जरूरी है त्वचा की देखभाल

जरूरी है त्वचा की देखभाल

सर्द हवा से हमारी त्वचा बुरी तरह प्रभावित होती है। त्वचा में रूखापन आ जाता है। ठंडी हवा में तीखापन होता है जिससे हमारी त्वचा प्रभावित होकर शुष्क हो जाती है। सर्दियों में ठंडी हवा का सबसे अधिक दुष्प्रभाव हमारे चेहरे की त्वचा पर पड़ता है जिससे त्वचा अधिक रूखी और धूमिल हो जाती है। यदि जाड़े के मौसम में स्नान करने से पहले शरीर पर तेल की मालिश करके ही स्नान किया जाए तो शरीर को अतिरिक्त तेल प्राप्त होगा और त्वचा स्निग्ध बनी रहेगी। स्नान के बाद शरीर पर कोई बढिय़ा लोशन जरूर लगाना चाहिए। इससे शरीर की त्वचा कोमल रहेगी और उस पर झुर्रियां नहीं पड़ेंगी। चेहरे का रूखापन दूर करने के लिए एक चम्मच शहद में 4-5 बूंदें नींबू रस मिलाकर चेहरे पर लेप करें तथा 10-15 मिनट बाद चेहरे से लेप को धो डालें। इस लेप के इस्तेमाल से चेहरे का रूखापन दूर होकर चेहरे की त्वचा स्निग्ध और कोमल बनी रहेगी। रात को सोने से पहले गुलाब जल और ग्लिसरीन बराबर-बराबर मात्रा में एक साथ मिलाकर चेहरे पर लगा लें। करीब 15-20 मिनट बाद चेहरे को पानी से धो डालें। इस लेप का इस्तेमाल दिन में भी किया जा सकता है। यदि चेहरे की त्वचा शुष्क होकर फट रही हो तो चेहरे को गुनगुने पानी से धोकर उस पर मलाई, वैसलीन या अच्छी गुणवत्ता वाली कोल्डक्रीम लगाएं। इस प्रयोग से चेहरे की त्वचा कोमल बनी रहेगी तथा फटेगी नहीं। सर्दियों में हाथ-पैरों की त्वचा शुष्क होकर फटने लगती है। इन्हें फटने से बचाने के लिए रात में हाथ-पैरों में बढिय़ा क्वालिटी का क्रीम लगाकर सोएं। दिन में भी हाथ पैरों पर क्रीम लगाई जा सकती है। सर्दी का दुष्प्रभाव बालों पर भी पड़ता है। बालों की कोमलता और चमक नष्ट होकर बाल रूखे हो जाते हैं। बालों की चमक व चिकनापन बनाए रखने के लिए बालों में किसी अच्छे तेल की भली भांति मालिश करें। इससे बालों को पौष्टिकता प्राप्त होगी तथा उनका रूखापन दूर होगा। बालों में मुल्तानी मिट्टी, शैंपू, आंवला या रीठा लगाकर स्नान करने से बालों को लाभ पहुंचता है। उनका रूखापन दूर होकर बाल कोमल, चिकने और चमकदार बने रहते हैं।

- प्रभा सांघी

[रॉयल बुलेटिन अब आपके मोबाइल पर भी उपलब्ध, ROYALBULLETIN पर क्लिक करें और डाउनलोड करे मोबाइल एप]

Share it
Top