भोजन परोसना भी एक कला है

भोजन परोसना भी एक कला है

ऐसे अनेक अवसर आते हैं जब आप लंच या डिनर पर मेहमानों को आमंत्रित करती हैं। मेहमानों को भोजन परोसते समय सावधानियां बरतनी पड़ती हैं। इसलिए आपके भोजन परोसने व खिलाने का ढंग ऐसा होना चाहिए कि मेहमान तृप्ति महसूस करें।

कभी-कभी कुछ बिन बुलाए मेहमान भी आ जाते हैं जिन्हें आप बहुत खराब मूड से भोजन परोसती हैं पर आप यह बात भूल जाती हैं कि आपकी जानबूझ कर की गई कई असावधानियां मेहमानों के लिए आपमें कमियां बन जाएंगी। इसलिए भोजन कराते समय आपके मूड का अच्छा व प्रसन्नतापूर्ण होना बहुत आवश्यक है। तभी आप एक कुशल गृहिणी कहलाएंगी।

दावत खिलाते समय इन असावधानियों से बचिए ताकि आपकी दावत की प्रशंसा हो सके। ये असावधानियां कई तरह की हो सकती हैं जैसे आप खाना खिलाते-पिलाते दूसरे कामों में जुटी हुई हैं। ऐसा भी हो सकता है कि आप खाना इतना परोस दें कि व्यर्थ फेंकना पड़े अथवा इतना कम परोसें कि बार-बार मांगना पड़े। इन असावधानियों से बचने के लिए सारी व्यवस्था सुनियोजित होनी चाहिए और भोजन परोसते समय व खिलाते समय निम्न बातें ध्यान में रखिए:-

- जब खाना तैयार हो जाए तो ऐसे बर्तनों में रखिए जो आपके डाइनिंग टेबल की शोभा बढ़ाएं। फुल प्लेट्स में रोटी, पूड़ी, नान इत्यादि रखिए। चावल पुलाव आदि राइस प्लेटों में रखिए। डोंगों में सब्जियां रखिए। " रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

- रोटी, पूड़ी आदि के अलावा किसी चीज को हाथ से न परोसें। सभी वस्तुओं को परोसने के लिए छोटे बड़े चम्मच इस्तेमाल करिए।

- खाने को डाइनिंग टेबल पर रखने के प्रबंध करने के बाद आप परोसने का इंतजाम करिए। क्राकरी में फुल प्लेटें, गहरी प्लेटें, टी-स्पून, छुरी, कांटे, खाने वाले सदस्यों के अनुसार टेबल के चारों तरफ करीने से रखिए। चम्मच, छुरी कांटे प्रत्येक प्लेट के साथ रखिए।

- पानी के गिलास शुरू में ही भरकर हर एक के बायें हाथ की ओर रख दीजिए और टेबल के बीचों बीच पानी का एक भरा हुआ जग रख दीजिए ताकि आवश्यकतानुसार पानी और लिया जा सके।

- रोटी या पूड़ी फुल प्लेट्स में परोसिए, गहरी प्लेटों अथवा स्टील की कटोरियों में सब्जियां रखिए। दही रायता इत्यादि भी गहरी प्लेटों में परोसिए।

- भोजन को डाइनिंग टेबल पर सजा कर आप मेहमानों से आग्रह करें कि वे अपनी इच्छा व रूचि के अनुसार खुद परोसें। इसका लाभ यह होता है कि भोजन व्यर्थ नहीं जाता व आवश्यकतानुसार मेहमान स्वयं दुबारा ले सकता है।

- बच्चों को भोजन परोसते समय विशेष ध्यान दीजिए। अगर वे स्वयं परोस रहा है या आप परोस रहे हैं तो अधिक मत परोसिए। बच्चे को थोड़ा-थोड़ा डाल कर दीजिए और उससे बीच-बीच में पूछती रहें कि उसे क्या चाहिए।

- भोजन करते समय इतनी सतर्क रहिए कि खाना खाने वाला किसी चीज की कमी महसूस न करें।

- भोजन के समय कभी भी घर की समस्याओं की चर्चा या वाद-विवाद नहीं करना चाहिए।

- जब भोजन समाप्त हो जाए तो आप कुछ मीठा, जो आपने तैयार रखा हुआ हो, प्लेट अथवा तश्तरी में रखकर ले आइए व परोसें।

- अंत में आप हाथ धुलाने के लिए पानी व तौलिया तैयार रखिए। इन सब बातों का ध्यान रखते हुए अगर आप अपनी सूझ-बूझ से किसी दावत का सही प्रबंध करेंगी तो आप सबकी प्रशंसा की पात्र बनेंगी।

- सोनी मल्होत्रा

" रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

Share it
Top