मुजफ्फरनगर से आतंकी गिरफ्तार...स्वतंत्रता दिवस पर धमाका करने की साजिश नाकाम, देवबंद से चार संदिग्ध दबोचे

मुजफ्फरनगर से आतंकी गिरफ्तार...स्वतंत्रता दिवस पर धमाका करने की साजिश नाकाम, देवबंद से चार संदिग्ध दबोचे

मुजफ्फरनगर/सहारनपुर। उत्तर प्रदेश के आतंकवादी निरोधक दस्ता (एटीएस) और सहारनपुर पुलिस ने आज मुजफ्फरनगर से एक आतंकवादी को गिरफ्तार करने में बडी सफलता हासिल कर ली है। गिरफ्तार किए गये बंग्लादेशी आतंकी अब्दुल्लाह अल मामून को पूछताछ के लिए ट्रांजिट रिमाण्ड पर लखनऊ लाया जा रहा है।
इसके अलावा एटीएस और सहारनपुर पुलिस ने देवबंद क्षेत्र से बड़ी कार्रवाई करते हुए बांग्लादेश के प्रतिबंधित आतंकी संगठन हरकत-उल जिहाद अल इस्लामिक से जुड़े संगठन अंसार उल्ला बांग्लादेश टीम (एबीटी) के आतंकी अब्दुल्लाह अल मामून को गिरफ्तार किया है, जबकि चार अन्य संदिग्धों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है। पुलिस ने अब्दुल्ला के कब्जे से बम बनाने का पदार्थ और उसके बनाने की विधि संबंधी पुस्तक के अलावा तहसीलदार, गांव प्रधान, एडीओ समेत कई अफसरों की तीस मोहरें, कलर प्रिन्टर और जेहादी साहित्य का बड़ा जखीरा भी बरामद किया गया है। बंग्लादेशी आतंकी की गिरफ्तारी एटीएस के अपर पुलिस अधीक्षक ब्रिजेश श्रीवास्तव और पुलिस उपमहानिरीक्षक सहारनपुर परिक्षेत्र के सुनील ईमैनुअल की अगुवाई में हुई। इस दौरान आतंकियों का सरगना फैजान पुलिस को चकमा देकर भागने में सफल रहा। पकड़े गये अन्य संदिग्ध लोगों से एटीएस और खुफिया एजेंसियां पूछताछ कर रही है। राज्य के अपर पुलिस महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) आनंद कुमार ने बताया कि पिछले कुछ दिनों से एटीएस की टीम सहारनपुर के देवबंद में संदिग्ध आतंकियों की तलाश में लगी हुई थी। पुलिस को सूचनाएं मिली थी कि बांग्लादेशी आतंकी संगठन 15 अगस्त को धमाके करने की योजनाएं बना रहा है और गिरोह के सक्रिय आतंकी सदस्य देवबंद नगर में पनाह लिए हुए है। उन्होंने बताया कि एटीएस की टीम ने मुजफ्फरनगर जिले के चरथावल इलाके कुटेसरा गांव से बांग्लादेशी आतंकी अब्दुल्ला को गिरफ्तार किया। आतंकी देवबंद क्षेत्र के अंबेहटा शेखा गांव की एक मस्जिद में वर्ष 2०11 से रह रहा था और आतंकियों को शरण देने, पासपोर्ट और पहचान पत्र बनवाने समेत उन्हें आर्थिक सहायता मुहैया कराता था। श्री कुमार के अनुसार पकड़े गए संदिग्ध और फरार आतंकी फैजान देवबंद के दीनी मदरसों में शिक्षा ले रहे थे या नहीं इसके तो अभी पुख्ता सबूत नहीं मिले हैं, लेकिन इतनी जानकारी जरूर मिली है कि वे लोग इन संस्थाओं में खूब आते जाते थे और इन संस्थाओं के संपर्क में रहते थे।
इस बीच देवबंद के पास अंबेहटा शेखा मस्जिद में रह रहे मौलवी अब्दुल्ला पुलिस की सरगर्मियों की खबर पाकर सतर्क हो गया और अंबेहटा शेखा छोड़कर उसने मुजफ्फरनगर के थाना चरथावल के कस्बा कुटेसरा में कहीं शरण ले ली थी। पुलिस और एटीएस ने उस आतंकी को वहीं से धर दबोचा उससे मिली सूचनाओं के बाद फैजान और दूसरे संदिग्धों के ठिकानों पर छापेमारी की गई लेकिन फैजान पुलिस को चकमा देकर भाग गया। शामली और देवबंद से हिरासत में लिये गये संदिग्धों में से दो कश्मीर, एक बांग्लादेश और एक बिहार का रहने वाला है। इनके अलावा अन्य लोगों से भी पूछताछ की जा रही है। अपर पुलिस महानिदेशक ने कहा कि इन आतंकियों का मुजफ्फरनगर के पिछले दिनों कश्मीर में पकड़े गए संदीप शर्मा से कोई संबंध नहीं हैं। देवबंद से समय-समय पर बांग्लादेशी नागरिक गिरफ्तार किए जाते रहे है। बांग्लादेश के मुस्लिम युवकों में देवबंद की दीनी तालीम की संस्थाओं दारूल उलूम में शिक्षा ग्रहण करने का बहुत ज्यादा आकर्षण है, लेकिन छात्रों को वीजा नहीं मिलता है। फिर भी बहुत से युवक चोरी छिपे देवबंद पहुंच जाते हैं लेकिन यहां भी उन्हें वैध प्रमाण पत्र नहीं होने के कारण दाखिला नहीं मिलता है। इसके बावजूद ये छात्र चोरी छिपे संस्थाओं में बिना प्रवेश के तालीम पाने के प्रयासों में लगे रहते हैं और साथ ही देशद्रोही और आतंकी गतिविधियों में भी गाहे-बगाहे शामिल हो जाते हैं। पुलिस और एटीएस टीम एवं खुफिया एजेंसियां लगातार देवबंद में आतंकियों एवं संदिग्धों की गतिविधियों पर नजर रखती है और मौका पाते ही उन्हें धर दबोचने का काम करती है। खुफिया विभाग के उच्च स्तरीय सूत्रों के मुताबिक गिरफ्तार किए गए संदिग्धों से महत्वपूर्ण जानकारियां मिलने की संभावना है। पकड़ा गया आतंकी बांग्लादेश के जिला मोमिन शाही के गांव हुसैनपुर का निवासी है। फरार फैजान भी बंगलादेशी आतंकी है और अंसारुल्ला बांग्ला टीम से जुड़ा है। आतंकी अब्दुल्लाह से प्रारम्भिक पूछताछ से पता चला है कि बांग्लादेश निवासी फैजान देवबन्द में रहकर देवबन्द से आंतकियों विशेष रूप से बांग्लादेशी को फर्जी आई डी तैयार कर भारत मे सुरक्षित रहने में सहायता करता था। फैजान की पुलिस तलाश कर रही है।

Share it
Top