कांगो में इबोला से निपटने के लिये कारगर सिद्ध हो रहे हैं नये उपाय: संरा

कांगो में इबोला से निपटने के लिये कारगर सिद्ध हो रहे हैं नये उपाय: संरा

किंशासा। संयुक्त राष्ट्र के शांति स्थापना संचालन विभाग और विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) ने कहा अफ्रीका के लोकतांत्रिक गणराज्य कांगो (डीआरसी) में इबोला वायरस के प्रकोप की चुनौतियों से निपटने के लिए नये उपायों का सकारात्मक प्रभाव पड़ रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेश डॉ. टेड्रोस एडहानोम गेबेरियस और संयुक्त राष्ट्र के शांति मिशन के अपर महासचिव जीन पियरे लैक्रोइक्स, स्वास्थ्य मंत्री डॉ. ओली इलुंगा कलेंगा के साथ सात नवंबर को डीआरसी के पूर्वी शहर बेनी का दौरा किया, जहां वे स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं, सिविल सोसाइटी के प्रतिनिधियों, शांतिसेना और स्थानीय अधिकारियों से मुलाकात की। श्री लैक्रोइक्स एवं डॉ. टेड्रोस ने डीआरसी के प्रधानमंत्री ब्रुनो शिवाला से भी मुलाकात की और उनके साथ इबोला वायरस से निपटने के लिए समर्थन देने के साथ-साथ अपने निरीक्षण और सिफरिशों पर चर्चा की। उन्होंने कहा कहा कि हमें कई कठिन चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है लेकिन परिणाम उत्साहजनक और प्रेरणादायक है। हमारे प्रयास कई जगहों में बेहद सफल रहे हैं और वे वायरस के प्रकोप को समाप्त करने और लोगों का जीवन बचाने की कोशिशें जारी रखेंगे। गौरतलब है कि अगस्त में इबोला वायरस फैलने के बाद से अब तक 308 मामले सामने आये हैं और इसमें 191 लोगों की मौत हो गयी है। इनमें से लगभग आधे मामले आठ लाख आबादी वाले बेनी शहर के हैं। यह देश की 10वीं बड़ी बीमारी है। इससे पहले 1976 में यांबुकु में 318 मामले सामने आये थे जिसमें से 280 लोगों की मौत हुई थी।

रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

Share it
Top