विद्युत एसडीओ पर हमले के आरोप में छ: पर मुकदमा

विद्युत एसडीओ पर हमले के आरोप में छ: पर मुकदमा

थानाभवन। विद्युत उपखण्ड कार्यालय में घुसकर अधिकारी से मारपीट करने व जान से मारने की धमकी देने सहित संगीन धाराओं में नामजद आरोपी छ: लोगों व आठ अज्ञात के खिलाु पुलिस ने मुकदमा पंजिकृत किया। दस वर्षो से चले आ रहे बकाया भुगतान के चलते विद्युत विभाग के कर्मचारियों द्वारा लाईन काटने को लेकर आरोपियों द्वारा विद्युत एसडीओ से मारपीट व गाली गलौच की। विद्युत कर्मचारियों के दोबारा कालौनी में आने पर वापस न आने की धमकी भी दी थी।

विद्युत वितरण उपखण्ंड द्वितीय थानाभवन के उपखण्ड अधिकारी कालीचरण शोभा की ओर से थानाभवन थाना पुलिस ने आरोपितों पदम सिहं कैडी, मंसूर मलिक थानाभवन, नदीम जलालाबाद, शहजाद हसनपुर लुहारी, रिजवान व सलीम काशीराम आवास कालौनी व आठ अज्ञात लोगों के खिलाफ सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाने, बलवा फैलाने आदि सहित धारा 147, 186, 353, 504 व धारा 506 में मुकदमा पंजीकृत किया है। विदित रहे उपखण्ड अधिकारी थानाभवन कालीचरण शोभा ने गत एक सप्ताह पूर्व थानाभवन थाने में तहरीर दी थी कि नगर की काशीराम आवास कालौनी में गत दस वर्षो से विद्युत बिल बकाया चल रहे है। जिसके चलते कालौनी निवासी बकायादारों को बिल भुगतान के लिए विभिन्न तरीकों से भुगतान करने की छूट दी गयी, जिससे नागरिकों को भुगतान करने में कोई कठिनाई न हो सके। जिसमें विभाग द्वारा सरचार्ज समाधान योजना के अन्र्तगत भी बकाया में जुडे ब्याज की माफी की योजना चलाई गयी। परन्तु कुछ लोगों के द्वारा अपनी राजनीति दिखाने को नागरिकों को बहकाया गया जिनके बहकावे में आकर उक्त बकायादारों ने भुगतान जमा नही कराया।

जिस पर विभागीय कर्मचारियों को मजबूरन बकायादारों की लाईन काटनी पडी। आरोप है कि आरोपितों ने लगभग एक दर्जन साथियों के साथ विद्युत उपखण्ड कार्यालय थानाभवन में घुस आये तथा कार्यालय पर मौजूद उपखण्ड अधिकारी कालीचरण के साथ गाली गलौच व अभद्र व्यवाहर करने लगे। जिसका विरोध करने पर आरोपियों ने अधिकारी के साथ धक्का मुक्की भी की। आरोप है कि आरोपियों ने अधिकारी को अपनी राजनीति का रोब गालिब करते हुए देख लेने व झूठे केस में फंसाने की धमकी दी। इस बीच शोर शराबे की आवाज सुन मौके पर पहुंचें विद्युत कर्मचारी सतकुमार, गौरव कुमार आदि ने बीच बचाव कराया। इस बीच आरोपियों ने उपखण्ड अधिकारी को धमकी दी कि अगर कालौनी में दोबारा अधिकारी या उसका कोई कर्मचारी जायेगा तो वह वापस लौट कर नहीं आयेगा।

Share it
Top