साड़ी है सदा के लिए

साड़ी है सदा के लिए

महिला और साड़ी का नाता सदियों पुराना है। किसी भी भारतीय महिला के वार्डरोब में आपको जो परिधान सबसे ज्यादा नजर आएगा वह है साड़ी। भले ही फैशन में समय के साथ कई चीजें आई-गई लेकिन साड़ी सदाबहार है। बात खास मौकों और शादियों की हो तो साड़ी से अच्छा कोई ऑप्शन नहीं है। फैशन डिजाइनरों ने साड़ी को ग्लैमरस लुक दे दिया है। पारंपरिक दिखना हो या ग्लैमरस, साड़ी में दोनों ही लुक बखूबी मिलते हैं।

चाहे टे्रडिशनल हो या फ्यूजन, साड़ी ने हमेशा ही भारतीय महिलाओं के दिल में अपनी जगह बनाए रखी। निश्चय ही हर रोज बदलते फैशन ट्रेंड में कितने ही परिवर्तन क्यों न हो जाएं लेकिन महिलाओं के पसंदीदा परिधान में साड़ी की जगह कोई नहीं ले सकता। साड़ी एक परिधान ही नहीं, हमारी संस्कृति का वह हिस्सा है जिसके बिना महिलाओं की खूबसूरती का वर्णन अधूरा लगता है। यही वजह है कि सालों से अपनाया जाने वाला साड़ी का फैशन पुराना नहीं हुआ। रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

एक ओर जहां फैशन इंडस्ट्री के विस्तार के साथ भारत में कई प्रकार के परिधानों की मांग बढ़ी तो दूसरी ओर साड़ी के स्वरूप में भी कई परिवर्तन हुए, मगर इसका क्रेज हमेशा बरकरार रहा। इसी के चलते वेस्टर्न स्टाइल अपनाने वाली बॉलीवुड अभिनेत्रियां भी इन दिनों साड़ी को ही अपना स्टाइल स्टेटमेंट बना रही हैं। किसी भी देश का परिधान महिला को उतना खूबसूरत नहीं दिखा सकता जितना वह साड़ी में नजर आती है। नेट साड़ी और लहंगा साड़ी डिमांड में हैं। कुछ समय से ये साडिय़ां चलन में हैं लेकिन अभी तक आउटडेटेड नहीं हुई हैं। पूरी नेट, हॉफ नेट, शोल्डर नेट कई तरह की वैरायटी में मौजूद हैं। ब्राइट कलर डिमांड में है। लाइट कलर के कॉम्बिनेशन को पसंद किया जा रहा है। व्हाइट तो हॉट है ही, व्हाइट के साथ दूसरे रंगों का अच्छा कॉम्बिनेशन रहता है। शिफॉन के साथ जॉर्जेट की साडिय़ों का कलेक्शन मार्केट में है।

पहले कॉरपोरेट सेक्टर में काम करने वाली महिलाओं को फॉर्मल्स पहनने के लिए कहा जाता था लेकिन अब इस सेक्टर में काम करने वाली महिलाओं के लिए भी साड़ी उनकी पहली पसंद बन चुकी है। कामकाजी महिलाएं अपने प्रोफेशन और व्यक्तित्व के अनुसार साड़ी पहनना पसंद करती हैं। अक्सर लेखन, चित्रकला या फिर कला से जुड़े किसी क्षेत्र को अपना प्रोफेशन बनाने वाली महिलाएं कॉटन साडिय़ां पसंद करती हैं, वहीं कॉरपोरेट सेक्टर में काम करने वाली महिलाएं कॉटन के साथ बोल्ड और ऐसे प्रिंट अपनाना पसंद करती हैं जो उनके आत्मविश्वास और निर्भीकता को दर्शाते हैं। रेडी टू वियर कांसेप्ट आने के बाद से साड़ी बांधने का पहले जैसा झंझट भी नहीं रहा है। साड़ी व्यक्तित्व को दर्शाने का एक माध्यम भी बन चुकी है।

- नरेंद्र देवांगन

रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

Share it
Top