लुटेरे गिरोह के दो शातिर मुठभेड़ में धरे...बाईपास रोड पर घेराबंदी के दौरान पुलिस पर झोंक दिए फायर, तीसरा आरोपी फरार

लुटेरे गिरोह के दो शातिर मुठभेड़ में धरे...बाईपास रोड पर घेराबंदी के दौरान पुलिस पर झोंक दिए फायर, तीसरा आरोपी फरार

कैराना। नगर के शामली बाईपास रोड पर पुलिस की बदमाशों से मुठभेड़ हो गई। कई राउंड फायरिंग के बाद पुलिस ने मौके से लुटेरे गिरोह के दो शातिरों को दबोच लिया, जबकि तीसरा फरार हो गया। मुठभेड़ के दौरान हालांकि कोई घायल नहीं हुआ। आरोपियों के कब्जे से हरियाणा से चुराई गई डीसीएम, दो तमंचे, चार कारतूस के अलावा भैंस व कटिया बरामद हुई। पकड़े गए आरोपियों में एक शामली पुलिस का दस हजारी इनामी बदमाश हैं। उन पर हरियाणा, पंजाब में दर्जनों संगीन मुकदमें दर्ज बताए जा रहे हैं।

गुरूवार रात करीब नौ बजे कोतवाली पुलिस को सूचना मिली कि शामली की ओर से एक डीसीएम टाटा-407 संख्या एचआर 55 सी-9547 में लुटेरे गिरोह के सदस्य कैराना बाईपास से होकर गुजरने वाले हैं, जिस पर पुलिस ने त्वरित एक्शन लेते हुए अपना जाल बिछा दिया। पुलिस के अनुसार, बाईपास रोड पर बदमाशों ने खुद को घिरता देख पुलिस पार्टी पर फायरिंग कर दी, जिसके बाद पुलिस की ओर से भी जवाबी कार्रवाई की गई। इस दौरान पुलिस ने दो आरोपियों को दबोच लिया, जबकि उनका तीसरा साथी मौके से फरार हो गया। हालांकि, मुठभेड़ में किसी को गोली नहीं लगी। पूछताछ में आरोपियों ने अपने नाम अफसर अली पुत्र इकराम कुरैशी निवासी मोहल्ला कुरैशियान बघरा थाना तितावी मुजफ्फरनगर व हाशिम उर्फ पोला पुत्र अनीस कुरैशी निवासी बनत थाना आदर्शमंडी शामली बताए, जबकि फरार आरोपी फरमान निवासी झिंझाना का नाम भी उजागर किया। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से 315 बोर के दो तमंचे मय चार जिंदा कारतूस एवं दो खोखे कारतूस बरामद किए। आरोपियों ने पुलिस को बताया कि उक्त डीसीएम भी हरियाणा से चुराई हुई है और डीसीएम में मौजूद भैंस व कटरी की चोरी के होने की जांच की जा रही है। पुलिस का कहना है कि पकड़े गए हाशिम उर्फ पोला पर शामली पुलिस की ओर से 10 हजार रूपये का इनाम भी घोषित था। आरोपी गिरोह बनाकर लूट और चोरी जैसी वारदातों को अंजाम देते थे। पिछले दिनों आदर्शमंडी इलाके में भी डेरी संचालक से भैंस लूटकर फरार हो गए थे। पुलिस ने आरोपियों पर हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश में लूट, चोरी आदि के दर्जनों मुकदमे दर्ज होने की बात कही है। आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर उन्हें कोर्ट में पेश कर दिया गया, जहां से उन्हें न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया गया।

रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

Share it
Top