पति पर शासन न करें

पति पर शासन न करें

पुरूष की जिन्दगी में प्रेरणा शक्ति का स्रोत और उसका सबसे महत्त्वपूर्ण अंग उसकी पत्नी और परिवार होते हैं। पुरूष का व्यक्तित्व, स्वभाव और करियर बहुत हद तक पत्नी से जुड़ा होता है। पुरूष का सामाजिक परिवेश में कैसा स्थान है, यह भी काफी हद तक पत्नी पर निर्भर करता है।

यदि बहुत सी महान हस्तियों को बनाने का श्रेय उनकी पत्नी को जाता है तो वहीं कई पत्नियां अपने पति को शराबी, कुंठाग्रस्त और हृदयरोगी भी बना देती हैं।

व्यक्तिगत और सामाजिक परिपेक्ष्य में वही स्त्री सफल मानी जाती है जो अपने पति के सुख-दु:ख की साथी बनती है। पत्नी केवल यह नहीं देखे कि पति की कमाई कितनी है बल्कि यह भी देखे कि कमाई कैसे होती है और ऐसी पत्नियों को ही पति का प्यार व आदर मिलता है।

यदि पत्नियां नहीं चाहती कि पति काम के बोझ से टूटे हुए घर लौटें, हर वक्त तनाव में रहें, घर का माहौल अशांत हो तो पति पर हुकूमत न जमायें बल्कि उनकी हमदर्द सलाहकार बनें, उनकी समस्याओं को बांटें।

पत्नी की सफलता के लिए आवश्यक सुझाव प्रस्तुत हैं-

- पति की जितनी क्षमता हो, उतने की ही अपेक्षा करें। यदि आप उनकी क्षमता से ज्यादा की अपेक्षा करती हैं तो उन पर काम का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा। इससे उनके स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ेगा।

- पति को नीचा दिखाने की चेष्टा न करें। इससे उनके स्वाभिमान को आघात पहुंचेगा। फलत: वह आपकी उपेक्षा करने लगेंगे।

- पति को महत्त्व दीजिये। इसके लिये उनकी प्रशंसा भी करनी पड़े तो कतराइये मत क्योंकि हर पति अपनी पत्नी की दृष्टि में प्रशंसा का पात्र बनना चाहता है। आपकी थोड़ी सी प्रशंसा उनके उत्साह को बढ़ा देगी।

- बच्चों के सामने पति को पूरा महत्त्व दें। बच्चों के सामने पति का तिरस्कार न करें। यदि आप ऐसा करेंगी तो बच्चे भी ऐसा ही करेंगे।

- पति को घर से प्रसन्न मन: स्थिति में विदा करें वरना उनका सारा दिन खराब बीतेगा। यदि घर से पति खराब मूड लेकर निकलेंगे तो स्वाभाविक है कि दफ्तर में भी तनाव रहेगा।

- पति से कुछ भी छिपायें नहीं वरना किसी और से तथ्य पता लगने पर वह आप पर विश्वास करना छोड़ देंगे।

- पानी, बिजली, फोन आदि के बिल स्वयं भरकर पति की जिम्मेदारियां कम करें।

- बच्चों की फीस, पढ़ाई और घरेलू सामान की खरीदारी स्वयं करें।

ऐसा करने से पति स्वयं को हल्का फुल्का और तनावमुक्त अनुभव करेंगे और वे अपना काम अधिक लगन और उत्साह के साथ करेंगे और सफलता की सीढिय़ां चढ़ते चले जायेंगे।

- अभिमन्यु कुमार

Share it
Top