जूठा खाने से भी उत्पन्न होती हैं बीमारियां

जूठा खाने से भी उत्पन्न होती हैं बीमारियां

अक्सर ऐसा माना जाता है कि आपस में मिल बैठकर जूठा खाना खाने से प्रेम और अधिक बढ़ जाता है। शायद इसी प्रेम से वशीभूत होकर ही श्री रामचन्द्र ने शबरी के जूठे बैर भी खा लिये थे परंतु इसी जूठा खाने की वजह से आजकल मनुष्यों में कई बीमारियां भी जन्म लेने लगी हैं। एक-दूसरे का जूठा खाने से जहां तमाम लोगों के सीने में जलन होने लगी है वहीं दूसरी ओर एसिडिटी, अपच और पेट में दर्द होने जैसी बीमारियां भी धीरे-धीरे बढऩे लगी हैं।
यही नहीं, सर्दियों के मौसम में तो फ्लू एवं निमोनिया के रोगाणुओं के लारों द्वारा अनगिनत बीमारियां तक फैलने लगती हैं। इसीलिए डाक्टरों की सलाह है कि खाद्य पदार्थों के सामूहिक प्रयोगों से स्वयं को बचाना चाहिए क्योंकि यदि जूठा खाएंगे तो बाद में पछताएंगे।
डाक्टरों का कहना है कि 'हॉलिको वैक्टर पाइलोराइडÓ नामक जर्म होंठ, जीभ और जूठे बर्तन के माध्यम से खाने को शीघ्र ही संक्रमित कर देते हैं जिससे यदि कोई व्यक्ति बीमार होने की दशा में उस रोग के रोगाणु वाले के साथ बैठकर खाता है तो वह थाली के जरिये दूसरे व्यक्ति के मुंह में प्रवेश कर जाते हैं। तब यही समस्त नए रोग उत्पन्न होकर मुसीबत का सबब बन जाते हैं।
अगर आज तक आप भी इस बात से अनजान होकर जूठा खाने की प्रथा को फॉलो कर रहे हैं तो जल्दी ही सतर्क हो जाइये वरना कौन सी बीमारी कब आपको धर-दबोचे, कुछ नहीं कहा जा सकता। यह जरूरी नहीं है कि हॉलिको वैक्टर पाइलोराइड के जरिए उपरोक्त बीमारियां ही व्यक्ति को परेशान करें अपितु ब्रेन फीवर, डिप्थीरिया आदि कुछ खतरनाक ऐसी और भी कई बीमारियां हैं जिसके फैलने की आशंका बनी रहती है जिनके रोगाणु पीडि़त की लार में हमेशा मौजूद रहते हैं।
हाल ही में आइसक्रीम का एक ऐसा एड देखने को मिला है जिसमें लड़की आइसक्रीम खाने के उपरांत लड़के की छाती पर कुछ इस तरह गिरती है कि उसकी जूठी आइसक्रीम लड़के के मुंह में आ जाती है। निस्संदेह, टैक्नीशियन हेतु यह एक परफैक्ट शॉट रहा होगा, किंतु उस लड़के के लिए यह एक परेशानी की वजह बन सकती है क्योंकि बहुत संभव है कि ऐसा करते समय लड़की की कुछ लार लड़के के मुंह में चली गई होगी और वह अपने संग ढेरों कीटाणु भी ले गई होगी। फलस्वरूप, यही रोग फैलाने के लिए पर्याप्त होगा जो उसे डॉक्टरों तक पहुंचायेगा।
यहां दिलचस्प बात यह है कि सिर्फ जूठा भोजन ग्रहण करने से ही रोगों के उत्पन्न होने की संभावना नहीं रहती बल्कि एक-दूसरे से मांग कर पी गई शराब, बीड़ी, सिगरेट, सिगार, हुक्का इत्यादि भी शेयर करने से भयंकर रोग हो सकते हैं। सो जहां तक संभव हो सके इन चीजों को शेयर करके प्रयोग करने पर विराम लगाएं बेहतर साबित होगा।
इसके अलावा अपने परिवार में मौजूद बड़ों के अतिरिक्त छोटे बच्चों को भी एक-दूसरे का जूठा खाना खाने से रोकें, तभी आप अनगिनत जन्म लेती बीमारियों से खुद को सुरक्षित रख पाएंगे अन्यथा आपको बीमार होने से कोई नहीं रोक सकता।
-अनूप मिश्रा

Share it
Top