पति से काम लेने का भी हैं अपना अंदाज

पति से काम लेने का भी हैं अपना अंदाज

अधिकतर महिलाओं को एक ही परेशानी होती है कि पति देव काम में हाथ नहीं बंटाते। सारे गृह कार्य उन्हें अकेले ही करने पड़ते हैं पर अब समय बदल गया है। अब महिलाएं भी कंधे से कंधा मिला कर बाहर पुरूषों की मदद करती हैं तो पुरूष भी घर के कामों में क्यों न मदद करवाएं।

किसी से काम लेना भी एक कला है। पुरूष प्रधान देश में पुरूषों से काम लेना तो और मुश्किल होता है पर कुछ अदाएं या नुस्खे ऐसे हैं जिन्हें हम अपने जीवन में ले आएं तो हम पुरूषों से अपने काम में मदद ले सकते हैं।

अपने पार्टनर से काम लेने का एक प्यारा अंदाज होना चाहिए जिसे वह मना ही न कर सके। प्यार से उसके निकनेम का प्रयोग करते हुए कहें, सुनो, मैं जरा इस काम में बिज़ी हूं प्लीज, आप तब तक जऱा वो देख लें।

हुक्म करके काम करवाएंगे तो उन्हें बुरा लगेगा क्योंकि वे पुरूष प्रधान देश के पुरूष हैं। वैसे भी मनोवैज्ञानिकों के अनुसार पुरूष अपने लिए कही जा रही बात के लिए सेंसिटिव होते हैं। जिन बातों से वे अपने आपको डाउन महसूस करते हैं, उन्हें कभी नहीं मानेंगे। ऐसे पुरूषों के लिए प्यार या अदा ही काम आ पाएगी। रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

उन्हें समझाएं अलग अंदाज से

यह सच है कि जब शादी होती है तो अधिकतर महिलाएं अपने पार्टनर के सभी काम कर उनकी आदतों को बिगाड़ देती हैं। जैसे जैसे घर परिवार का बोझ उन पर बढ़ता जाता है और सहयोगी से कुछ सहयोग नहीं मिलता तब महिलाएं अंदर ही अंदर कुढ़ती हैं। कभी कभी व्यंग्य भी कसती हैं। इससे रिलेशनशिप खराब होने लगती है।

मनोचिकित्सकों के अनुसार ऐसी स्थिति में अपने पार्टनर को समझाएं और बात करें कि अब जीवन में बहुत तब्दीलियां आ गई हैं ओर मुझे आपके सहयोग की जरूरत है। यदि आप सहयोग करेंगे तो घर की गाड़ी बहुत आराम से चलेगी। मैं प्रसन्न और ठीक रहूंगी तो मैं आपका और परिवार का बोझ आराम से उठा सकूंगी। यकीनन इतने प्यार भरे अंदाज को आपके पार्टनर ठुकराएंगे नहीं और कुछ न कुछ मदद करना प्रारम्भ कर देेंगे।

'जो पुरूष घर के कामों में अपने पार्टनर की मदद करते हैं, उनकी पत्नियां बेहतर सेक्सुअल रिस्पांस देती हैं। इसका कारण यह है कि वे मानसिक रूप से अधिक खुश रहती हैं और शारीरिक रूप से भी उन्हें थकान कम होती है, तभी वे अपने पार्टनर का पूरा ध्यान रखती हैं। ऐसे में वैवाहिक जीवन अधिक खुशहाल रहेगा। जब कभी पति आपका सहयोग करे तो मधुर चुंबन और आलिंगन द्वारा उनका धन्यवाद करें। इससे वे और उत्साहित होंगे।

पति को यह भी समझाएं कि अगर वे आपका ध्यान रखेंगे और आपके कामों में आपकी मदद करेंगे तो बच्चे भी यही सीखेंगे। उन्हें भी प्रेरणा मिलेगी कि हम भी मम्मी की मदद करें। पापा बच्चों को यह भी समझा सकेंगे कि यह घर और घर के काम हम सब के हैं। अगर हम मिलजुल कर घर के कामों में मदद करेंगे तो हम अपने घर को अधिक खूबसूरत और आरामदायक बना सकते हैं।

अगर पार्टनर आपकी मदद कर रहे हैं तो इस बात को महत्त्व न दें कि वे 50 पर्सेंट आपकी मदद करें। जितनी भी मदद करते हैं और उससे आपके कुछ काम कम होते हैं तो उसके लिए उन्हें धन्यवाद दें न कि कम मदद के लिए ताने दें। हो सकता है कि वे खुश होकर धीरे धीरे आपकी अधिक मदद करना प्रारम्भ कर दें। इसलिए उनसे अधिक काम की जिद्द न कर थोड़े से शुरूआत करवायें।

काम करवाते समय रखें उनकी पसंद का भी रखें ध्यान

महिलाओं को ऐसा नहीं सोचना चाहिए कि पति उनके साथ किचन में, कपड़े धोने में, प्रेस करने में उनकी मदद करें बल्कि जो काम वे प्रसन्नता से करें, वही उनसे करवायें जैसे गार्डनिंग, डस्टिंग, एक्वागार्ड से पानी भरना, अपने वार्डरोब की सफाई, अपने जरूरी सामान की देखभाल और सफाई (शेविंग किट, शूज पालिश, अपना तौलिया) टिफिन बंद करना, लस्सी बना देना, मैंगो शेक बनाना, रात्रि में या सुबह बिस्तर ठीक करना, न्यूजपेपर अपनी जगह रखना, घर पर पेट है तो उसे घुमाना आदि। इस तरह आपकी मदद भी हो जाएगी और उनको बोरियत भी नहीं होगी।

- नीतू गुप्ता

रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

Share it
Top