरे की सुन्दरता और शरीर की बनावट पर ही पुरूष मरता है। यही कारण है कि वह एक औरत के साथ रहते हुए भी दूसरी औरत को बुरी नजर से देखता है। ऐसा करते समय वह यह भूल जाता है कि हर औरत के अंग तो एक ही जैसे हैं, इसलिए उसे एक ही औरत से अपने संबंध रखने चाहिए।'

- जे.के. शास्त्री

Share it
Top