डेट को बनाएं यादगार

डेट को बनाएं यादगार

आज के समय में डेट पर जाना कुछ अटपटा नहीं लगता। मेट्रो सिटीज में तो यह एक आम बात है। स्कूल टाइम से ही कुछ बच्चे डेटिंग करना प्रारंभ कर देते हैं। कॉलेज पहुंचने पर तो यह सब बहुत कामन है। वर्किंग गल्र्स भी डेट पर जाती हैं सिंगल हैं या शादीशुदा उन्हें भी डेट पर जाने में कोई एतराज नहीं। चाहे आप पहली डेट पर जाएं या पचासवीं पर, हर डेट को यादगार बनाएं तो हर डेट पर जाने का इंतजार बेसब्री से बना रहेगा।

कामकाजी शादीशुदा लोगों को तो जरूर डेट पर जाना चाहिए क्योंकि रूटीन लाइफ में तो मशीनी जिंदगी ही जीते हैं कामकाजी शादीशुदा कपल्स। क्षण सभी तनावों को दूर करने के लिए उन्हें भी चाहिए ताकि वे भी अपने रिश्तों को हैल्दी बनाए रख सकें। जब भी डेट पर जाएं उसे यादगार यूं बना सकते हैं।

सुंदर दिखें:- डेट पर जाने से पहले अच्छी तरह तैयार हो कर जाएं इससे आपका आत्मविश्वास बढ़ता है। अगर डेट पर जाने से पहले थकान महसूस हो रही है तो एक झपकी नींद की ले लें। उसके बाद आपमें ताजगी का संचार होगा। भूख लग रही हो तो हल्का फुल्का कुछ खा लें ताकि डेट पर जाएं तो दिमाग पूरी तरह उस पर केंद्रित रह सके।

बातचीत करें:- डेट पर अच्छा माहौल बनाए रखने के लिए रूटीन से हटकर बात करें जिसमें आपके स्कूल कॉलेज में बिताए अच्छे क्षणों को लेकर या कुछ अच्छी फिल्मों के बारे में बात करें। थोड़े मजाक भी जरूरी हैं पर ध्यान दें कोई ऐसा मजाक न करें जो दूसरे को किसी भी तरह से आहत करे। पहली बार डेट पर जा रहे हैं तो जनरल बातचीत करें। अपनी पसंद नापसंद और साथी की पसंद नापसंद पर भी बात करें। कुछ बातों का हां या न में ही उत्तर दें।

डेटिंग स्थल:- डेट पर जाने के लिए आवश्यक नहीं कि किसी महंगे स्थान पर ही जाया जाए। बस ध्यान दें कि माहौल अच्छा हो और खाना भी अच्छा हो। जहां आप को साथ बैठकर अच्छा लगे। ऐसे में बोटिंग कर सकते हैं, मॉल में घूम सकते हैं, वाटर पार्क, सिनेमा हाल, रेस्टोरेंट आदि में जा सकते हैं।

जानकारी रखें डेटिंग स्थल की:-

जिस डेटिंग स्थल पर आप जा रहे हैं उसकी जानकारी दोनों को होनी चाहिए। स्थान ऐसा चुनें जो शहर से अधिक दूर न हो और आसानी से पहुंचा जा सके। उसकी पार्किंग के बारे में, बैठने के स्थान के बारे में पहले से जानकारी हो तो अच्छा रहता है। फिर किसी तरह का तनाव नहीं रहता।

अपनी सोच लचीली रखें:- कभी कभी डेटिंग स्थान या माहौल आपकी उम्मीद के मुताबिक नहीं है तो मूड आफ न करें। अपनी सोच में लचीलापन रखें उस समय को व्यर्थ बहस में न गंवा कर उस आउटिंग का आनंद उठाएं। अपनी बातों से या डिस्कशन से माहौल को हल्का करें। इस तरह आप उस समस्या से भी उबर जाएंगे और एक दूसरे को समझने का अवसर व्यर्थ नहीं जाएगा।

चेहरे पर मुस्कान बना कर रखें:-

बस एक मुस्कान ही दोनों को आरामदायक जोन में बनाए रख सकती है। दोनों के चेहरों पर प्यार भरी मुस्कान सभी तनावों को दूर करती है क्योंकि डेट दोनों की है। डेट पर पार्टनर का इम्तिहान मान कर न चलें, न ही जोश दिखाएं नहीं तो निराशा हाथ लग सकती है।

समय का रखें ध्यान:- जो समय मिलने का तय किया है, उसी समय पर पहुंचने का पूरा प्रयास करें। देरी पाटर्नर को गुस्सा दिला सकती है। अगर किसी भी कारण से देर हो रही हो तो सूचित कर दें। कितना समय बिताना है, उस पर भी पहले बात कर लें। देर से घर जाना लड़की के लिए उचित नहीं। उससे अधिक देर तक रूकने की उम्मीद न करें। समय की सीमा आपसी रिश्तों में विश्वास और गरिमा बना तो सकती है।

अहमियत दें:- डेट पर अपने पार्टनर को पूरी अहमियत दें। अपनी पुरानी बातें या पुरानी दोस्ती को याद कर समय बर्बाद न करें। अगर कुछ पुरानी बातों या दोस्ती को याद कर कुछ कहना चाहते हैं तो उस बात का पहले रेफरेंस दें क्योंकि कभी भी डेट पर यह न लगे कि आप एक दूसरे को अहमियत न देकर पास्ट में खोए हुए हैं। किसी और की बात कर रहे हैं तो पहले अपने पार्टनर को उनसे क्या संबंध है, जानकारी दें।

एक दूसरे की तारीफ करें:- तारीफ का अर्थ यह नहीं कि आप झूठी तारीफ करें या पुल बांध दें पर पार्टनर की डेऊेस सेंस, सेंस ऑफ हयूमर, उसकी पर्सनेलिटी, उसकी सुंदरता की तारीफ अवश्य करें। यह दोनों तरफ से होना चाहिए। अंत में लड़की को धन्यवाद देना चाहिए कि आज की डेट अच्छी रही, जगह का चुनाव, खाना अच्छा रहा।

अच्छे दिनों को याद करें:-

डेटिंग लंबी चल रही हो यानी काफी समय से आप मिल रहे हों तो सब रूटीन लगता है। इस रूटीन को तोडऩे के लिए शुरू शुरू की डेटिंग को याद करें। पहली डेट पर मिलने पर किन बातों ने एक दूसरे को प्रभावित किया, किन अदाओं पर फिदा हुए आदि। अगर शादी शुदा हैं तो एनवर्सरी, बर्थ डे, नाइट आउट की डेटिंग अवश्य करें।

- नीतू गुप्ता

Share it
Top