प्रियंका, सिंधिया ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं के संग की बैठक

प्रियंका, सिंधिया ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं के संग की बैठक

लखनऊ। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ मेगा रोड शो की सफलता से उत्साहित पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने मंगलवार को कार्यकर्ताओं के साथ बैठक कर भावी रणनीति पर चर्चा की।

श्रीमती वाड्रा सोमवार देर शाम पति राबर्ट वाड्रा के साथ जयपुर रवाना हो गई थी, जहां श्री वाड्रा की प्रर्वतन निदेशालय (ईडी) के समक्ष सुनवाई होनी थी। कांग्रेस महासचिव मंगलवार दोपहर एक बजे वापस लखनऊ आ गयी और कार्यकर्ताओं के साथ बैठक की शुरूआत कर दी। पूर्वी उत्तर प्रदेश की 42 सीटों पर कांग्रेस की उम्मीदों को मजबूत करनेे के इरादे से चार दिनों के प्रवास पर आई प्रियंका ने दूसरे दिन भी मीडिया से दूरी बनाकर अपनी चुप्पी बरकरार रखी। जयपुर से यहां पहुंचने के बाद प्रियंका ने पार्टी कार्यालय पर मौजूद संवाददाताओं से हाथ हिलाकर अभिवादन किया और बैठक के लिये चली गयी। पश्चिमी उत्तर प्रदेश की कमान संभाल रहे पार्टी महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सुबह पार्टी दफ्तर में डट गये थे, जहां उन्होने कार्यकर्ताओं के साथ बैठक का दौर शुरू कर दिया। इस बीच वह प्रियंका को रिसीव करने के लिये दोपहर में एयरपोर्ट के लिये निकले थे। बाद में दोनो महासचिव अलग अलग कार्यकर्ताओं के साथ बैठक में मशगूल हो गये। कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि नेहरू भवन की पहली मंजिल पर बने कांफ्रेंस हाल में प्रियंका कार्यकर्ताओं से वार्तालाप कर रही थी जबकि उससे सटे कमरे में सिंधिया अपने काम को अंजाम देने में जुटे थे। नेता ने कहा 'प्रियंका के आज देरी से पहुंचने के कारण लोकसभा सीटों में मामूली बदलाव हुआ है। धौरारा लोकसभा सीट के लिये प्रियंका को कार्यकर्ताओं से बात करनी थी, जिसकी जिम्मेवारी श्री सिंधिया ने पूरी की। इस तरह कुछ अन्य सीटों पर भी अदला बदली हुयी है।' इस दौरान करीब प्रियंका ने करीब 20 नेताओं से बात कर उनके विचार जाने और उनसे जमीनी सच्चाई की टोह ली। कार्यकर्ताओं को करीब एक घंटा बोलने की इजाजत दी गयी। नवनियुक्त महासचिव ने कार्यकर्ताओं से पार्टी की समस्यायों और कमजोरी के बारे में जाना और उनसे इसकी मजबूती के लिये राय मांगी। श्रीमती वाड्रा और श्री सिंधिया का कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के साथ बैठक का दौर देर रात तक जारी रहने के आसार हैं। हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि प्रियंका रात्रि प्रवास लखनऊ में करेंगी या फिर वह जयपुर अथवा दिल्ली चली जायेेंगी। दोनो नेता 15 फरवरी तक लखनऊ में रह कर 80 लोकसभा सीटो के नेताओं से विचार विमर्श कर प्रदेश में पार्टी का जनाधार मजबूत करने का प्रयास करेंगे।

Share it
Top