प्रियंका का मैराथन बैैठकों का दौर जारी, कार्यकर्ताओं से जानी जमीनी हकीकत

प्रियंका का मैराथन बैैठकों का दौर जारी, कार्यकर्ताओं से जानी जमीनी हकीकत

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजनीति में हाशिये पर टिकी कांग्रेस की जड़ों को सींचने की जिम्मेदारी के साथ रात दिन ताबड़तोड़ बैठकों को अंजाम दे रहीं पार्टी की नवनियुक्त महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने बुधवार को कार्यकर्ताओं को गुटबाजी से विरत होकर भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ संगठित होकर काम करने की नसीहत दी।

कार्यकर्ताओं के साथ पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी ने मंगलवार को शुरू किया बैठकों का दौर बुधवार तड़के पांच बजे तक अनवरत जारी रहा। इस दौरान उन्होने कार्यकर्ताओं से पार्टी की जमीनी सच्चाई हासिल करने का प्रयास किया और उन्हे जीत के लिये एकजुटता बनाये रखने का मंत्र दिया। उन्होने कहा कि सत्तारूढ़ भाजपा की नीतियों से जनता गुस्से में है और इसी का फायदा उठाते हुये उन्हे इस चुनाव को कांग्रेस के पक्ष में करनेे का भरपूर मौका है। श्रीमती वाड्रा ने आज कुछ देर विश्राम के बाद फिर से बैठक का सिलसिला शुरू कर दिया। कार्यकर्ताओं से आत्मीयता से मुलाकात कर रही प्रियंका ने हर जिले में पार्टी की समस्यायों के बारे में विस्तार से पड़ताल की और उनको आश्वस्त किया कि आगे भी वह उनके संपर्क में रहेेंगी। वह जिलों में जाकर भी कार्यकर्ताओं से मुलाकात करेंगी। प्रियंका से मुलाकात करने के बाद प्रफुल्लित यूथ कांग्रेस के पूर्व प्रदेश महासचिव अशोक सिंह ने कहा 'आप लोग नौजवानों, बुजुर्गों, महिलाओं समेत समाज के सभी वर्गों को साथ लेकर चलें। मैं सबको एक साथ देखना चाहती हूं। सभी लोग 2019 के लिये तैयार रहिये।' अम्बेडकर से आये उत्तर प्रदेश कांग्रेस के सचिव अजय सिंह ने बताया कि प्रियंका सभी जिलों को एक एक घंटे का समय दे रही है। वह अलग अलग कार्यकर्ताओं से कांग्रेस को मजबूत करने के उपायों के बारे मेें पूछ रही हैें। प्रियंका ने कहा कि कार्यकर्ता गुटबाजी से बिल्कुल दूर रहें और भाजपा की खराब नीतियों के खिलाफ सड़कों पर उतरकर संघर्ष करें। कार्यकर्ता काम करें और कोई समस्या हो तो लिखित में शिकायत करें। प्रियंका ने एक फोन नम्बर भी दिया है। जिस कार्यकर्ता को कोई दिक्कत हो, उस पर फोन करे। कांग्रेस महासचिव ने कहा कि वह इन बैठकों में जो कार्यकर्ता उनसे मुलाकात नहीं कर पाये हैं, उन्हें निराश होने की जरूरत नहीं है। वह जिलों के कार्यक्रमों के दौरान उनके घर जाकर मिलेंगी। प्रियंका ने लोकसभावार मैराथन बैठकों के सिलसिले के तहत मंगलवार रात करीब साढ़े 11 बजे अमेठी संसदीय क्षेत्र के नेताओं और कार्यकर्ताओं से बातचीत में प्रियंका ने हर समस्या के जवाब में कहा 'मैं हूं ना', अब मैं देखूंगी। उधर, पश्चिमी उत्तर प्रदेश के प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी प्रियंका के ही नक्शेकदम पर चलते हुए संगठन की नब्ज टटोलने की कोशिश की। सिंधिया से मुलाकात करने वाले आगरा के अवधेश त्रिपाठी ने बताया कि कांग्रेस महासचिव ने वर्ष 2014 की पराजय के कारणों, संगठन में सुधार के उपायों और आगामी चुनाव के प्रत्याशियों की योग्यता आदि के बारे में विस्तार से चर्चा की।

Share it
Top