ग्वाटेमाला ने भी यरुशलम में खोला दूतावास

ग्वाटेमाला ने भी यरुशलम में खोला दूतावास

यरुशलम। ग्वाटेमाला ने आज पवित्र शहर यरुशलम में अपना दूतावास खोल दिया। दो दिन पहले अमेरिका की ओर से भी दूतावास खोला गया था जिसको लेकर फिलीस्तिनियों में खासा आक्रोश हैं तथा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी इसकी निदा की गयी है।
अमेरिका की ओर से यरुशलम में दूतावास खोले जाने के विरोध में गाजा सीमा पर सोमवार को प्रदर्शन कर रहे फिलीस्तीनी लोगों पर इजरायली सैनिको ने गोलीबारी करनी पड़ी थी जिसमें कई लोग मारे गये थे। कई सप्ताह से जारी इजरायल विरोधी प्रदर्शनों के कारण तनाव चरम पर है।
ग्वाटेमाला के राष्ट्रपति जिम्मी मोराल्स और इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामीन नेतन्याहू पश्चिमी यरुशलम स्थित एक कार्यालय परिसर में नए दूतावास के उद्घाटन के मौके पर मौजूद थे। श्री नेतन्याहू ने इस मौके पर कहा,यह महज संयोग नहीं है कि ग्वाटेमाला यरुशलम में अपना दूतावास खोलने वालों में अग्रणी है। आप हमेशा से प्रथम आने वालों में शुमार रहे। आप इजरायल को मान्यता देने वाले दूसरे देश हैं।
ग्वाटेमाला यरुशलम को इजरायल की राजधानी के तौर पर मान्यता देने के श्री ट्रम्प के दिसंबर में लिये गये निर्णय का समर्थन करने वाले चंद देशों में शामिल है। यह पवित्र शहर में अपना दूतावास खोलने वाला दूसरा देश है। पराग्वे ने कहा कि वह मई के अंत में अपना दूतावास तेल अवीव से यरुशलम में स्थानांतरित कर देगा।
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने दशकों पुरानी अमेरिकी नीति में बदलाव करते हुए इजरायल को मान्यता देने की घोषणा की थी जिससे पूरा अरब विश्व तथा पश्चिमी सहयोगियों के बीच तनाव फैल गया।
यरुशलम की स्थिति इजरायल और फिलिस्तीनियों के बीच शांति समझौता कराने के लिए सबसे कठिन बाधाओं में से एक है। व्यापक अंतरराष्ट्रीय समर्थन के साथ फिलीस्तीन 1967 के पश्चिमी एशिया युद्ध में इजरायल द्वारा कब्जा किये गये पूर्वी यरुशलम को अपना राजधानी बनाना चाहता है।

Share it
Share it
Share it
Top