कैसा हो आपका पहनावा-ढीला या चुस्त?

कैसा हो आपका पहनावा-ढीला या चुस्त?

आजकल फैशन के नाम पर ऐसी डे्रसेज को देखने का मौका मिलता है जो या तो सिर्फ फिल्मों में ही नजर आती हैं या फिर 'फैशन शो' और पत्र-पत्रिकाओं में। सामान्यतत: इनमें वे ही कपड़े दिखाई देते हैं जो या तो अधिक चुस्त होते हैं या अत्यधिक ढीले अथवा अत्यंत छोटे व अजीब से। इस तरह के कपड़े निश्चय ही हमारे आम जीवन का हिस्सा नहीं बन सकते और जो लोग इन्हें आम जीवन में लाने का प्रयास करते हैं, उन्हें लोग अजीब नजरिए से देखते हैं।

बनियान, चुस्त चोलियां जिस तरह पश्चिमी देशों में सार्वजनिक स्थानों पर पहनी जाती हैं, वैसा फिलहाल भारत में पहनने का प्रचलन सार्वजनिक नहीं हो पाया है परन्तु ऐसे वस्त्रों को पहनकर युवतियां नहीं निकलती, ऐसा भी नहीं माना जा सकता। आकर्षक दिखने के लिए आज की युवतियां किसी भी पोशाक को पहनकर सड़क पर निकलने के लिए तैयार रहती हैं। चुस्त कपड़ों को पहनकर स्तनों के

उभार को दिखाने का फैशन परवान चढ़ चुका है।

यूं तो चुस्त या ढीले वस्त्र पहनने वालों की व्यक्तिगत पसंद पर निर्भर है। चुस्त पहनने वालों को ढीला वस्त्र पहनने के लिए तथा ढीले वस्त्र पहनने वाले को चुस्त कपड़े पहनने पर विवश तो नहीं किया जा सकता। दोनों ही पक्ष अपने-अपने नजरिए से अपनी इच्छानुसार वस्त्र पहनने का तर्क देते हैं। यह विवाद अंतहीन ही बना रहता है और बना रहेगा भी।

कपड़े चुस्त हों या ढीले-जरूरत है तो सिर्फ स्वस्थ और परिपक्व नजरिए की। सीमा से अधिक सभी कुछ बुरा होता है। अत्यधिक चुस्त कपड़े जहां स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होते हैं वहीं उनको पहनने से आरामदायक स्थिति में नहीं रहा जा सकता। बैठने-उठने से लेकर पेशाब करने तक में परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इस कारण कई बार हास्यास्पद स्थितियां भी पैदा हो जाती हैं। इसी तरह अत्यधिक ढीले कपड़े भी कभी-कभी हास्य का पात्र बना डालते हैं। ज्यादा ढीले कपड़े मन में हीनभावना तो उत्पन्न करते ही हैं, साथ ही इस तकनीकी युग में किसी मशीन या वाहन से फंसकर दुर्घटना भी करा सकते हैं। स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से भी अत्यधिक ढीले कपड़े उचित नहीं माने जाते।

फैशन के बहाव में बहकर अत्यधिक चुस्त व अत्यधिक ढीले-ढाले कपड़ों को पहनने की भावना या प्रवृत्तियों का त्याग ही हितकर होता है। अत्यधिक चुस्त कपड़ों को पहनने से त्वचा रोग, उदर रोग, यौन रोगादि का शिकार सहजता से बना जा सकता है। स्तनों पर अत्यधिक कसाव होने से ट्यूमर भी हो सकता है तथा कालांतर में स्तन लटक भी सकते हैं। अत्यधिक चुस्त पैंट पहनने से पुरूषों में अंडकोश संबंधी अनेक बीमारियां हो सकती हैं। वस्त्रों को सिलवाने से पहले यह निर्णय आपका स्वयं का होगा कि वस्त्र चुस्त हों या अत्यधिक ढीले-ढाले या मध्यम।

- पूनम दिनकर

Share it
Top