रसूलपुर गुजरान में फर्जी मतदान को लेकर फायरिंग पथराव, मतदान रहा बाधित

कांधला। थाना क्षेत्र में गांवों में गांव रसूलपुर में बीएसएफ के जवान द्वारा दो बुजुर्गों की वोट दूसरे प्रत्याशी को डालने लेकर बवाल खड़ा हो गया। ग्रामीणों ने मतदान केंद्र पर जमकर हंगामा काटा। जवानों ने पुलिस के साथ मिलकर कई ग्रामीणों की जमकर पिटाई कर दी। ग्रामीणों ने विरोध प्रदर्शन करते हुए पथराव शुरू कर दिया। बीएसएफ के जवानों ने कई राउंड फायरिंग कर दी। सूचना पर डीएम, एसपी तथा बीएसएफ के कमांडेट भी मौके पर आ गए। इस दौरान करीब डेड घंटे तक मतदान बंद रहा। बाद में अधिकारियों के समझाने पर ग्रामीणों ने वोट डालना शुरु किया।

लोकसभा सीट पर प्रथम चरण के लिए सुबह 7 बजे से मतदान शुरू किया गया। चुनाव को लेकर कस्बे व देहात के लोगों में भारी उत्साह देखने को मिला। सुबह के समय से ही मतदान के लिए लोगों की लंबी-लंबी लाइनें लग गई थी। सूचना मिली क्षेत्र के गांव गढ़ीश्याम के स्कूल बूथ संख्या 256 पर हेल्पर लेकर वोट डालने गए वृद्ध चतरु के साथ पीठासीन अधिकारी अमित कुमार ने मारपीट कर दी। आरोप है कि अधिकारी ने हेल्पर को वोट नही डालने दिया और वृद्ध को धक्का देकर बाहर निकाल दिया। पता चलने पर ग्रामीणों ने हंगामा शुरु कर दिया। सूचना मिलने पर अधिकारी भी मौके पर आ गए। अधिकारियों ने ग्रामीणों को शांत करते हुए वृद्ध की वोट डलवाई। गंगेरु के बूथ संख्या 262.63 पर वीपेट मशीन के करीब आधा घंटा तक खराब होने के कारण मतदान बाधित रहा। बाद में दूसरी मशीन लगाकर मतदान चालू कराया। गांव डुंडूखेडा में विशेष समुदाय के लोगों को मतदान से रोकने पर मारपीट की सूचना पर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर हल्का बल प्रयोग कर मतदान कराया। गांव रसूलपुर गुजरान के प्राथमिक विद्यालय नंबर 1 में मतदान को लेकर बवाल हो गया। बूथ संख्या 172 में बुजुर्ग अजमेर व पहल सिंह वोट डालने के लिये आये थे। आरोप है कि मौके पर तैनात बीएसएफ के जवान के द्वारा ग्रामीणों की वोट उनके प्रत्याशी के स्थान पर अन्य प्रत्याशी को डाल दी। पता चलने पर ग्रामीणों ने हंगामा शुरु कर दिया। सूचना मिलने पर एमएलसी वीरेंद्र सिंह भी अपनी टीम के साथ मौके पर आ गए। वीरेंद्र सिंह ने जवानों व पुलिस को ऐसा नही करने के लिए कहा और बूथ से निकलकर चले गए। इस दौरान ग्रामीणों ने मतदान का बहिष्कार कर हंगामा शुरु कर दिया। ग्रामीणों के विरोध के चलते जवानों ने पुलिस के साथ मिलकर कई ग्रामीणों के साथ मारपीट कर दी। इस दौरान ग्रामीणों ने पथराव शुरु कर दिया। जवानों ने कई राउंड फायरिंग कर दी। फायरिंग होने से ग्रामीणों में दहशत फैल गई। आनन-फानन में ग्रामीण घरों में दुबक गए। सूचना मिलने पर डीएम अखिलेश कुमार, एसपी अजय कुमार पांडेय व बीएसएफ के कमांडेट वीरेंद्र दत्त भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए। ग्रामीणों ने अधिकारियों के सामने भाजपा जिंदाबाद के नारे लगाए। इस दौरान करीब डेड घंटा मतदान रुका रहा। बाद में अधिकारियों के समझाने पर ग्रामीणों ने मतदान शुरु किया। इस संबंध में डीएम अखिलेश कुमार का कहना है कि गांव में कुछ ग्रामीण फर्जी मतदान कर रहे थे। जवान ने विरोध किया, तो ग्रामीणों ने हंगामा शुरु कर दिया। जिसके चलते जवान ने हवाई फायरिंग करनी पड़ी। किसी को कोई नुकसान नहीं हुआ है। चुनाव शांति पूर्वक कराया गया है।

Share it
Top