Read latest updates about "हेल्थ" - Page 1

  • कैसे बचें थकान से

    क्या आप पिछले कुछ दिनों से अपने आप को चुस्त महसूस नहीं कर रही? आप हमेशा चिंतित, परेशान, चिड़चिड़ी, उदासीन रहती हैं। घर के कामों को निपटाने की इच्छा नहीं होती। रोजमर्रा के काम पूरा करने में टाल मटोल कर रही हैं। अधिक बात करना, परिजनों में उठना बैठना, बात बात पर क्रोध आना महसूस कर रही हैं। इसका अर्थ...

  • अंडा खाने से घटता है मोटापा

    अंडा मांसाहार एवं शाकाहार के बीच लटका है। कुछ इसे शाकाहार या मांसाहार मानकर खाने एवं नहीं खाने की सलाह देते हैं। दुनियाभर में खाने के लिए मुर्गी के बाद बत्तख का अंडा सबसे ज्यादा प्रचलित है। यह पोषक आहार है। आहार विशेषज्ञों के एक शोध के मुताबिक यह मोटापा घटाने में मददगार है। प्रतिदिन एक अंडा खाने...

  • यूरिक एसिड ने शरीर को जकड़ रखा है

    शरीर में यूरिक एसिड बढऩे की समस्या बड़ी तेजी से बढ़ रही है। आयु बढऩे के साथ-साथ यूरिक एसिड व गाउट व आर्थराइटिस समस्या का होना तेजी से आंका गया है। लाइफ स्टाइल, खान-पान, दिनचर्या के बदलाव से भोजन पाचन प्रक्रिया के दौरान बनने वाले ग्लूकोज प्रोटीन से सीधे यूरिक एसिड में बदलने की प्रक्रिया को यूरिक...

  • केले के खंबे का रस मधुमेह का कारगर उपाय

    केले के खंबे के सफेद भाग के रस का नियमित सेवन मधुमेह नामक बीमारी को धीरे-धीरे खत्म कर देता है। इसके साथ ही रक्त शुद्धिकरण, लकवा (पैरालिसिस), त्वचा संबंधी रोग व डायरिया भी ठीक होता है। यह दावा केरल राज्य के खादी व ग्रामोद्योग मंडल के विकास अधिकारी द्वारा व्यक्त किया गया है। केरल के विवेकानंद...

  • प्रदूषण से गले को बचा कर रखें

    आज के नगरीय जीवन में प्रदूषण का कहर बढ़ता ही जा रहा है। ऐसे में उसका सर्वाधिक प्रभाव हमारे गले पर पड़ता है। गला शरीर का ऐसा अंग है जो बाहरी तत्वों के सम्पर्क में सर्वाधिक आता है। हम जो भी खाते हैं वह हमारे गले से होकर भोजन नली और पेट में जाता है। हम जो भी पीते हैं वह भी हमारे गले से होकर ही जाता...

  • आसान नहीं है मोटापे से छुटकारा

    मोटापे के संबंध में भिन्न-भिन्न धारणाएं पाई जाती हैं। कुछ लोगों का मत है कि मोटापा खान-पान संबंधी अनियमितताओं का परिणाम है। कुछ लोग मोटापे को वंशानुगत या पैतृक कारण मानते हैं। बहरहाल दोनों ही कारणों पर विचार किया जाये तो यह निष्कर्ष सामने आता है कि एक हद तक तो मोटापा खान-पान संबंधी अनियमिताओं का...

  • मच्छरों को रोको वर्ना!

    विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मच्छर जन्य बीमारियों व मलेरिया बुखार पर दवाइयों के बेअसर होने पर चिंता व्यक्त की है एवं चिकित्सकों को इसके इलाज की नई गाइडलाइन जारी की हैं। भारत की 94 प्रतिशत आबादी मच्छरजन्य बीमारियों डेंगू, मलेरिया, चिकुनगुनिया, फाइलेरिया (हाथी पांव) आदि के खतरे में है। ये सभी बीमारियां...

  • महिलाओं में हार्ट अटैक का खतरा बढ़ा

    सब जगह समानता की मांग करने वाली महिलाओं को भले ही वांछित सफलता नहीं मिल पा रही हो किन्तु बीमारी के मामले में वह पुरूषों की हमकदम हो चुकी हैं। हार्ट अटैक के रोग में भी वह बराबरी की स्थिति में आ गई हैं। मरने वाली महिलाओं में से पचास प्रतिशत की मौत हार्ट अटैक के कारण हो रही है। हृदय की बीमारी के...

  • स्वास्थ्य का रहस्य है मधुर मुस्कान

    ईश्वर प्रदत्त सभी शारीरिक भंगिमाओं से उत्तम है मुस्कान। चेहरा दिल का दर्पण होता है। जो हमारे दिमाग में होता है, उसका प्रभाव चलचित्र की भांति चेहरे पर दृष्टिगोचर हो जाता है। देखने वाला पहचान जाता है कि व्यक्ति बीमार है या खुश। शास्त्र कहते हैं कि हमारे शरीर की 8० प्रतिशत बीमारियां शारीरिक नहीं,...

  • सांस की बीमारी गंभीर रूप धारण कर सकती है

    प्रदूषित वातावरण मिलावटी खाद्य पदार्थ तथा बदलती जीवन शैली के कारण सांस की बीमारियां काफी तेजी से बढ़ रही हैं। सांस की बीमारियों की बढ़ती रफ्तार को देखकर लगता है कि आने वाले दिनों में एड्स और कैंसर के बाद दुनियां की तीसरी खतरनाक जानलेवा बीमारी यही होगी। 'क्रानिक आब्स्ट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज' सांस...

  • प्राकृतिक तरीकों से करें इलाज एक्ने, पिंपल्स और ब्लैकहेड्स का

    चेहरे की त्वचा पर कोई भी दाग-धब्बा, पिंपल, एक्ने हो उससे चेहरे की सुंदरता पर ग्रहण लगता है। अपनी त्वचा को सुंदर और दागहीन बनाने के लिए प्राकृतिक चीजें बहुत लाभप्रद हैं क्योंकि बाजारी क्रीमों में कई तरह के कैमिकल्स होते हैं जो थोड़े समय तक तो उन्हें दबा देते हैं, फिर से अपना कुुप्रभाव दिखाते हैं।...

  • सर्दियों में जऱा संभल के

    सर्दियां जितना लुभाती हैं उतनी ही परेशानियां भी लेकर आती हैं। छोटी-मोटी परेशानियां तो हर मौसम के बदलने पर होती ही हैं लेकिन ठंड के मौसम में परेशानियां अन्य मौसमों से थोड़ी ज्यादा हो जाती हैं। फिर सभी लोग इस प्यार भरे मौसम का खुल के लुत्फ नहीं उठा पाते लेकिन अगर छोटी छोटी बातों का ख्याल रखा जाए तो...

Share it
Top