मुश्किल नहीं है मधुमेह पर काबू पाना

मुश्किल नहीं है मधुमेह पर काबू पाना

आधुनिक जीवनशैली ने बहुत सी सुख सुविधाएं दी हैं। उन सुख सुविधाओं के साथ मानव तनावग्रस्त भी हुआ है। इन चिंताओं और तनावों से ग्रस्त मनुष्य को कई घातक बीमारियों ने आ घेरा है, उनमें से अब मधुमेह भी एक 'स्लो किलर' बीमारी है। यह बीमारी चाहे 'स्लो किलर' है पर यदि समय रहते इस पर नियंत्रण कर लिया जाए तो आप भी स्वस्थ जीवन बिता सकते हैं। बस आवश्यकता है दिनचर्या में बदलाव की।

अपने वजऩ पर नियंत्रण रखें:-

शरीर और आयु के अनुसार आदर्श वजऩ होना आपके आत्मविश्वास और स्वास्थ्य को बनाए रखने में सहायक होता है। अधिक वजऩ हृदय रोग, उच्च रक्तचाप, अस्थि रोग और मधुमेह जैसी बीमारियों की जड़ है।

पौष्टिक आहार:- हमारा दैनिक आहार साधारण होना चाहिए। हमें आर्गेनिक ढंग से उगाई गई सब्जियों और फलों का सेवन अधिक करना चाहिए। ताजे फल, सब्जियां, अंकुरित अनाज, दालें और ढेर सारा पानी नियमित रूप से लेना चाहिए। खाना धीरे धीरे चबा कर खाना चाहिए। खाने में नमक, चीनी और तेल-घी-मक्खन का प्रयोग कम से कम करना चाहिए।

योग और व्यायाम:- तेज चलना, तैरना, साइकिलिंग करना और एरोबिक्स व्यायाम में से कुछ भी नियमित करना चाहिए। इन व्यायामों हेतु कम से कम दिन में 40-60 मिनट तक देने चाहिएं और सप्ताह में कम से कम चार दिन इनके लिए समय अवश्य निकलना चाहिए। व्यायाम के साथ-साथ कुछ योगआसन और मेडिटेशन करना भी आवश्यक है क्योंकि यौगिक क्रियाएं दिमाग को शांत रखने में सहायक होती हैं।

प्राकृतिक जीवनशैली:- प्रकृति के नियमों का पालन करने से हम शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रह सकते हैं। इन सब उपायों को अपनाकर मधुमेह और अन्य कई बीमारियों को अपने से दूर रख सकते हैं। नियमित शारीरिक जांच से हमें बीमारी का आरंभिक अवस्था में ही पता चल सकता है और उस पर काबू पा सकते हैं। डायबिटीज़ हेतु खून की जांच नियमित करवाते रहें।

- नीतू गुप्ता

Share it
Share it
Share it
Top