ईरान परमाणु समझौते के साथ रहना सर्वोत्तम : मर्केल

ईरान परमाणु समझौते के साथ रहना सर्वोत्तम : मर्केल

बर्लिन। जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने कहा कि ईरान की क्षेत्र में भूमिका और उसके बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम के बारे में अंतरराष्ट्रीय चिंता को दूर करने का सबसे अच्छा तरीका परमाणु सौदे के ढांचे के भीतर रहना है।
सुश्री मर्केल ने कहा कि अमेरिका के ईरान परमाणु समझौते से अलग होने के बावजूद ऐसा करना बेहतर होगा। उन्होंने आज संसद के निचले सदन के सांसदों को संबोधित करते हुए कहा, प्रश्न यह है कि आप समझौते को ठुकराकर या उसमें बने रहकर बेहत्तर ढंग से बातचीत कर सकते हैं...हमारा कहना है कि आप इसमें बने रहकर बेहतर ढंग से बातचीत कर सकते हैं।
यूरोपीय शक्तियों ने ईरान के तेल और निवेश प्रवाह को बनाये रखने की कोशिश के बीच इस सप्ताह 2015 के परमाणु समझौते को बगैर अमेरिका के कायम रखने का वचन दिया। उन्होंने हालांकि स्वीकार किया कि उन्हें तेहरान की ओर से मांगे गयी गारंटी को प्रदान करने में संघर्ष करना होगा।
वर्ष 2016 में संयुक्त राष्ट्र परमाणु वाचडॉग की कड़ी निगरानी में ईरान की ओर से अपने परमाणु कार्यक्रम नियंत्रित किये जाने के कारण तेहरान तथा विश्व की छह शक्तियों के बीच हुए समझौते से अधिकांश अंतरराष्ट्रीय पाबंदियां हटा ली गयी थीं।
सुश्री मर्केल ने कहा,Þ इस समझौते में आदर्श को छोड़ बाकी सबकुछ है लेकिन अंतरराष्ट्रीय परमाणु प्राधिकारों की जानकारियों के मुताबिक ईरान समझौते को लेकर प्रतिबद्ध है।
गत सप्ताह श्री ट्रम्प ने इसे, अब तक का सबसे खराब समझौता बताते हुए समझौते को खारिज कर दिया था तथा ईरान पर फिर से अमेरिकी प्रतिबंधों को लागू कर दिया था।

Share it
Top