महिला, 4 बच्चों के हत्यारे की फांसी की सजा बरकरार

महिला, 4 बच्चों के हत्यारे की फांसी की सजा बरकरार

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने महिला और चार बच्चों के हत्यारे को निचली अदालत से पांच बार मिली फांसी की सजा बुधवार को बरकरार रखी। हत्यारे फैसल ने 2009 में पेशावर में डकैती के दौरान चार महिलाओं, उनके तीन बच्चों और अवयस्क नौकरानी की हत्या कर दी थी। उसे पांच बार फांसी की सजा सुनाई गयी थी। फैसल ने फांसी की सजा के खिलाफ उच्चतम न्यायालय ने अपील दायर करके सजा को उम्र कैद में तब्दील करने का आग्रह किया था। उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश आसिफ सईद खोसा ने इस मामले पर टिप्पणी की कि महिला और बच्चों की हत्या आभूषण चुराने के लिए की गयी। उन्होंने कहा कि बच्चों की हत्या इसलिए कर दी गयी कि वह गवाह नहीं बन सके। मुख्य न्यायाधीश ने कहा कि हत्यारे ने अपनी करतूत छिपाने के लिए घर को आग लगा दी। खैबर पख्तूनवा की प्रांतीय सरकार ने फैसल की याचिका का विरोध किया था। अतिरिक्त महा अभियोजक ने न्यायालय में कहा कि हत्यारे ने पांच लोगों की हत्या की है और उसके साथ किसी प्रकार की नरमी नहीं बरती जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि हत्यारे ने मजिस्ट्रेट के समक्ष अपना अपराध कबूला था।

Share it
Top