आवारा पशु मिलें तो होगी तत्काल गिरफ्तारी...ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने की पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठक

आवारा पशु मिलें तो होगी तत्काल गिरफ्तारी...ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने की पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठक

कैराना। ज्वाइंट मजिस्ट्रेट डा. अमित पाल शर्मा ने कहा कि क्षेत्र के प्रत्येक गांवों पर चारागाह की जमीनों पर हो रहे कब्जों के खिलाफ जल्द ही अभियान चलाकर उसे कब्जामुक्त कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि न्याय पंचायत स्तर पर यदि आवारा पशु छोड़ते हुए मिलें, तो संबंधित व्यक्ति की पशु क्रूरता अधिनियम के तहत तत्काल गिरफ्तारी कराकर कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। शुक्रवार को ज्वाइंट मजिस्ट्रेट/उपजिलाधिकारी डा. अमित पाल शर्मा ने गोवंश आश्रय स्थल को तहसील मुख्यालय पर अपने कार्यालय में पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठक आयोजित की। एसडीएम ने कहा कि ग्रामीण आंचलों में चारागाह की जमीनों पर दबंगों ने अपना कब्जा जमा रखा है, जिनकी कमर तोडऩे के लिए जल्द ही प्रशासन की ओर से अभियान चलाकर जमीनों को कब्जामुक्त कराया जाएगा। यही नहीं, जिन दबंगों का कब्जा है, उन पर भारी-भरकम जुर्माने की भी कार्रवाई की जाएगी और मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि निराश्रित पशुओं के आश्रय के लिए तहसील क्षेत्र के गांव रामडा, जंधेडी, टिटौली, गंदराऊ व अलीपुर के साथ-साथ कंडेला में भूमि चिन्हित कर अस्थाई गौशालाओं को विकसित कराया जाएगा। इस कार्य की जिम्मेदारी खंड विकास कार्यालय को सौंपी गई है, जिसमें ग्राम प्रधानों और सचिवों के साथ ही ग्रामीणों का सहयोग भी सुनिश्चित कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि गांवों में आवारा घूमने वाले पशुओं को गौशालाओं को विकसित नहीं होने तक उनके घरों में बंधवाये जाने की व्यवस्था कराई जाएगी। एसडीएम ने चेताया कि सड़कों पर मंडराने वाले आवारा पशुओं की जांच कराई जाएगी और जो लोग उन्हें आवारा छोड़ रहे हैं, उनके खिलाफ पशु कू्ररता अधिनियम के अंतर्गत कठोर कार्रवाई की जाएगी, जिसमें छह माह तक जेल का प्रावधान हैं। उन्होंने कहा कि गौशालाओं में आश्रय लेने वाले पशुओं के चारे की व्यवस्था चारागाह की भूमि से संपूर्ण व्यवस्था होगी। हमारे क्षेत्र में सबसे अधिक चारागाह की भूमि गुर्जर गांव में स्थित हैं, जबकि अन्य गांवों में भी चारागाह की भूमि को दबाए बैठे दबंगों को बख्शा नहीं जाएगा। एसडीएम ने गौशालाओं की देखभाल के लिए नौ सदस्यीय अधिकारियों की समिति का भी गठन किया। समिति में एसडीएम अध्यक्ष, सीओ उपाध्यक्ष के अलावा उप मुख्य पशु चिकित्साधिकारी, तहसीलदार, नायब तहसीलदार, अधिशासी अधिकारी आदि सदस्य रहेंगे। बैठक में तहसीलदार रनबीर सिंह, सीओ राजेश कुमार तिवारी, डा. लोकेश कुमार अग्रवाल, नायब तहसीलदार कामेन्द्र गुप्ता, बीडीओ गोपाल कृष्ण चौधरी, एडीओ धर्म सिंह आदि मौजूद रहे। [रॉयल बुलेटिन अब आपके मोबाइल पर भी उपलब्ध, ROYALBULLETIN पर क्लिक करें और डाउनलोड करे मोबाइल एप]

Share it
Top