आवश्यक है सर्दियों में नवजात शिशु की देखभाल

आवश्यक है सर्दियों में नवजात शिशु की देखभाल

आमतौर पर सर्दियां आते ही छोटे बच्चों की माताएं सर्दी से बचाने के लिए उन्हें ढेर सारे कपड़े पहनाती हैं ताकि ठंड से उनका बचाव किया जा सके। कई माताओं में तो सर्दी का भय इस हद तक होता है कि वे रात को बच्चे को सुलाते समय भी कई कपड़े पहनाएं रखती हैं मगर यह स्थिति हानि भी पहुंचा सकती है। नवजात शिशु को सर्दी से बचाने के लिए निम्न उपाय प्रयोग में लाए जा सकते हैं।

- रात को बच्चों को सुलाते समय तुलसी का सेवन कराने से सर्दी नहीं लगती। तुलसी का रस व शहद की एक बूंद चटाने से लाभ होता है। प्रात: काल बच्चे को शहद चटाने से भी ठंड का प्रकोप नहीं होता।

- छोटे बच्चों को राई के तेल की मालिश करके सुबह की धूप में सुलाना चाहिए।

- शिशु के नहाने से पहले शहद व नींबू का रस उसकी छाती पर मलें। यह उपाय शिशु को ठंड से बचाने के लिए उपयुक्त है।

- जहां बच्चे के सोने की जगह है, वहां पर एक कपड़े में प्याज बांध कर रख दें। इससे सर्दी का प्रकोप नहीं होगा।

- गुनगुने पानी में नीम की पत्तियों को उबाल कर उस से शिशु के शरीर को पोंछें। सर्दियों में यह उत्तम उपाय है।

- शिशु को ठंड से बचाने का सबसे अनमोल व सरल उपाय है कि उसे खूब हंसाएं या रोते हुए को कुछ देर तक चुप न कराएं।

इन सब उपायों का प्रयोग करके आप अपने बच्चों को ठंड से बचा सकती हैं व भयमुक्त हो सकती हैं।

- शैली माथुर

रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

Share it
Top