ध्यान दें अपने स्टाइल पर

ध्यान दें अपने स्टाइल पर

आज के युग में हर व्यक्ति अपने आप को आकर्षक बनाए रखना चाहता है। आकर्षक बनाए रखने के लिए कुछ स्टाइल तो अपनाने पड़ते हैं जिससे आप दूसरों से कुछ अलग दिखाई दें।

- जब आप कुछ सोच रहे हैं तो सिर को न खुजायें, न ही नाखून चबायें। जोर जोर से अपने पैरों को न हिलाएं। ऐसा करना आपकी छटपटाहट को दर्शाता है।

- कुर्सी से उठते समय सहारा नहीं लेना चाहिए। अपने सहारे से उठें।

- चलते समय ध्यान दें कि कदम इधर उधर न डगमगायें। सीधे चलें।

- बैठते समय कमर झुकाकर नहीं, सीधा बैठें।

- कुछ लोग चलते समय पांव पटक कर या घिसट कर चलते हैं। इससे व्यक्तित्व अनाकर्षक लगता है।

- किसी से मिलकर बातें करते समय उंगलियां चटकाना अच्छे व्यक्तित्व के प्रतिकूल लगता है।

- आप चाहे किसी भी पोस्चर में क्यों न बैठें, यदि चेहरे पर खिली मुस्कान होगी तो वह आपके व्यक्तित्व को चार चांद लगा देगी।

- काफी समय से एक ही मुद्रा में बैठे या खड़े खड़े थक गए हों तो दीवार, कुर्सी या किसी चीज़ से थोड़ी देर के लिए सहारा ले लें। पैर के तलुओं को मोड़ कर रिलेक्स न होइए।

- बातें करते समय हाथ नचाना, आंखें मटकाना या हंसते समय दूसरों को थपथपाना आपकी पर्सनेलिटी को बिगाड़ सकता है।

- बात करते समय आंखों को जमीन की तरफ न रखें, न ही पैर के अंगूठे से ज़मीन को कुरेदें। यह शिष्टाचार के अनुकूल नहीं है।

- बैठते समय विशेषकर किसी के सामने टांग के ऊपर टांग या घुटने पर टांग न रखें। दोनों घुटनों को मिलाकर टांगें सीधी रख कर बैठें।

- अधिक समय तक कमर झुका कर बैठे रहने से सुस्ती सी छाने लगती है।

- बात करते समय दूसरे व्यक्ति के एकदम नज़दीक न जायें। कम से कम दो फुट की दूरी बनाएं रखें।

- जोर जोर से बात करना, ठहाके मारकर हंसना, ताली बजाना, हाथ मार कर बात करना बचकाना लगता है जिससे आपका व्यक्तित्व खराब सा लगता है।

- कंधे झुका कर न चलें और चलते समय गर्दन सीधी रखें।

इन सब बातों को ध्यान में रखकर आप अपने व्यक्तित्व को चार चांद लगा सकते हैं।

- सुनीता गाबा

Share it
Top